पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महामारी का कहर से बेसहारा बच्चों पर संकट:भारत में तीन हजार से ज्यादा बच्चे अनाथ हुए, पैरेंट्स के मृत्यु प्रमाणपत्र जुटाने में कठिनाई

9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पट्‌टापुर, उड़ीसा में सोनाली अपने छोटे भाई और बहन के साथ। - Dainik Bhaskar
पट्‌टापुर, उड़ीसा में सोनाली अपने छोटे भाई और बहन के साथ।
  • समय बीतने के साथ कई बच्चों का शोषण किए जाने की आशंका

भारत के पूर्वी तट पर स्थित पट्टापुर गांव में एक छोटे लेकिन रंगों से दमकते मकान में सोनाली रेड्डी अपने छोटे भाई-बहनों को खाना बनाकर खिलाती हैं। रात में लोरी गाकर सुलाती हैं। वह सोचती है कि मां के समान लाड़-प्यार कर उनकी भावनाओं को शांत कर सकेगी। 14 साल की सोनाली परिवार के पालक की भूमिका निभा रही है।

कुछ वर्ष पहले बिजनेस में घाटा उठाने के बाद उसके पिता ने आत्महत्या कर ली थी। मई में कोरोना वायरस की विनाशकारी लहर के बीच संक्रमण से उसकी मां का निधन हो गया। सोनाली उन तीन हजार से अधिक बच्चों में शामिल हैं जो महामारी में अनाथ (राज्य सरकारों के अनुसार) हो गए हैं। इनमें से बहुत बच्चों के सामने मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है।

राज्य सरकारों ने हर अनाथ बच्चे के लिए 500 रु. से 5000 रु. हर माह सहायता देने की घोषणा की है। मुफ्त भोजन और शिक्षा की व्यवस्था अलग है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों के लिए सम्मान की जिंदगी और अच्छे अवसर उपलब्ध कराने का वादा किया है। लेकिन, वकीलों और एक्टिविस्ट को आशंका है कि जब लोगों का ध्यान हट जाएगा तब अनाथ बच्चे उपेक्षा और शोषण के शिकार होंगे।

व्यथित बच्चों को सरकारी सहायता पाने के लिए मृत्यु प्रमाणपत्र जुटाना मुश्किल हो रहा है। कुछ बच्चों की स्कूल में वापसी कठिन होगी। उधर, पट्टापुर में सोनाली की दादी बच्चों के साथ रहने आ गई हैं। सोनाली बताती है, मां ने हम सबको तमाम कठिनाइयों से सुरक्षित रखा था। लगता है, वे अब भी हमारे साथ हैं। इस बीच सरकार ने बच्चों को अनाथ पेंशन का भुगतान कर दिया है। उनके नाम से बैंक खाते खोले गए हैं। उन्हें कई बोरा चावल भी दिया है।

पट्टापुर से सैकड़ों किलोमीटर दूर हैदराबाद शहरमें 13 वर्षीय सात्विक रेड्डी की स्थिति भी सोनाली जैसी है। उसकी तीन साल की बहन हनवी मम्मी, डैडी के बारे में पूछती है। सात्विक के पिता गोपाल, मां गीता और दादी की मई में वायरस से एक के बाद एक मौत हो गई। उत्तरप्रदेश के मुरादनगर में 18 साल के शावेज सैफी और उसकी छोटी बहन कहकशां की कहानी भी आंसुओं और गम के अंधेरे में डूबी है।

शावेज के माता-पिता- शबनम और शमशाद अप्रैल में बीमार पड़े। उनके पास इलाज कराने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं था। कुछ दिन बाद माता-पिता की मृत्यु हो गई। शावेज पिता के साथ कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करता था।

किराया ना चुकाने के कारण शावेज को मकान खाली करना पड़ा है। अब चाचा उसकी मदद करते हैं। वह कहकशां को पढ़ाना चाहता है। पट्टापुर की सोनाली, हैदराबाद के सात्विक और मुरादनगर के शावेज जैसे कई अनाथ बच्चे मुश्किलों से जूझ रहे हैं।

दुनिया में सबसे अधिक बालवधुएं भारत में
दूरदराज के इलाकों में रहने वाले गरीब परिवारों के कई अनाथ बच्चों के बिकने और उनके बाल विवाह का खतरा है। देश में बड़े पैमाने पर बच्चों की तस्करी होती है। यूनिसेफ के अनुसार विश्व में सबसे अधिक बालिका वधुएं भारत में हैं। कुछ सामाजिक धारणाओं के कारण बच्चों को गोद लिए जाने का विकल्प भी मुश्किल है।

महामारी से उभरे सामाजिक मुद्दों पर लिखने वाली दिल्ली यूनिवर्सिटी की कानून की छात्रा मेधा पांडे कहती हैं, देश में भयावह त्रासदी के बीच सरकार छवि बचाने की कोशिश में लगी है। मुसीबतजदा बच्चों के लिए सरकार ने एक छोटा उपसमूह बनाया है।
सुहासिनी राज | पट्टापुर, उड़ीसा
© The New York Times

खबरें और भी हैं...