मुंबई

--Advertisement--

काम पर वापस आ रहा है ये मुंबई का पुलिसवाला, कर चुका है 80 से ज्यादा एनकांउटर

पुलिस सब इंस्पेक्टर दया नायक को बेनामी प्रॉपर्टी के आरोप की वजह से 2006 में पुलिस फोर्स से सस्पेंड किया गया था।

Danik Bhaskar

Feb 08, 2018, 11:33 PM IST
करीब साढ़े पांच साल तक सस्पेंड करीब साढ़े पांच साल तक सस्पेंड

मुंबई. एनकांउटर फेम दया नायक को बेमानी संपत्ती के मामले मे स्पेशल कोर्ट ने क्लीन चीट दी है। इसी के साथ दया नायक को प्रमोशन का रास्ता भी साफ हो चुका है। कोर्ट के मुताबिक दया की प्राॅपर्टी उनकी कुल कमाई से 10 फीसदी है इसलिए उनके खिलाफ कोई मामला नहीं बनता। एसीबी ने भी अपनी रिपोर्ट में दया नायक को बेकसूर करार दिया था।

2006 में गिरफ्तार किए गए थे दया

मुंबई में अंडरवर्ल्ड के 80 से ज्यादा गुंडों का एनकांउटर करनेवाले पुलिस सब इंस्पेक्टर दया नायक को बेनामी प्रॉपर्टी के आरोप की वजह से 2006 में पुलिस फोर्स से सस्पेंड किया गया था। आरोपों की जांच एसीबी की ओर से की गई थी।

एसीबी के रिपोर्ट के मुताबिक, दया को 2006 में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। 59 दिन की पुलिस कस्टडी के बाद नायक जमानत पर रिहा हुए। बाद में पुलिस डिपार्टमेंट ने नायक की डिपार्टमेंटल इंक्वारी के आदेश दिए थे।

इस जांच में नायक के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिले थे। फिर 2010 में एसीबी ने यह रिपोर्ट स्पेशल कोर्ट में पेश की थी। स्पेशल एसीबी काेर्ट ने भी दया नायक को क्लीनचिट दे दी है ।

कभी होटल में करते थे काम

दया नायक मूलतः कर्नाटक के रहने वाले हैं। घर की माली हालत खराब थी इसलिए सातवीं तक कन्नड़ स्कूल में पढ़ने के बाद वे 1979 में मुंबई में आए। यहां वे एक होटल में काम किया करते थे। होटल के मालिक ने ही दया को ग्रैजुएशन तक पढ़ाया। पुलिस की नौकरी लगने के पहले तक दया ने आठ साल होटल में काम किया। वहीं, कुछ समय तक उन्होंने 3000 रुपए की महीने की सैलरी पर प्लम्बर की नौकरी भी की थी।

बॉलीवुड में इनके किरदार पर बन चुकी हैं फिल्में
दया नायक के किरदार को कई बार फिल्मी पर्दे पर भी उतारा गया। बॉलीवुड में इनपर कई फ़िल्में बनाई गईं। कई टीवी सीरियल में भी इनके नाम के किरदार नज़र आते रहे।

Click to listen..