--Advertisement--

विस अध्यक्ष के समर्थन में विश्वास प्रस्ताव पास, विपक्ष पर भारी पड़ी सरकार की चतुराई

शिवसेना ने दिया सरकार का साथ, विपक्ष ने राज्यपाल से मिलकर जताया विरोध

Danik Bhaskar | Mar 24, 2018, 03:40 AM IST

मुंबई. विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागड़े के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव की काट के तौर पर सत्तापक्ष ने शुक्रवार को बागड़े के समर्थन में विश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया, जिसका शिवसेना नेता व मंत्री एकनाथ शिंदे ने समर्थन किया। जिसके बाद इसे ध्वनिमत से पास कर दिया गया। विपक्षी सदस्यों ने इस पर नाराजगी जताते हुए कहा कि सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है।

उन्होंने राजभवन जाकर राज्यपाल से मुलाकात कर विरोध भी जताया। विश्वास प्रस्ताव पास होने के बाद विपक्ष ने विरोध किया तो मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि 21 जुलाई 2006 को तत्कालीन मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख के कार्यकाल में भी ऐसा हो चुका है। जब हम विपक्ष में थे तो हमारा अविश्वास प्रस्ताव किनारे कर सरकार ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया था।

इसके बाद विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखेपाटील ने कहा कि हम अविश्वास प्रस्ताव पढ़ना चाहते हैं तो सत्तापक्ष के सदस्यों ने नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामा बढ़ता देख तालिका अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

मुख्यमंत्री ने 2006 का जो उदाहरण दिया है वह गलत है, क्योंकि उस समय सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव था। हमारे पास बहुमत नहीं है और हम जानते थे कि अविश्वास प्रस्ताव पास नहीं होगा, लेकिन हम इस मुद्दे पर अपनी बात रखना चाहते थे। जो हुआ वह महाराष्ट्र के संसदीय इतिहास में इससे पहले कभी नहीं हुआ था।
-दिलीप वलसेपाटील, राकांपा नेता व पूर्व विस अध्यक्ष