पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाइडेन का पहले 100 दिन का एजेंडा:विशेषज्ञों ने सात लाख मौतों की चेतावनी दी है, इसलिए जोर महामारी रोकने पर

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फ्रेंकलिन रूज़वेल्ट के रास्ते पर चले नए राष्ट्रपति
  • नई सरकार प्रमुख अभियानों से जनता के सभी वर्गों को जोड़ेगी

4 मार्च 1933 को जब फ्रेंकलिन रूज़वेल्ट ने अमेरिका का राष्ट्रपति पद संभाला था तब 25 प्रतिशत अमेरिकी बेरोजगार थे। लाखों लोग गंदे शहरों में रहते थे। अपने कार्यकाल के पहले 100 दिन खत्म होने पर उन्होंने संसद से 15 विधेयक पास कराए। वित्तीय क्षेत्र और कृषि सिस्टम में सुधार किया। बेरोजगारों के लिए मदद बढ़ाई और आर्थिक स्थिति में सुधार की बुनियाद रखी।

लगभग नौ दशक बाद एक अन्य डेमोक्रेट राष्ट्रपति जो बाइडेन ने असाधारण संकट के दौर में व्हाइट हाउस की कमान संभाली है। उनके सलाहकारों का कहना है, बाइडेन का सबसे अधिक ध्यान महामारी नियंत्रण पर होगा। आर्थिक स्थिति में सुधार भी उनके एजेंडा का मुख्य हिस्सा है।

नए राष्ट्रपति को जलवायु परिवर्तन, अश्वेतों से अन्याय और बुरी तरह विभाजित देश भी विरासत में मिला है। बाइडेन अपने पहले महीनों की ओर बढ़ते हुए रूज़वेल्ट के मॉडल का अध्ययन कर रहे हैं। व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ रॉन क्लेन ने टाइम को बताया, जितनी बड़ी समस्याएं हैं, हम उतने ही बड़े समाधान पेश करने का निश्चय कर चुके हैं। हमारा लक्ष्य देश को इस अभियान के साथ जोड़ने का है। बाइडेन के मिशन की झलक पेरिस जलवायु समझौते, विश्व स्वास्थ्य संगठन में शामिल होने, मुस्लिम बहुल देशों से आव्रजन पर पाबंदी हटाने जैसे कई फैसलों से मिलती है। उन्होंने संकेत दिया है कि वे अपने पूर्ववर्ती की अलग-थलग रहने की प्रवृत्तियों से बचेंगे। बाइडेन सरकार के दर्जनों अधिकारियों और बाहरी सलाहकारों से बातचीत में साफ हुआ कि नए राष्ट्रपति के 100 दिन के एजेंडा का फोकस कोविड-19 का प्रसार रोकना और जरूरतमंद परिवारों की मदद है। सरकार को उम्मीद है कि सत्ता में बाइडेन के 100 वें दिन-30 अप्रैल को दस करोड़ से अधिक अमेरिकियों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा।

सुरक्षित रूप से अधिकतम स्कूल खोलना भी प्राथमिकता का हिस्सा है। सरकार को वैक्सीन वितरण और आर्थिक पैकेज के लिए धन का आवंटन कराने के लिए विभाजित संसद पर निर्भर रहना होगा। सीनेट में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर महाभियोग की कार्यवाही चलने से संसद के अन्य कामों की गति धीमी पड़ सकती है। अधिकतर अर्थशास्त्रियों को विश्वास है कि व्यापक वैक्सीनेशन से वायरस का खतरा कम होने पर अर्थव्यवस्था अपने-आप खड़ी हो जाएगी। फिर भी, सितंबर तक साप्ताहिक बेरोजगारी भत्ते को 300-400 डालर बढ़ाकर 14 हजार डालर किया जा रहा है। सलाहकारों का कहना है, राष्ट्रपति की प्राथमिकता में रंगभेद और जलवायु परिवर्तन की समस्या भी शामिल है।

सरकार के आर्थिक पैकेज में कई ऐसी बातें शामिल हैं जिन्हे ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन ने उठाया है। दूसरी ओर बाइडेन ने पर्यावरण के उन नियमों को बहाल कर दिया है जिन्हें ट्रम्प ने रद्द कर दिया है। बाहर से आए लाखों लोगों को नागरिकता देने का विधेयक भी पास किया जाएगा।

वैक्सीनेशन के सभी पहलुओं पर राष्ट्रपति की नजर

कुछ विशेषज्ञों का अनुमान है कि अमेरिका में वायरस से मौतों की संख्या सात लाख तक हो सकती है। इस समय वैक्सीन लगने की गति धीमी है। बाइडेन वैक्सीनेशन की गति तेज करेंगे। वैक्सीन वितरण के डेढ़ लाख करोड़ रुपए के कार्यक्रम में स्थानीय लोगों को भागीदार बनाया जाएगा। ट्रम्प ने राज्यों को वैक्सीन की सप्लाई के बाद डोज लगाने का जिम्मा पूरी तरह उन पर छोड़ दिया था। बाइडेन की टीम ंंंमहामारी की स्थिति को देखते हुए प्राथमिकता के अाधार वैक्सीन का वितरण करेगी।

100 दिन का मास्क चैलेंज

बड़े पैमाने पर वैक्सीन लगने से पहले मास्क के पक्ष में जबर्दस्त अभियान चलेगा। बाइडेन की योजना अभियान से कारोबारियों, धर्म गुरुओं को जोड़ने की है। राष्ट्रपति सीधे ही अमेरिकियों से 100 दिनी मास्क चैलेंज शुरू करने की अपील करेंगे। इसके तहत उनके कार्यकाल के पहले तीन माह में कम से कम सार्वजनिक स्थान पर मास्क पहनने का आग्रह किया जाएगा। वैसे, स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है,महामारी फैलने के एक साल बाद सभी लोगों का मास्क पहनाना आसान नहीं होगा।

एलाना अब्रामसन, ब्रायन बेनेट

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें