रसरंग में 'मुसाफ़िर हूं यारो':स्पीति वैली : सर्दियों में साइबेरिया जैसा एहसास!

नीरज मुसाफिर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर : नीरज मुसाफ़िर - Dainik Bhaskar
तस्वीर : नीरज मुसाफ़िर

अगले कुछ दिनों तक ठंड के जारी रहने की संभावना है। भारत में बर्फबारी को निकट से महसूस करने का यही मौसम होता है। वैसे तो उत्तर भारत में बर्फ को देखने व बर्फ में खेलने की कई जगहें हैं, लेकिन आज हम जिस जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, वह अपने आप में अत्यधिक विशिष्ट है। इस जगह का नाम है स्पीति वैली।

स्पीति वैली हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति जिले का एक हिस्सा है। यह एक शीत मरुस्थल है और इसकी समुद्र तल से ऊंचाई 3000 से 4500 मीटर है। यहां ज्यादा पेड़-पौधे नहीं होते और गर्मियों में यह पूरी वैली भूरे मटमैले पहाड़ों से घिरी होती है, लेकिन सर्दियों में यहां का माहौल एकदम बदल जाता है। सर्दियों में इन भूरे मटमैले पहाड़ों पर बर्फ गिर जाती है और सारे पहाड़ सफेद हो जाते हैं। न्यूनतम तापमान माइनस 30 डिग्री तक पहुंच जाता है। सड़कों पर, घरों पर, पहाड़ों पर हर जगह बर्फ ही बर्फ होती है। लेकिन जनजीवन चलता रहता है। लोग यहां सर्दियों में भी रहते हैं और अपने रोजमर्रा के काम करते हैं। सड़क मार्ग खुला होता है और इस मार्ग पर सर्दियों में यात्रा करने का अनुभव सबसे अलग होता है।

कैसे पहुंचें?

चूंकि मनाली वाला रास्ता सर्दियों में बंद रहता है, इसलिए एकमात्र रास्ता शिमला होते हुए जाता है। शिमला से रिकोंग पिओ, नाको और ताबो होते हुए काजा पहुंचा जा सकता है। काजा स्पीति वैली का सबसे बड़ा गांव है और प्रशासनिक मुख्यालय भी है। शिमला व रिकोंग पिओ से काजा के लिए हिमाचल परिवहन की बसें भी चलती हैं, लेकिन अगर ज्यादा बर्फ हो तो यह बस सेवा कुछ समय के लिए बंद भी हो जाती है। इसलिए बेहतर है कि टैक्सी से स्पीति वैली जाया जाएं। चंडीगढ़, शिमला व रिकोंग पिओ से काजा के लिए आसानी से टैक्सियां मिल जाती हैं। बस ध्यान ये रखना है कि ड्राइवर बर्फ पर गाड़ी चलाने का अनुभवी हो और गाड़ी में स्नो चेन भी रखी हों।

क्या देखें?

सर्दियों में स्पीति में कई विशिष्ट अनुभव होते हैं। स्पीति नदी की चौड़ी घाटी में बर्फ पर जब गाड़ी चलती है, तो ऐसा लगता है जैसे हम साइबेरिया पहुंच गए। नदियां और झीलें जम जाती हैं और इन पर पैदल भी चला जा सकता है। जमे हुए जलप्रपात देखना इस यात्रा का चरम रोमांच होता है। सर्दियों में स्पीति में विंटर गेम्स भी होते हैं। इनमें सबसे प्रमुख है आइस हॉकी। स्पीति के लगभग हर गांव में आपको आइस हॉकी के आयोजन मिल जाएंगे, लेकिन काजा में यह बड़े पैमाने पर होता है।

कहां ठहरें?

सर्दियों में स्पीति वैली में ज्यादातर होटल बंद हो जाते हैं, लेकिन होमस्टे खुले रहते हैं। स्थानीय लोग अपने घरों में यात्रियों को ठहराते हैं और भोजन-पानी की व्यवस्था करते हैं। ज्यादातर घर मिट्टी के बने होते हैं और इनमें सेंटर में लोहे का एक चूल्हा होता है। इसकी वजह से घर सर्दियों में भी काफी गर्म रहते हैं। हालांकि शौचालय की पाइपलाइन ठंड की वजह से जम जाती हैं, लेकिन इन गर्म घरों की वजह से स्थानीय लोग आराम से सर्दियों में जीवनयापन कर लेते हैं। ताबो, काजा, किब्बर आदि गांवों में इस तरह के कई होमस्टे मिल जाएंगे।

क्या रखें सावधानियां?

स्पीति वैली हाई एल्टीट्यूड में स्थित है। इसकी वजह से यहां हमेशा ऑक्सीजन सामान्य से कम रहती है। जिन्हें हृदय व फेफड़ों से संबंधित समस्या है, उन्हें यहां नहीं जाना चाहिए। जाने से पहले अपने डॉक्टर से बात अवश्य करनी चाहिए। सर्दियों में यहां का तापमान शून्य से 30 डिग्री नीचे तक गिर जाता है। इसलिए पर्याप्त गर्म कपड़े अवश्य रखने चाहिए। अगर धूप निकली हो तो बर्फ पर धूप के रिफ्लेक्शन के कारण आंखों को काफी नुकसान पहुंच सकता है। इससे बचने के लिए अच्छी क्वालिटी के सनग्लासेस लेने चाहिए।

खबरें और भी हैं...