रसरंग में टेक एंड गैजेट:जीपीएस ट्रैकर: कार को सुरक्षित करे, ड्राइवर पर भी रख सकता है नज़र

अभिषेक तैलंग20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आमतौर पर किसी भी उपभोक्ता के लिए घर के बाद शायद कार ही सबसे कीमती चीज होती है और कार कहीं चोरी ना हो जाएं, इसका तनाव लगभग हर कार मालिक को होता ही है। वैसे तो कार के अंदर भी कंपनियों की तरफ से अब ऐसे कई इंतजाम पहले से फिट किए जाने लगे हैं, जिससे उसको कोई आसानी से ना चुरा सके। आजकल सभी कारों में इंटेलीजेंट कंप्यूटराइज्ड एंटी-थेप्ट सिस्टम कंपनी फिटेड ही आता है, जिससे बगैर स्मार्ट चाबी की मदद से कार को चालू कर पाना मुश्किल होता है। हालांकि इसके बावजूद भारत में हर घंटे पांच कारें चोरी होती हैं।

वैसे तो बाजार में कार को चोरी से बचाने के लिए कई किस्म के गैजेट मिल रहे हैं, लेकिन कार की सुरक्षा में जितना काम एक जीपीएस ट्रैकर आता है, उतना कोई नहीं। जीपीएस ट्रैकर लगी कार को चुराने से छोटे-मोटे कार चोर बचते हैं। हां, अपनी कार में जीपीएस ट्रैकर फिट करवाते वक्त इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि यह डिवाइस नजरों से दूर कहीं छुपा रहे। कार चोरी होने की स्थिति में भी जीपीएस डिवाइस कहां फिट है, ये चोर को पता ना चलें।

कैसे करता है काम?

ये जीपीएस ट्रैकर एंड्राइड और आई-फोन दोनों के साथ काम करता है। कार के इंजिन के स्टार्ट होते ही आपके फोन पर अलर्ट्स आने शुरू हो जाते हैं। अगर आपकी कार का इंजिन बंद है और उसे धक्का मार के आगे बढ़ाया जा रहा है या टो किया जा रहा है, उस परिस्थिति में भी ये आपको अलर्ट्स भेज देता है। अगर आपकी गाड़ी आपके अलावा और लोग भी चलाते है, तो ये जीपीएस ट्रैकर आपके लिए परफेक्ट है क्योंकि इसके ऐप पर आपको पूरे दिन की लोकेशन हिस्ट्री भी मिलती है। साथ ही आप अपनी गाड़ी की स्पीड लिमिट और मैप पर गाड़ी के लिए सेफ ज़ोन भी बना सकते हैं, जिससे बाहर निकलते ही आपके फोन पर अलर्ट्स मिलने लगेंगे।

क्या-क्या करता है यह काम?

- जैसा कि इस डिवाइस के नाम से स्पष्ट है, कार चोरी होने के केस में यह आपके वाहन को ट्रैक कर सकता है यानी दोबारा खोजने में मददगार साबित होता है।

- अगर आपकी कार को बच्चे या कोई ड्राइवर चलाता है तो आप अपने जीपीएस ट्रैकर की मदद से दूर बैठे ही उस पर और उसकी गति पर नजर रख सकते हैं।

- बाजार में कई ऐसे जीपीएस ट्रैकर भी मिलते हैं, जिनकी मदद से आप मीलों दूर से अपनी कार के इग्निशन को बंद कर सकते हैं। यानी जैसे ही आपको इस बात का एहसास हो कि कोई कार चोरी लेकर चला गया है, सबसे पहले आप यह काम कर सकते हैं।

कौन-सा ट्रैकर बेहतर?

वैसे तो बाजार में कई कंपनियों के जीपीएस ट्रैकर मिलते हैं, पर वनलैप माइक्रो (OneLap Micro) काफी बढ़िया जीपीएस ट्रैकिंग डिवाइस है। यह खासकर उन यूजर्स के लिए काफी अच्छा है, जो रोजाना अपनी कार को ट्रैक करना चाहते हों। इसकी कीमत भी अफोर्डेबेल है जो करीब 6,000 रुपए है। बाजार में आपको अपनी कार के लिए 5,000 से 15,000 की कीमत में और भी कई अच्छे जीपीएस ट्रैकर डिवाइस मिल जाएंगे। इनमें मैप माय इंडिया, ऑटोकॉप, ऑटोविज़, ट्रैक-ए-टेल आदि शामिल हैं।

ये गैजेट्स भी हैं काम के

कार को चोरी से बचाने के लिए बाजार में कई किस्म के गैजेट्स मिलते हैं :

गियर लॉक : ₹1500 - ₹3000 तक

पेडल लॉक : ₹1,200 - ₹4000 तक

स्टियरिंग लॉक : ₹400 - ₹2500 तक

अलॉय व्हिल लॉक नट : ₹550 - ₹2000 तक

कार अलार्म : ₹2000 - ₹14000 तक

खबरें और भी हैं...