--Advertisement--

राज्यसभा जाने के लिए तैयार हुए राणे, सोमवार को भरेंगे नामांकन

पिछले सप्ताह राणे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ दिल्ली जाकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की थी।

Danik Bhaskar | Mar 11, 2018, 07:24 AM IST

मुंबई. कई दिनों की जद्दोजहद के बाद आखिरकार पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे भाजपा के टिकट पर राज्यसभा जाने के लिए तैयार हो गए हैं। राणे सोमवार को विधानभवन में नामांकन दाखिल करेंगे। अपने 28 साल के राजनीतिक जीवन में राणे पहली बार संसद जाएंगे। पिछले सप्ताह राणे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ दिल्ली जाकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की थी।

- इस दौरान शाह ने उन्हें राज्यसभा में जाने का प्रस्ताव दिया था। राणे महाराष्ट्र में ही मंत्री बनाने चाहते थे लेकिन शिवसेना के विरोध के चलते भाजपा ने उन्हें फडणवीस मंत्रीमंडल में शामिल करने का जोखिम नहीं उठाया।

- शनिवार को राणे ने कहा कि वे राज्यसभा में भले जा रहे हैं पर महाराष्ट्र की राजनीति में पहले जैसे सक्रिय रहेंगे। इस दौरान राणे शिवसेना पर निशाना साधना नहीं भूले। कहा कि शिवसेना की हिम्मत नहीं कि वह एनडीए से बाहर जाए। निकालने पर भी वे सरकार से बाहर नहीं जाएंगे।

तीसरी सीट के लिए खडसे की चर्चा
- आगामी 23 मार्च को राज्यससभा की रिक्त सीटों के लिए होने वाले चुनाव में महाराष्ट्र से भाजपा के पास तीन सीटें हैं। इनमें से एक सीट के लिए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने शुक्रवार को नामांकन दाखिल किया। जबकि राणे सोमवार को नामांकन करेंगे।

- सूत्रों के अनुसार, जमीन घोटाले की वजह से मंत्री पद गवाने वाले एकनाथ खडसे को पार्टी राज्यसभा की उम्मीदवारी देकर दिल्ली भेजना चाहती है। लेकिन भाजपा विधायक खडसे इसके लिए राजी नहीं हैं। खडसे के तैयार न होने पर पार्टी श्याम जाजू, विजया रहाटकर, विश्वास पाठक और मौजूदा सांसद अजय संचेती में किसी एक को रास की उम्मीदवारी दे सकती है।

कांग्रेस से कौन

राज्यसभा चुनाव के लिए 12 मार्च नामांकन की अंतिम तिथि है। पर अभी तक कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया है। कांग्रेस के पास एक सीट जीतने लायक संख्या बल है। प्रदेश कांग्रेस ने सुशील कुमार शिंदे, रत्नाकर महाजन और राजीव शुक्ला का नाम पार्टी हाईकमान के पास भेजा है। जबकि पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री मिलिंग देवड़ा भी राज्यसभा में जाने के इच्छुक हैं।

मैं दिल्ली जा रहा हूं, पाकिस्तान नहीं। केवल अधिवेशन के लिए दिल्ली जाना पड़ता है। दिल्ली जाने के बाद वापस महाराष्ट्र नहीं आ सकते, ऐसी कोई शर्त किसी ने मेरे सामने नहीं रखी है।’
-नारायण राणे, अध्यक्ष महाराष्ट्र स्वाभिमान सेना