पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पैरेंट्स बच्चों को फिर एक्टिव करने में जुटे:लेंग्वेज क्लास, स्पोर्ट्स, म्यूजिक, डांस क्लास सहित अन्य अतिरिक्त गतिविधियों में बच्चों को सक्रिय करने के लिए भेजा जा रहा है

9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • उन्हें स्वयं के लिए खाली समय दें और सामाजिक गतिविधियों से जोड़ें

महामारी के कारण पिछले साल बच्चे घरों में सीमित थे। वे माता-पिता के लिए समस्या बन गए थे। कंप्यूटर, लैपटॉप, टेबलेट, स्मार्ट फोन के स्कीन पर बच्चों का अधिक समय बीतता था। अब अमेरिकी समाज में सभी गतिविधियां शुरू हो रही हैं। इसलिए सक्षम पैरेंट्स बच्चों को फिर महामारी से पहले की गतिविधियों में व्यस्त कर रहे हैं।

लेंग्वेज की क्लास, स्पोर्ट्स, म्यूजिक, डांस क्लास सहित अन्य अतिरिक्त गतिविधियों में भेजा जा रहा है। थोड़ी बहुत एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी बच्चों को कंप्यूटर स्क्रीन से बचाती है और उनमें कुछ चीजों के प्रति दिलचस्पी पैदा करती है। लेकिन 1992 से 2012 के बीच जन्म लेने वाले बच्चों के लिए अतिरिक्त हलचल नुकसानदेह है। उनमें तनाव बढ़ता है। मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। इनसे अमेरिका में अलग-अलग नस्ल के लोगों के बीच अंतर बढ़ा है।

मैंने स्पेलिंग बी में नई पीढ़ी की सफलता पर अपनी किताब में लिखा है कि इससे अब मध्यम वर्ग के गोरे बच्चों के अवसर बेहतर नहीं हो रहे हैं। यह प्रतियोगिता श्वेत बच्चों को ध्यान में रखकर बनाई गई थी। बच्चों को स्पोर्ट्स, म्यूजिक, आर्ट, डांस जैसे कार्यक्रमों में शामिल करने से शारीरिक सक्रियता और बौद्धिकता बढ़ती है। इसके अलावा उन्हें कुछ समय के लिए खाली छोड़ दिया जाए। वे स्वयं अपने मनोरंजन के रास्ते खोजेंगे।

उन्हें सामाजिक गतिविधियों में शामिल होने के लिए प्रेरित करें। लोगों की मदद करने वाले कार्यक्रमों से जोड़ें। उनके पास सप्ताह में कुछ दिन ऐसे रहें जब वे शांति से रहने का आनंद उठाएं।

शालिनी शंकर
(शंकर नार्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी में एशियाई
अमेरिकी अध्ययन की प्रोफेसर हैं।)

खबरें और भी हैं...