न्यूयॉर्क शहर की जेलों में अराजकता:महिला अफसरों पर  कैदियों के यौन हमले, यौन प्रताड़ना और कैदियों के हमलों से संकट गंभीर

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस साल कैदियों द्वारा जेलकर्मियों पर यौन हमले के 19 मामले सामने आए हैं।

न्यूयॉर्क शहर की जेलों में स्टाफ की कमी से अराजकता और हिंसा का माहौल है। अधिकारियों का कहना है कि महिला अधिकारियों के साथ यौन प्रताड़ना और कैदियों के हमलों से संकट गंभीर होता जा रहा है। शहर की जेलों में अाधे से ज्यादा अधिकारी महिलाएं हैं।

पुरुष अधिकारी भी प्रभावित हैं लेकिन शर्म के मारे अपनी स्थिति का बयान नहीं करते हैं। 34 साल की एक महिला अधिकारी का कहना है कि मैंने किसी से पिटने के लिए नौकरी नहीं की है। जेल विभाग और अधिकारियों की यूनियन का कहना है कि वे जेल कर्मियों के खिलाफ यौन हमलों का पता लगाने के प्रयास नए सिरे से कर रहे हैं। इस साल जेलकर्मियों पर हमलों की 24 घटनाएं हो चुकी हैं। विभाग की एक महिला प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि हमारे समर्पित कर्मचारियों के खिलाफ यौन हिंसा पूरी तरह अस्वीकार्य है।

इस साल कैदियों द्वारा जेलकर्मियों पर यौन हमले के 19 मामले सामने आए हैं। इनमें केवल एक व्यक्ति को छोड़कर सभी महिलाएं हैं। हमलों के मामलों में नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पांच अन्य मामलों का संबंध भी कैदियों द्वारा महिला जेल स्टाफ पर यौन हमले की घटनाओं से है। अधिकतर घटनाएं राइकर्स आइलैंड की जेल में हुई हैं। राइकर्स आइलैंड जेल के मामलों की प्रभारी और ब्रांक्स डिस्ट्रिक्ट की अटॉर्नी डारसेल क्लार्क ने पिछले माह सिटी कौंसिल को बताया कि राइकर्स स्टाफ के सदस्यों और दूसरे कैदियों पर हमलों के 45 मामलों में सजा हो चुकी है। स्टाफ पर हमलों के 325 मामलों की जांच चल रही है। सुश्री क्लार्क का कहना है कि राइकर्स जेल की स्थिति बहुत गंभीर है।

कर्मचारियों की जान का खतरा है। पिछले सप्ताह सिटी कौंसिल की डेमोक्रेट सदस्य एड्रियन एडम्स ने जेल के बाहर एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि वे शहर की जेलों में यौन हमले के आंकड़े सार्वजनिक कराने के लिए कौंसिल में एक विधेयक पेश करेंगी। कर्मचारी यूनियन की सदस्य कीशा विलियम्स और अन्य महिला कर्मचारियों ने जेलों में लंबे समय से हो रही यौन प्रताड़ना और हमलों की ओर बाहरी दुनिया का ध्यान आकर्षित करने की मुहिम शुरू की है। उन्होंने इसके तहत मामले की जानकारी सुश्री एडम्स को दी।

विलियम्स का कहना है, हम देख रहे हैं कि कई महिलाओं यौन हमलों और प्रताड़ना का शिकार हुई हैं। फिर भी, कोई कुछ नहीं कर रहा है। महिला कर्मचारियों के सामने कई कैदी बहुत अश्लील हरकतें करते हैं। यूनियन ने जुलाई में राइकर्स जेल में काम की अमानवीय परिस्थितियों का आरोप लगाते हुए अदालत में याचिका दायर की है।

करेन ज्रेक

खबरें और भी हैं...