--Advertisement--

बांध के और 10 साल तक पूरा होने की उम्मीद नहीं, तब तक लागत बढ़कर हो सकती है 40 हजार करोड़

गोसीखुर्द के 2.84 ली. पानी की कीमत होगी 1 रुपया!

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 06:47 AM IST
Gosi Khurd Irrigation Project

नागपुर. गोसीखुर्द सिंचाई प्रकल्प का काम जिस गति से चल रहा है उसे देखते हुए अगले 10 साल तक इसके पूरा होने की उम्मीद नहीं है। तब तक इसकी अनुमानित लागत भी बढ़कर करीब 40 हजार करोड़ रुपए होने की संभावना है। जिसके कारण बांध के पूरा होने पर सिंचाई के लिए इसका 2.84 लीटर पानी 1 रुपए का पड़ सकता है। दरअसल इस बांध की जलभंडारण क्षमता 40.48 टीएमसी है। एक टीएमसी में 2831 करोड़ 68 लाख 42 हजार 592 लीटर पानी आता है और 40.48 टीएमसी में 1146265950044.1 लीटर। इसे 10 साल बाद की बांध की अनुमानित लागत (40 हजार करोड़ रुपए) से भाग देने पर एक रुपए में 2.84 लीटर पानी मिलेगा। इस हिसाब से एक हेक्टेयर की सिंचाई पर 16 लाख रुपए का पानी खर्च होने की संभावना है। इतनी राशि किसानों के बैंक खातों में डाली जाती तो उन्हें फसल उत्पादन से अधिक ब्याज घर बैठे मिल जाता।

अब तक 9698 करोड़ रुपए खर्च
अब तक बांध पर 9698 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। वर्तमान लागत मूल्य को देखते हुए और 8798 करोड़ रुपए चाहिए। सरकार 2019 तक उतनी निधि नहीं दे सकती। राज्य सरकार का सिंचाई बजट ही 3000 करोड़ रुपए से कम है। पूरा बजट गोसीखुर्द को देना संभव नहीं है। इस वर्ष केवल 750 करोड़ रुपए दिए गए। केंद्र सरकार ने अब तक एक रुपया भी नहीं दिया।

ऐसे समझें बढ़ती लागत का गणित
वर्ष 1983 में बांध का भूमिपूजन किया गया था। तब इस पर 372 करोड़ 22 लाख रुपए लागत अनुमानित थी। वर्तमान में लागत मूल्य बढ़कर 18 हजार 494 करोड़ 57 लाख रुपए हो गया है। इसमें प्रति वर्ष 10 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है। इसे देखते हुए वर्ष 2028 में इसका बढ़कर 40 हजार करोड रुपए होना तय है।

X
Gosi Khurd Irrigation Project
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..