--Advertisement--

अन्ना नाराज, पूछा- किसान क्या पाकिस्तान से आए हैं

आंदोलन के दौरान गन्ना किसानों पर गोलीबारी, घायल किसानों से मिले अण्णा, विपक्ष के नेता विखे व पवार, जांच की मांग

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 07:44 AM IST

अहमदनगर. राज्य में बुधवार को गन्ना किसानों द्वारा आंदोलन किए जाने पर उन पर लाठीचार्ज और गोलीबारी की गई। इसमें दो किसान गंभीर रुप से घायल हुए हैं। गुरुवार को वरिष्ठ समाजसेवी अण्णा हजारे, विपक्ष नेता राधाकृष्ण विखे पाटील व पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने आंदोलन में घायल किसानों का अस्पताल पहुंचकर हालचाल जाना। साथ ही इस मामले की जांच की मांग की। मुलाकात के बाद अण्णा हजार ने किसानों पर किए हमले को लेकर पुलिस की कड़ी आलोचना की है। कहा- किसान पाकिस्तान से नहीं आए जो उन पर गोलीबारी की जाए। कहा-कृषि प्रधान देश में ऐसा होना कृषि प्रधान देश को कलंकित करने वाली घटना है। हजारे ने कहा-अगर सरकार किसानों से पहले बात करती तो गोलीबारी करने की नौबत नहीं आती।

किसानों के सवालों पर सरकार नाकाम: विखे पाटील
विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटील ने कहा-शेवगांव में किसानों पर हुए गोलीबारी से एक बात स्पष्ट होती है कि राज्य सरकार किसानों के मामले में हल निकालने में पूरी तरह नाकाम हुई। किसान अपने हक़ के लिए सड़क पर उतरी है और सरकार ने उनके साथ बात करते हुए हल निकालना चाहिए। किसान ऋणमुक्ति हो या गन्ना मूल्य वृद्धि, सरकार कहीं पर भी गंभीर नहीं दिखती। आने वाले शीतकालीन सत्र में सरकार को किसान गोलीबारी के गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। किसानों पर गोलियां चलाने वाले पुलिस अधिकारियों की कड़ी जांच कर उन पर सख्त कार्रवाई करने की मांग सरकार के पास की जाएगी।

शीतकालीन सत्र में उठाएंगे मामला : पवार
राकांपा नेता अजित पवार ने किसानों पर पुलिस द्वारा किए गए हमले की निंदा की। कहा- यह सरकार किसान विरोधी है। आनेवाले शीतकालीन सत्र में इस मामले को लेकर आवाज उठाई जाएगी। सरकार किसान विरोधी होने से सीधे किसानों पर गोलियां चलाने तक पॉवर पुलिस में आई। किसानों पर गोलीबारी का जवाब सरकार को देना होगा, साथ ही गोलीबारी करने वाले अधिकारियों की जांच कर उन पर सख्त कार्रवाई करनी होगी।