--Advertisement--

मुंबई में हाईटेक कैमरों ने मार्च में 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते पकड़ा, ये अब तक का रिकॉर्ड है

स्पीड ट्रैक कैमरे ने तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी दौड़ाते हुए लोगों की तस्वीरें लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम भेजी

Dainik Bhaskar

Apr 04, 2018, 04:10 AM IST
स्पीड ट्रैक कैमरे ने तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी दौड़ाते हुए लोगों की तस्वीरें लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम भेजी। (फाइल) स्पीड ट्रैक कैमरे ने तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी दौड़ाते हुए लोगों की तस्वीरें लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम भेजी। (फाइल)

मुंबई. तय सीमा से ज्यादा रफ्तार के साथ गाड़ी भगाने वालों से परेशान मुंबई के ट्रैफिक विभाग को बड़ी राहत मिली है। ये राहत मुंबई शहर में स्टाल किए गए 47 हाईटेक कैमरों के जरिए मिली है। इन कैमरों ने गत मार्च में 80 हजार ऐसे लोगों की पहचान की है, जो तय लिमिट से ज्यादा तेज गाड़ियां दौड़ा रहे थे। इन कैमरों की खासियत ये है कि ये ऑटोमैटेड नंबर प्लेट की पहचान करने वाली तकनीक से लैस हैं। यही कारण है कि पुलिस ने नए साल की पहली तारीख को ही फर्राटा भरने वाले 7600 वाहन चालकों की पहचान कर उनसे जुर्माना भी वसूल लिया है। जबकि बीते साल ऐसा करने वाले लोगों की संख्या 2000 थी।

- जॉइंट पुलिस कमिश्नर (यातायात) अमितेश कुमार ने बताया कि 47 कैमरों में से 40 गत वर्ष दिसंबर में लगाए गए थे। उसके बाद 7 कैमरे बीते फरवरी महीने में और बढ़ा दिए गए। हमने इस साल जनवरी और फरवरी में ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले 30 हजार लोगों पर कार्रवाई की थी। मार्च में यह आंकड़ा बढ़कर करीब तीन गुना हो गया। इन कैमरों की वजह से हमने 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते हुए पाया है। एक महीने में इतने लोगों को नियम तोड़ते हुए पकड़ने का ये नया रिकॉर्ड है।

- वो कहते हैं- हाईटेक कैमरे विभाग को वाहनों की नंबर प्लेट से पहचान उसका सिग्नल ट्रैफिक पुलिस कंट्रोल रूम को भेज देते हैं। इसी लिंक के आधार पर आरोपियों को ई-मेल से लिंक भेजी जाती है, या उन्हें पुलिस के एमटीपी एप से एसएमएस कर दिया जाता है। इस लिंक के साथ ही एक ई-चालान भी जुड़ा रहता है और उसमें मौके पर नियम तोड़ते समय चालक की एक पिक्चर भी अटैच होती है। इसी आधार पर हम उन सभी आरोपियों को जुर्माना भरने के लिए नोटिस जारी कर चुके हैं। बांद्रा वर्ली सी लिंक, ईस्टर्न फ्रीवे और मरीन ड्राइव जैसी जगहों पर सबसे ज्यादा कैमरे लगाए गए हैं।

जुर्माना भरने वालों की संख्या 25% से बढ़कर 51% हुई
जॉइंट कमिश्नर ने कहा- आरोपियों से जुर्माना वसूलना बड़ी चुनौती है। जब ये कैमरे स्टाल हुए थे, उस समय मात्र 25% लोग ही जुर्माना भर रहे थे। अब 51% आरोपी जुर्माना चुका रहे हैं। हमें उम्मीद है कि इस साल के अंत तक जुर्माना अदा करने वालों का आंकड़ा 80% हो जाएगा।

मुंबई में हाईटेक कैमरों ने मार्च में 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते पकड़ा, ये अब तक का रिकॉर्ड है। (फाइल) मुंबई में हाईटेक कैमरों ने मार्च में 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते पकड़ा, ये अब तक का रिकॉर्ड है। (फाइल)
X
स्पीड ट्रैक कैमरे ने तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी दौड़ाते हुए लोगों की तस्वीरें लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम भेजी। (फाइल)स्पीड ट्रैक कैमरे ने तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी दौड़ाते हुए लोगों की तस्वीरें लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम भेजी। (फाइल)
मुंबई में हाईटेक कैमरों ने मार्च में 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते पकड़ा, ये अब तक का रिकॉर्ड है। (फाइल)मुंबई में हाईटेक कैमरों ने मार्च में 80 हजार वाहन चालकों को ओवरस्पीडिंग करते पकड़ा, ये अब तक का रिकॉर्ड है। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..