नए साल में बाजार में उतार की संभावना:ओमिक्रॉन का असर नहीं, पर फेड रिजर्व दरें बढ़ा सकता है

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले दो सालों से अमेरिकी शेयर बाजार महामारी के बीच अमेरिकियों की वास्तविक स्थिति की अनदेखी करता रहा है। सरकार की नीतियों ने बाजार को चढ़ाए रखा। संभावना है कि 2022 में फेडरल रिजर्व महंगाई से निपटने के लिए ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर सकता है। अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के मकसद से चलाए गए सरकारी कार्यक्रम बंद हो सकते हैं।

नीतियों में होने वाले ये बदलाव निवेशकों, व्यवसायों और उपभोक्ताओं पर अलग-अलग असर डालेंगे। विश्लेषकों के अनुसार उनकी हलचल से शेयर बाजार की थोड़ी हवा निकलेगी। फेमिली मैनेजमेंट कॉर्पोरेशन में मुख्य इनवेस्टमेंट अधिकारी डेविड स्कावेल कहते हैं, दो साल में पहली बार फेड रिजर्व के फैसले निवेशकों या उपभोक्ताओं को सतर्क करेंगे।

वैसे, 2021 के अंत में वॉल स्ट्रीट में माहौल था कि 2022 अच्छा होगा। जेपी मोर्गन के एनालिस्ट ने मौजूदा मुद्रास्फीति ( 6.8 प्रतिशत ) के आने वाले महीनों में सामान्य होने की उम्मीद जताई है। यह भी कि ओमिक्रॉन वैरिएंट के फैलने का आर्थिक विकास दर पर असर नहीं पड़ेगा। कॉमनवेल्थ फाइनेंशियल नेटवर्क के अनु गग्गर कहते हैं 2021 का साल इक्विटी मार्केट्स के लिए बहुत शानदार रहा।

शेयर बाजार में उछाल
2021 में एसएंडपी 500 कंपनियों के इंडेक्स में 25 प्रतिशत से अधिक बढ़ोतरी हुई। महामारी के पहले साल में 16 प्रतिशत वृद्धि हुई थी।
70 बार सूचकांक ने 2021 में नई ऊंचाइयों को टच किया था। 1995 में 77 बार के बाद दूसरी बार

क्या हैं 2022 के संकेत
फेड रिजर्व ने दरें बढ़ाई तो कंज्यूमरों और कंपनियों के लिए कर्ज लेना अधिक महंगा हो जाएगा। इससे कंपनियों का मुनाफा घटेगा और उनके शेयर निवेशकों के लिए कम आकर्षक हो जाएंगे। पर्सनल फाइनेंस कंपनी बैंकरेट में एनालिस्ट ग्रेग मेकब्राइड का कहना है, 2022 में शेयरों पर रिटर्न पिछले दो वर्षों के समान अच्छा नहीं रहेगा।

ऊंची ब्याज दरों से शेयरों में निवेश का उत्साह कम होता है क्योंकि सरकारी बांड पर रिटर्न पिछले वर्षों के मुुकाबले अच्छा हो जाएगा। ऐसा हुआ है। 10.61 लाख करोड़ रुपए जुटाए 2021 में 400 प्राइवेट कंपनियों ने।

कोरल मर्फी मार्कोस, एमिली फिटर

खबरें और भी हैं...