--Advertisement--

अक्षय कुमार नहीं ये हैं रियल लाइफ के 'पैडमैन', कभी भिखारी की तरह दिखते थे

मेरी शादी 1998 में हुई थी। पत्नी को पीरियड्स के दौरान बेहद गंदे कपड़े इस्तेमाल करते देखा तो अंदर तक हिल गया।

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 03:44 AM IST
मुरुगनंथम पीरियड्स की परेशानियों को लेकर अवेयरनेस फैला रहे हैं। - फाइल मुरुगनंथम पीरियड्स की परेशानियों को लेकर अवेयरनेस फैला रहे हैं। - फाइल

चेन्नई. तमिलनाडु के मुरुगनंथम सोशल आंत्रप्रेन्योर हैं। पीरियड्स की परेशानियों को लेकर अवेयरनेस फैला रहे हैं। सस्ते सेनेटरी नैपकिन बनाने वाली मशीन बनाई है। पद्मश्री से सम्मानित मुरुगनंथम से दैनिक भास्कर के जेसी शिबु ने बातचीत की। इसमें उन्होंने वो बातें बताईं जिन्होंने उन्हें झकझोर दिया था। अक्षय कुमार की फिल्म पैडमेन इन्हीं मुरुगनंथम पर बनी है। अक्षय खुद मुरुगनंथम से बहुत इन्सपायर हैं।

गांव वाले समझते थे- मुझे भूत चढ़ा है

- मुरुगनंथम के मुताबिक, “मेरी शादी 1998 में हुई थी। पत्नी को पीरियड्स के दौरान बेहद गंदे कपड़े इस्तेमाल करते देखा तो अंदर तक हिल गया। पत्नी और मेरी बहन पीरियड्स के दौरान कबाड़ में से अखबार और गंदे कपड़े तलाशती थीं ताकि वे इस समय को निकाल सकें। वे किसी से इसका जिक्र नहीं करती थीं।”

- “इसी दौरान मुझे सस्ते सेनेटरी नैपिकन बनाने का ख्याल आया। इसकी रिसर्च के दौरान मैं इस्तेमाल किए हुए नैपिकन भी जमा करने लगा था। लोग समझते थे कि मैं पागल हो गया हूं। मैं वैंपायर हूं जबकि मैं प्रयोग कर रहा था। कोई बात नहीं करता था, मुझसे मिलना नहीं चाहता था।

- “ग्रामीणों को लगता था कि मुझ पर भूत-प्रेत का साया है और मुझे काले जादू से ठीक किया जा सकता है। ग्रामीण ऐसा करते इससे पहले मैं गांव छोड़कर बाहर आ गया।”

पैड इस्तेमाल किया तो तुमको पागल कुत्ता काट लेगा

- मुरुगनंथम ने पुरानी यादें बताते हुए कहा, “ यह 2004-05 की बात है। जब मैं इस सब्जेक्ट पर देशभर में काम कर रहा था तो उसी दौरान उत्तर प्रदेश गया। वहां एक गांव में कुंवारी लड़की ने पैड इस्तेमाल किया था। वह रास्ते से जा रही थी तो उससे कहा गया कि यदि तुम पैड इस्तेमाल करोगी तो तुम्हें पागल कुत्ता काट लेगा।”

- “यही नहीं, उसे डराया गया कि यदि तुम्हारे इस्तेमाल किए हुए सेनेटरी पैड को किसी कुत्ते ने खा लिया तो तुमसे कोई शादी नहीं करेगा।”

- “मध्यप्रदेश में एक घटना मेरे सामने आई, जिसमें एक बहू को पैड इस्तेमाल करने पर डराया गया कि यदि तुमने इसे छोड़ा नहीं तो तुम्हारी सास की मौत हो जाएगी। ऐसा गांव की करीब-करीब सभी बहुओं को कहा गया था।”

साढ़े आठ साल लगे मशीन बनाने में

- मुरुगनंथम बताते हैं, "पुरुष भी मुझे पागल समझते थे। उस दौरान पुरुषों ने मुझ पर यह भी शक करना शुरू कर दिया था कि मैं वास्तव में पुरुष हूं या महिला। मैंने अपने पैड टेेस्ट करने के लिए कोयंबटूर मेडिकल कॉलेज की लड़कियों की मदद ली। लेकिन मुझे उनसे सही फीडबैक नहीं मिल पाता था।"

- "पत्नी को भी लगा कि मैं इस बहाने लड़कियों के करीब जाना चाहता हूं। बात इतनी बढ़ गई कि एकदिन उसने भी मुझे छोड़ दिया। नौकरी तो करता ही था, साथ में यह प्रयोग भी जारी रखा।"

- "नाइट शिफ्ट में काम किया तो दिन में अपने मिशन पर लगा रहा। कई-कई रात सोने का समय नहीं मिला। अक्सर कुछ भी खाने के लिए नहीं रहता था। मैं बिल्कुल भिखारी दिखने लगा था। लोग मज़ाक उड़ाने लगे थे। साढ़े आठ साल लगे मुझे मशीन बनाने में।"

मुरुगनंथम की लाइफ पर ही अक्षय कुमार और राधिका आप्टे स्टारर फिल्म 'पैडमैन' बनी है। मुरुगनंथम की लाइफ पर ही अक्षय कुमार और राधिका आप्टे स्टारर फिल्म 'पैडमैन' बनी है।
अक्षय कुमार और उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना के साथ मुरुगनंथम । - फाइल अक्षय कुमार और उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना के साथ मुरुगनंथम । - फाइल