Hindi News »Maharashtra »Mumbai» A Laborer Dies In Oil Tank

सफाई करने ऑयल टैंक में उतरे एक मजदूर की मौत, दो की हालत नाजुक

गोवर्धन गैस व पेट्रो केमिकल कंपनी में भीषण हादसा

Bhaskar News | Last Modified - Mar 27, 2018, 02:50 AM IST

सफाई करने ऑयल टैंक में उतरे एक मजदूर की मौत, दो की हालत नाजुक

नागपुर. गोवर्धन गैस एनर्जी और पेट्रो केमिकल कंपनी में सोमवार को भीषण हादसा हुआ। टैंक की सफाई करने उतरे तीन मजदूरों में से एक की मौत हो गई है, जबकि दो की हालत गंभीर है। इस दौरान कंपनी में करीब डेढ़ घंटे तक दमकल का बचाव अभियान चला। यशोधरा नगर थाने में प्रकरण दर्ज िकया गया है।


सोमवार की दोपहर करीब 12 बजे के दौरान राजू डेहरिया (35), कृष्ण कुमार और चोरकु उर्फ छोटू (25) कामठी रोड नागलोक के बगल में ही स्थित गोवर्धन गैस एंड पेट्रो केमिकल कंपनी में ऑयल टैंक की साफ-सफाई करने उतरे थे। टैंक जमीन के समानांतर है और उसकी क्षमता दस हजार लीटर से भी अधिक है। बहुत दिनों से टैंक की साफ-सफाई नहीं हुई थी।

कंपनी के संचालक नीलेश महाजन और उनके भागीदार राहुल अगोजी और कपिल चांडक ने टैंक की सफाई का काम ठेकेदार प्रकाश लिल्हारे को दिया। प्रकाश की तरफ से कंपनी में राजू, कृष्ण कुमार और चोरकु काम करते हंै। उन्हें ही टैंक की सफाई के लिए कहा गया। जैसे ही चोरकु टैंक में उतरा, दम घुटने के कारण वह बेहोश हो गया। उसे बचाने के लिए राजू और कृष्ण कुमार एक-एक कर टैंक में उतरे, मगर दम घुटने से वे भी बेहोश होकर टैंक में ही िगर पड़े। मौजूद अन्य कर्मचारियों ने इसकी जानकारी प्रबंधक अमित महाजन को दी। इससे बाद दमकल को सूचना दी गई। दमकल िवभाग के आला अधिकारी दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे।

संवेदनशील क्षेत्र में है कंपनी
कंपनी संवेदनशील क्षेत्र में है। बगल में ही बौद्ध धार्मिक अध्ययन केंद्र है। कंपनी के सामने ही कामठी रोड के िकनारे चाय-नास्ते की टपरियां भी हैं, जिसके चलते भीषण हादसे से कभी भी इनकार नहीं किया जा सकता, क्योंकि कंपनी में अतिसंवेदनशील गैस सिलेंडरों के अलावा अन्य ज्वलनशील तरल पदार्थ भी हैं। जिस टैंक में यह हादसा हुआ, उसका इस्तेमाल इंडस्ट्रियल फ्यूल आयल संग्रहित करने के लिए िकया जाता है।

टैंक में आधी दूरी तक ही उतर पाया दमकलकर्मी
गैस एवं ऑयल कंपनी में हादसा होने से हड़कंप मचा रहा। हादसे की भीषणता को देखते हुए तीन दमकल वाहनों के साथ दमकलकर्मी मौके पहुंचे। तत्काल बचाव अभियान आरंभ िकया। शुरुआती दौर में अशोक घवघवे नामक दमकल कर्मी को रस्सी के सहारे टैंक में उतारने का प्रयास िकया गया। मगर अशोक टैंक में आधी दूरी तक ही उतर पाया। दम घुटने के कारण वह बाहर आ गया। इसके बाद दमकल िवभाग ने लोहे के एक सरिया को एल नुमा आकार देकर उसकी मदद से एक-एक कर तीनों मजदूरों को बेहोशी की हालत में बाहर निकाला। तत्काल तीनों मजदूरों को कामठी स्थित निजी अस्पताल में भेजा गया। चोरकु नामक मजदूर ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है, जबकि राजू और कृष्ण कुमार की हालत अभी भी नाजुक ही बनी हुई है। अतिदक्षता विभाग में दोनों का इलाज जारी है।

ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज

घटित हादसे से स्पष्ट हुआ है कि प्रशिक्षु मजदूरों को टैंक साफ करने के लिए नहीं लगाया गया था। सुरक्षा के भी कोई इंतजाम नहीं थे। प्रबंधक अमित हरिभाऊ महाजन (40) कामठी और ठेकेदार प्रकाश नारायण लिल्हारे (38) वांजरा बस्ती निवासी के खिलाफ प्रकरण दर्ज िकया गया है।

दमकल भेजेगा नोटिस

हादसे के दौरान कंपनी में सुरक्षा के इंतजाम नहीं थे। टैंक में उतरने वाले मजदूरों को मास्क भी नहीं दिए गए थे। इसके अलावा और भी अनियमितता पाई गई है। दमकल अधिकारी रामगुनिवार ने बताया है कि प्रारंभिक तौर पर मजदूरों को बाहर निकालना जरूरी था। इस कारण हादसे से संबंधित अन्य बिंदुओं पर वे पूछताछ नहीं कर पाए। कंपनी संचालकों को जल्द ही नोटिस भेजा जाने वाला है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mumbai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×