--Advertisement--

पढ़ें, छोटे भाई की एक चूक ने कैसे कर दिया नीरव मोदी को EXPOSE

डायमंड टायकून नीरव मोदी PNB को लगभग 13 हजार करोड़ की चपत लगाकर देश छोड़कर भाग चुका है।

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 04:14 PM IST
नीरव मोदी का भाई निशाल मोदी पत्नी के साथ। नीरव मोदी का भाई निशाल मोदी पत्नी के साथ।

मुंबई. PNB को लगभग 13 हजार करोड़ की चपत लगाने वाला नीरव मोदी आज भले ही भारत की गिरफ्त से दूर है। लेकिन यह बेहद दिलचस्प है कि इस घोटाले का खुलासा हो ही नहीं पाता अगर निशाल मोदी की PNB बैंक अफसरों से बहस नहीं हुई होती। उसकी इसी एक चूक के चलते डायमंड टायकून नीरव मोदी एक्सपोज हो गया। और फिर सामने आया देश का सबसे बड़ा बैंक फ्रॉड...

- निशाल, नीरव मोदी का छोटा भाई है। वह बेल्जियम का नागरिक है। बेल्जियम के एंटवर्प में जन्मा और पला-बढ़ा है।
- एंटवर्प को डायमंड का ट्रेडिंग हब माना जाता है। ग्रेजुएशन के बाद निशाल वहां पिता के बिजनेस में हाथ बंटाने लगा।
- कुछ ही समय बाद पिता ने उसे नीरव के बिजनेस में सपोर्ट करने के लिए इंडिया भेज दिया।
- नीरव के काम के सिलसिले में निशाल पीएनबी बैंक पहुंचा। जहां अफसरों से उसने LoU (लेटर ऑफ अंडरटेकिंग) की डिमांड की।
- हालांकि, जब उससे LoU के एवज में 100% गारंटी की मांग की गई, तो कथित तौर पर निशाल ने अफसर से कहा- उसका परिवार तो पिछले कुछ साल से यह लेटर यूं ही हासिल करता रहा है।
- इसके बाद अफसर ने रिकॉर्ड खंगाला और जब उसे कुछ नहीं मिला, तो उसका दिमाग ठनका।
- फिर पूरी जांच पड़ताल में सबसे बड़े बैंक फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ।

- गौरतलब है कि RBI ने पीएनबी घोटाले से सबक लेते हुए LoU के जरिए बैंक गारंटी जारी करने की फैसिलिटी पर मंगलवार को रोक लगा दी।

अंबानी से क्या है निशाल का कनेक्शन?
- नीरव का बिजनेसमैन अंबानी ब्रदर्स के साथ भी करीबी रिश्ता है।
- अनिल और मुकेश अंबानी की भांजी इशिता सालगांवकर की शादी निशाल मोदी से हुई है।
- बता दें कि निशाल पर भी घोटाले में मामला दर्ज हुआ है।
- इशिता सालगांवकर गोवा के बिजनेसमैन दत्ताराज सालगांवकर की बेटी हैं।
- दत्ताराज का भी अंबानी परिवार से करीबी रिश्ता है।
- उनकी शादी मुकेश अंबानी की बहन दीप्ति से हुई है।

पीएनबी फ्रॉड में क्या हुआ?
- आरोप है कि पंजाब नेशनल बैंक के डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी और ऑथराइज्ड सिग्नेटरी मनोज खरात ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से जुड़ी कंपनियों को करीब 150 से ज्यादा LoU जारी किए

थे। बैंक के सिस्टम में इन एलओयू की एंट्री नहीं की गई।
- बैंक ने शेट्टी और खरात नीरव मोदी और राहुल चौकसी और उनसे जुड़े लोगों को भी LoU जारी करने के लिए पासवर्ड्स दिए थे। जिसका इस्तेमाल करके कई फर्जी LoUs जारी किए गए।

क्‍या है LoU?
- LoU (लेटर ऑफ अंडरटेकिंग) एक तरह की गारंटी है। यह जिसके पास होती है वह इस पर लिखी रकम को तय बैंक की शाखा से ले सकता है।
- स्विफ्ट (एक कंप्‍यूटराइज्‍ड तरीका) माध्‍यम से यह LoU जारी की जाती हैं। इनके आधार पर ऑनलाइन लेनदेन होता है। बैंक इसे दुनियाभर में कहीं के लिए जारी कर सकते हैं।

स्विफ्ट कैसे काम करता है?
- LoU जारी करने के लिए तीन अलग-अलग कर्मचारियों को पासवर्ड्स दिए जाते हैं। तीनों लोग अलग-अलग सर्विस अधिकृत कर सकते हैं।

इसे ऐसे समझें
1.
एक कर्मचारी मैसेज जारी करता है।
2. दूसरा कर्मचारी उसे अधिकृत (ऑथेंटिकेट) करता है।
3. तीसरा मैसेज को वेरीफाई करता है।
> इसके बाद एक चौथा इम्पलॉई LoU भेजे जाने के बाद लेन-देन से जुड़ा प्रिंट आउट रिसीव करता है।


क्या है पीएनबी घोटाला?
- पीएनबी ने फरवरी में सीबीआई को 12,672 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी। घोटाला मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में हुआ। 2011 से 2018 के बीच हजारों करोड़ की रकम 297 फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई। बैंक फ्रॉड में हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं। दोनों देश छोड़ कर भाग चुके हैं।

निशाल मोदी (बाएं), नीरव मोदी (दाएं) निशाल मोदी (बाएं), नीरव मोदी (दाएं)