--Advertisement--

नीरव मोदी, मेहुल चौकसी के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी

प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत बने विशेष कोर्ट में हुई ईडी की अर्जी पर सुनवाई

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 06:43 AM IST

मुंबई. पंजाब नेशनल बैंक की 12,717 करोड़ रु. की धोखाधड़ी से जुड़े मामले में मुंबई के एक विशेष कोर्ट ने भगोड़े कारोबारियों- नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ शनिवार को गैर-जमानती वारंट (एनबीडब्ल्यू) जारी कर दिए। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत बने विशेष कोर्ट ने शनिवार को ये वारंट प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की अर्जी पर जारी किए। इससे पहले ईडी ने मोदी और चौकसी दोनों को तलब किया था। लेकिन ये दोनों पेश नहीं हुए। इसके बाद जांच एजेंसी ने 27 फरवरी को पीएमएलए कोर्ट से दोनों हीरा व्यापारियों के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी करने का अनुरोध किया था।

ईडी के वकील हितेन वेणेगांवकर ने जज एमएस आजमी को बताया कि 15 फरवरी को ईडी ने नीरव मोदी के खिलाफ एक मामला दर्ज किया था। तब से अब तक वह मोदी को पेश होने के लिए 15, 17 और 22 फरवरी को तीन समन भेज चुका है। हालांकि, दोनों आरोपियों के बारे में माना जाता है कि आपराधिक मामला दर्ज होने से पहले वे देश छोड़ चुके हैं।

छह देशों को एलआर पहले ही जारी
पिछले सोमवार को पीएमएलए अदालत ईडी की अर्जी पर छह देशों को लेटर रोगेटरी (एलआर) जारी कर चुकी है। इनमें अमेरिका, ब्रिटेन, हांगकांग, यूएई, दक्षिण अफ्रीका और सिंगापुर शामिल हैं। इसका उद्देश्य इन देशों में नीरव मोदी के कारोबार और संपत्तियों का पता लगाना है। बीते दिनों आयकर विभाग ने मोदी और चौकसी के खिलाफ अलग-अलग लुकआउट नोटिस भी जारी किए थे। इसे ब्लू कॉर्नर नोटिस भी कहा जाता है। इसका उद्देश्य दोनों की आवाजाही पर अंकुश लगाना था। विभिन्न जांच एजेंसियों ने मोदी और चौकसी की विभिन्न प्रॉपर्टी अटैच की हैं।