पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अमेरिका में वायरस की दूसरी लहर में नया ट्रेंड:युवाओं को खतरा कम: फिर भी अमेरिका के उन शहरों में कोरोना से दोगुनी मौतें जहां सबसे ज्यादा कॉलेज

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विस्कांसिन यूनिवर्सिटी में संक्रमण फैलने के कारण आसपास की आबादी के प्रभावित होने के स्पष्ट सबूत मिले हैं। - Dainik Bhaskar
विस्कांसिन यूनिवर्सिटी में संक्रमण फैलने के कारण आसपास की आबादी के प्रभावित होने के स्पष्ट सबूत मिले हैं।
  • छात्रों से बुजुर्गो और अन्य लोगों के बीच कोरोना संक्रमण के फैलाव ने गंभीर रूप धारण किया

अमेरिका में वायरस की दूसरी लहर के बीच नया ट्रेंड सामने आया है। देश के बाकी हिस्सों के मुकाबले उन शहरों में तेजी से मौतें हुई हैं, जहां कॉलेज ज्यादा हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स ने यह निष्कर्ष 203 काउंटी के विश्लेषण से निकाला है जिनमें दस प्रतिशत आबादी छात्रों की है। अगस्त और सितंबर की शुरुआत में कॉलेजों में छात्रों की वापसी हुई थी। कई संस्थानों ने टेस्टिंग के व्यापक इंतजाम किए। इस बीच, संक्रमण के मामले बढ़ने लगे।

फिर भी, युवा मरीजों में मौतों की संख्या कम होने से स्पष्ट नहीं हो पाया था कि शिक्षा परिसरों में संक्रमण की वृद्धि गंभीर संकट में बदल जाएगी। लेकिन अगस्त के बाद कोरोना वायरस से उन इलाकों में दोगुनी मौतें हो रही हैं जहां कालेज अधिक हैं। दूसरी ओर देश के बाकी हिस्सों में 58 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

मृतकों में कॉलेज छात्रों की संख्या कम है। वहीं काउंटी में रहने वाले बुजुर्ग और अन्य लोगों की संख्या ज्यादा है। स्वास्थ्य अधिकारियों और कुछ मृतकों के परिजनों ने समाज के बीच संक्रमण में बढ़ोतरी और मौतों के लिए छात्रों की बीमारी को जिम्मेदार ठहराया है।

जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग पब्लिक हेल्थ स्कूल में संक्रामक बीमारियों की विशेषज्ञ जेनिफर नुजो कहती हैं, जब आसपास के लोगों में संक्रमण फैलने की दर बढ़ती है तो अधिक मौतें होती हैं। महामारी का प्रकोप होने के बाद टाइम्स के सर्वे में 1800 कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में संक्रमण के तीन लाख 97 हजार मामलों का पता लगा था। 90 कॉलेज कर्मचारियों और छात्रों की मौत हुई थी।

लोक स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार किसी कॉलेज में संक्रमण फैलने और समाज के अन्य लोगों में कोरोना वायरस से मौतों के बीच संबंध अक्सर अप्रत्यक्ष होता है। बड़े पैमाने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग के बिना उसे दर्ज करना मुश्किल है। अमेरिका में कई शहरों में व्यापक कांटेक्ट ट्रेसिंग के संसाधन नहीं हैं। अभी हाल के सप्ताहों में मौतें बढ़ी हैं। इससे शिक्षा परिसरों और अन्य कारणों से पैदा हुई स्थितियों के बीच अंतर करना कठिन हो गया है।

सितंबर,अक्टूबर में जब दूसरे इलाकों में मौतें उच्च स्तर से नीचे थीं तब कई कॉलेजों में संक्रमण बढ़ रहा था। इस ट्रेंड से स्वास्थ्य अधिकारियों को आशंका हुई कि कम लक्षणों वाले युवा अनजाने में संक्रमण फैलाते हैं। इससे कमजोर लोगों के संक्रमित होने की संभावना बढ़ती है।

विशेषज्ञ कहते हैं, संक्रमण फैलने के कई कारण हैं। 11 लाख से अधिक अंडर ग्रेजुएट स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े हैं। इनमें सात लाख से अधिक नर्स, मेडिकल सहायक और स्वास्थ्य कामगार अपने-अपने इलाकों में काम करते हैं। ये लोग नर्सिंग होम और घरों में लोगों की मदद करते हैं। विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के छात्र बड़ी संख्या में रेस्तरां, बार और अन्य सार्वजनिक स्थानों में घूमते हैं, इसलिए दूसरे लोग संक्रमित होते हैं।

इधर, शोधकर्ताओं को कॉलेज छात्रों से दूसरे लोगों के बीच संक्रमण फैलने के सबूत मिलने लगे हैं। कैंसर विशेषज्ञ पेरेक कैनी ने विस्कांसिन यूनिवर्सिटी-ला क्रॉसे के आसपास कोविड-19 फैलने का पता जेनेटिक सीक्वेंसिंग से लगाया है। उन्होंने पाया कि यूनिवर्सिटी में संक्रमण और आसपास के इलाकों में मौतों के बीच संबंध है। डॉ. केनी का कहना है, सितंबर में यूनिवर्सिटी में वायरस संक्रमण के बाद ला क्रॉसे में 18 लोगों की मौत हुई। इनके जेनेटिक फिंगर प्रिंट संक्रमित छात्रों के समान पाए गए।

कई इलाकों में छात्रों से संक्रमण फैलने के सबूत मिले

-इंगम काउंटी, मिशिगन की स्वास्थ्य अधिकारी लिंडा वेल कहती हैं, सितंबर में उनके इलाके में हुई कुछ मौतों का सीधा संबंध मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के छात्रों और अधिकारियों से है। वहां आबादी में छात्रों की संख्या 18 प्रतिशत से अधिक है। काउंटी में अगस्त माह में संक्रमण के 300 नए मामले हुए थे। सितंबर में यह संख्या 1800 हो गई।

-नेब्रास्का यूनिवर्सिटी के पास बफेलो काउंटी की आबादी में छात्रों की संख्या 12 प्रतिशत है। अगस्त तक वहां 330 मामले मिले थे। सितंबर के अंत में संक्रमित लोगों की संख्या तीन गुना अधिक हो गई।

-नार्थ डकोटा की आबादी में 17 प्रतिशत कॉलेज छात्र हैं। अगस्त में जब कॉलेज बंद थे तब प्रति एक लाख लोगों पर हर दिन छह नए मामले होते थे। कॉलेज खुलने के बाद प्रति एक लाख लोगों पर औसतन 94 मामले होने लगे। नवंबर में हर दिन प्रति एक लाख लोगों पर 253 नए केस आए।

डेनियल आइवरी, रॉबर्ट गेबेलॉफ, सारा मर्वोश

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें