पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शी जिन पिंग सरकार की अजीबोगरीब तानाशाही:चीन में बाल काले न होने के कारण महिला फुटबॉल टीम ने गंवाया मैच

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चीन में एक यूनिवर्सिटी की टीम ने एक महिला फुटबाल मैच के दौरान प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ियों के बालों पर जताई आपत्ति

खेल के कौशल, ट्रेनिंग या किस्मत को भुला दीजिए। यदि आप चीन में महिला फुटबॉल खिलाड़ी हैं तो कई बार जीत और हार का फैसला बालों के रंग से होता है। अभी हाल में एक यूनिवर्सिटी टीम को यह कड़वा अनुभव हुआ है। पिछले सप्ताह फुझोउ यूनिवर्सिटी और जिमेई यूनिवर्सिटी की महिला टीमों के बीच इंटरकॉलेज टूर्नामेंट में मुकाबला होना था। लेकिन, उन्हें मैच नहीं खेलने दिया गया क्योंकि दोनों टीमों की खिलाड़ियों ने अपने बाल रंगे थे। यह नियमों के खिलाफ है।

टूर्नामेंट के फोटो से दिखता है कि दोनों टीमों की खिलाड़ियों के बाल काले या गहरे भूरे रंग के थे। लेकिन, इन रंगों के शेड संभवत: गलत थे। फुजियन प्रांत में शिक्षा विभाग के नियमों के अनुसार खिलाड़ियों को मैच खेलने के लिए अयोग्य करार दिया जाएगा अगर वे आभूषण या अन्य सामान पहने होंगे या उनकी हेयर स्टाइल विचित्र होगी या उन्होंने बाल डाई किए होंगे। खिलाड़ियों के बाल काले नहीं थे। इसलिए दोनों टीमों के कोच ने काले रंग की हेयर डाई मंगवाई। हर टीम के गहरे काले रंग वाले सात-सात खिलाड़ियों को खेलने के लिए तैयार किया गया। लेकिन, जिमेई यूनिवर्सिटी टीम की सदस्यों ने कहा कि एक प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी के बाल पर्याप्त काले नहीं हैं। उसे बाहर कर दिया गया। एक खिलाड़ी कम होने के कारण फुझोई यूनिवर्सिटी की टीम ने मैच नहीं खेला। फुजियन में केवल महिला खिलाड़ियों पर प्रतिबंध नहीं है। पुरुष खिलाड़ियों के लंबे बाल रखने पर रोक है।

ज्वेलरी और टैटू पर पाबंदी

चीन के राष्ट्रपति शी जिन पिंग की अगुआई में कम्युनिस्ट सरकार चीनी जनजीवन में बहुत अधिक दखल देती है। सेंसर टेलीविजन और इंटरनेट पर युवा पुरुष पॉप गायकों के कानों की ज्वेलरी नहीं दिखाते हैं। एक वीडियो गेम सम्मेलन में महिलाओं से खुले गले के परिधान न पहनने के लिए कहा गया। खेलों में भी कई तरह की पाबंदियां लागू हैं। पिछले साल अबूधाबी में एशियन कप में चीन की पुरुष फुटबॉल टीम को पूरी बांह की शर्ट पहननी पड़ी थी। सरकार ने मैचों के दौरान शरीर में टैटू दिखाने पर बंदिश लगा दी है।

यूनिवर्सिटी टीम की घटना के बाद चीन के माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफार्म वीबो पर बहस छिड़ गई। बाल डाई करने के कारण महिला फुटबॉल टीम मैच हार गई हैशटैग 18 करोड़ बार देखा गया। कई लोगों ने चीन की राष्ट्रीय टीम के कमजोर प्रदर्शन का जिक्र किया। उनकी राय थी कि खेल के दूसरे पहलुओं की बजाय खिलाड़ियों के खेल कौशल को सुधारने पर फोकस किया जाए। कुछ यूजरों ने कहा कि नियम आधुनिक जमाने से मेल नहीं खाते हैं क्योंकि चीन में कॉलेज जाने वाली महिलाएं बाल डाई करती हैं। कुछ अन्य ने अधिकारियों के फैसले का समर्थन किया। उनका कहना था कि खिलाड़ी स्कूली बच्चों के आदर्श होते हैं। इसलिए उनके आचरण का लोगों पर प्रभाव पड़ता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें