पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वायरस से बच्चों की सुरक्षा का सवाल:अमेरिका सहित कई देशों का मानना, वैक्सीन आने तक बच्चों को बचाने की जरूरत

19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विशेषज्ञों ने कहा-सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बच्चों के सामाजिक अलगाव को दूर किया जाए
  • सवाल- वयस्कों को वैक्सीन लग रही तो बच्चों का क्या होगा? 828 विशेषज्ञों की राय, मास्क पहनने जैसी सावधानियां बरती जाएं

अमेरिका सहित कई देशों में लोगों के दिल-दिमाग में कोरोना वायरस से बच्चों की सुरक्षा का सवाल हलचल मचा रहा है। माता-पिता सोचते हैं, वयस्कों को तो कोरोना वायरस वैक्सीन लग रही है लेकिन बच्चों का क्या होगा? न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक सर्वे में संक्रामक बीमारियों और बाल रोगों के विशेषज्ञों से इस संबंध में बातचीत की है। इनमें से 828 ने जवाब दिए हैं।

सर्वे में हिस्सा लेने वाले 92 प्रतिशत लोगों ने बताया कि वे अपने बच्चों को जल्द वैक्सीन लगवाना चाहेंगे। विशेषज्ञ मानते हैं, वैक्सीन आने तक बच्चों के परिवारों को मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग जैसी सावधानियां बरतने की जरूरत है। उनका यह भी कहना है कि बच्चे ऐसी गतिविधियों कर सकते हैं जिनमें खतरा कम से कम है।

अमेरिका में 12 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को वैक्सीन लग रही है। फिर भी, कुछ पैरेंट्स अपने बच्चों को वैक्सीन लगवाने से हिचकते हैं। वे सोचते हैं कि बच्चों को कोविड-19 से कम खतरा है। अधिकतर विशेषज्ञ बच्चों की वैक्सीन आने तक परिवारों को सावधान रहने की सलाह देते हैं।

इसके साथ वे जोर देते हैं कि माता-पिता को बच्चों के सामाजिक रूप से अलग-थलग रहने के खतरों पर भी गौर करना चाहिए। विशेषज्ञ बच्चों पर महामारी के शारीरिक प्रभाव के मुकाबले मानसिक प्रभाव से ज्यादा चिंतित हैं। फिर भी उनका कहना है कि वास्तविक स्थितियों और स्थानीय स्तर पर संक्रमण की दर पर सब कुछ निर्भर करेगा।

विशेषज्ञों ने कुछ परिस्थितियों के संबंध में यह कहा है-

भीड़ भरे आउटडोर सार्वजनिक स्थान

अमेरिका में बीमारी नियंत्रण सेंटरों (सीडीसी) ने वैक्सीन लगवा चुके लोगों को बिना मास्क के लगभग हर जगह जाने की सलाह दी है। लेकिन ऐसे परिवार क्या करें जिनके बच्चों को वैक्सीन नहीं लगी है। संख्या में थोड़े अधिक विशेषज्ञों ने कहा कि अनिश्चितता के बावजूद बच्चे आउटडोर भीड़ भरे स्थानों में मास्क पहनकर जा सकते हैं।

सैन डियागो स्टेट यूनिवर्सिटी की जनस्वास्थ्य इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर कोरिने डेविडसन कहती हैं, मैं मास्क पहनाकर बच्चों को बाहर ले जाउंगी।

अन्य बच्चों के साथ इनडोर मुलाकात

वैक्सीन लगवा चुके वयस्कों के दो परिवारों में मुलाकात की स्थिति में क्या किया जाए। आधे से अधिक विशेषज्ञों ने कहा, विभिन्न परिवारों के वैक्सीन रहित बच्चों की इनडोर मुलाकात नहीं होनी चाहिए। एक तिहाई से थोड़े अधिक ने कहा कि लोगों की संख्या सीमित रखी जाए तो परिवारों के बीच मेलजोल हो सकता है।

पोर्टलैंड स्टेट यूनिवर्सिटी में महामारी विज्ञान की असिस्टेंट प्रोफेसर एमिली हेंके का कहना है, हम बाहर ही रहने की कोशिश करेंगे। चुनिंदा परिवारों के साथ ही बच्चों को अंदर मेलजोल की अनुमति देंगे।

आउटडोर गतिविधियां जहां मास्क जरूरी नहीं है

जिन बच्चों को वैक्सीन नहीं लगी है, उन्हें दूसरे लोगों के आसपास मास्क पहनकर ही जाना चाहिए। दस में से आठ विशेषज्ञों ने कहा, यदि बच्चे खुली जगह में हैं और खतरा कम है तब वे दूसरों से मिल सकते हैं।

आयोवा यूनिवर्सिटी में महामारी विज्ञान के प्रोफेसर रायन कारनाहन कहते हैं, मैं भीड़ भरे स्वीमिंग पूल जैसे स्थान में अपने बच्चे को ऐसे अजनबी लोगों के पास नहीं जाने दूंगा जिन्होंने मास्क नहीं पहने हैं। मैं बच्चों से कहूंंगा कि वे ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखें।

इनडोर गतिविधियां जहां मास्क जरूरी नहीं है

तीन चौथाई विशेषज्ञों ने कहा, अभी कुछ माह तक बच्चे ऐसे इनडोर स्थानों में सुरक्षित नहीं हैं जहां हर समय मास्क पहनना संभव नहीं है। बीकन चिल्ड्रंस हॉस्पिटल में फिजिशियन असद अंसारी का कहना है, अंदर किसी जगह में संक्रमण होने का बहुत अधिक खतरा रहता है। वायरस के अधिक वेरिएंट सामने आए हैं।

इनमें से कुछ बच्चों के लिए अधिक गंभीर हो सकते हैं। कुछ विशेषज्ञ कहते हैं, इस समय बच्चों के लिए रेस्तरां के अंदर बैठकर खाना जरूरी नहीं लगता है।

हवाई यात्राएं और ग्राउंड में हलचल

86 प्रतिशत विशेषज्ञों ने कहा, अमेरिका में इस गर्मियों में बच्चों के लिए हवाई यात्रा करना उसी स्थिति में सुरक्षित है जब बच्चों और बाकी सभी लोगों ने मास्क पहन रखे हों। दो मास्क पहनना चाहिए। कम दूरी की कम हवाई यात्राएं करना चाहिए। जॉन्स हॉपकिंस में जनस्वास्थ्य की असिस्टेंट प्रोफेसर लॉरा हैमिट कहती हैं, लंबी उड़ान में संक्रमण का खतरा बढ़ता है।

यदि हर किसी ने मास्क पहना है तो हवाई यात्रा सुरक्षित है। 66 प्रतिशत विशेषज्ञों का कहना है कि वायरस के खुली जगह में फैलने की आशंका कम रहती है फिर भी बच्चों को मैदानों और घर से बाहर खेलते समय मास्क लगाना चाहिए।

क्लेयर केन मिलर,मार्गोट सांगेर-केट्ज,केविन क्वीली

खबरें और भी हैं...