मुंबई

--Advertisement--

DB SPL: प्रोफेशनल फोटोग्राफी छोड़ जुहू बीच पर लाइफ गार्ड बने मुंबई के बंटी राव

बे-वॉच लाइफ गार्ड एसोसिएशन बनाकर बंटी राव लोगों को लाइफ गार्ड के काम की ट्रेनिंग भी दे रहे हैं

Danik Bhaskar

Mar 05, 2018, 01:18 AM IST

मुंबई. मुंबई के रहने वाले बंटी राव जुहू बीच पर लाइफ गार्ड का काम करते हैं। यानी बीच पर जो लोग डूबने लगते हैं, उन्हें बचाने का काम। बंटी प्रोफेशनल फोटोग्राफी छोड़कर साल 2000 से ये काम कर रहे हैं। बंटी ने 75 लोगों की टीम भी बनाई है। ये टीम 17 साल में 110 लोगों को डूबने से बचा चुकी है। 75 लोगों को तो अकेले बंटी ही बचा चुके हैं। बे-वॉच लाइफ गार्ड एसोसिएशन बनाकर बंटी राव लोगों को लाइफ गार्ड के काम की ट्रेनिंग देने का भी काम कर रहे हैं।

- खास बात ये है कि बंटी इस पूरे काम के लिए किसी से कोई पैसा नहीं लेते।

- बंटी बताते हैं कि 2000 में वो फोटोग्राफी के सिलसिले में ही जुहू बीच पर गए थे। उन्होंने देखा कि बीच के किनारे एक बच्चा डूब रहा है। भीड़ में से किसी का ध्यान बच्चे की ओर नहीं था। बंटी ने बच्चे को बचाया। जब वो बच्चे को किनारे पर लाए, तो वहां भीड़ जमा हो गई। भीड़ में से किसी ने उनसे पूछा कि क्या वो लाइफ गार्ड हैं? ये पहला मौका था, जब बंटी को पता चला कि लाइफ गार्ड भी कुछ होता है। इसके बाद उन्होंने इसके लिए बाकायदा ट्रेनिंग ली और बीच पर फंसे लोगों को बचाने का ही काम शुरू कर दिया।

- बंटी बताते हैं कि, "लाइफ गार्ड की ट्रेनिंग पूरी करके मैं बीच पर आने वाले लोगों को समुद्र के पास जाने पर होने वाले खतरों से आगाह करने लगा। इस पर उल्टा मुझपर ही सवालों की बौछार होने लगी कि क्या मुझे ये सब काम करने की अनुमति और योग्यता है? क्या मेरे पास कोई पहचान पत्र है? क्या किसी सरकारी एजेंसी ने मुझे लाइफ गार्ड के रूप में नियुक्त किया है?’

25 लाइफ गार्ड और 50 वॉलंटियर की टीम तैयार हो चुकी है

- बे-वॉच से अब 25 सक्रिय लाइफ गार्ड और 50 वॉलंटियर जुड़ चुके हैं। टीम में सेल्स मैनेजर, वेब डिजाइनर जैसे अलग-अलग पेशे के लोग शामिल हैं।

- बंटी सुबह 8 से रात 8 बजे तक बीच पर लोगों की निगरानी करते हैं। टीम के बाकी सदस्य भी अलग-अलग शिफ्ट में बीच पर समय देते हैं। बंटी बीच पर दुकान चलाने वालों को भी लाइफ गार्ड की ट्रेनिंग दे रहे हैं, ताकि कोई जरूरत आने पर वो भी लोगों की जान बचा सकें।

Click to listen..