--Advertisement--

जानवरों को पालने के लिए अब लेनी होगी अनुमति

महिला एवं बाल कल्याण समिति की बैठक में प्रस्ताव पारित, पुणे मनपा बना रही नियमावली

Danik Bhaskar | Mar 28, 2018, 04:56 AM IST

पुणे. पुणे महानगरपालिका की महिला एवं बाल कल्याण समिति ने एक प्रस्ताव पारित किया है। जिसके तहत अब किसी भी व्यक्ति को व्यक्तिगत रूप से पशुओं को पालने के लिए अनुमति लेनी होगी। इस संदर्भ में स्वतंत्र नीति तैयार की जा रही है। मेट्रो सिटी के रूप मंे उभर रहे पुणे में हजारों की तादाद में नागरिकों ने कुत्ता, बिल्ली तथा अन्य कई प्रकार के जानवर पाले हुए हैं। नागरिकों को कितने जानवर पालने हैं इसको लेकर फिलहाल कोई नियम नहीं है।

पार्षद सुतार ने उठाई मांग

- कई नागरिक पालतू पशुओं की स्वच्छता को लेकर लापरवाह होते हैं। जिसकी तकलीफ आस-पड़ोस के लोगों को होती है। फिर यह बहस का मुद्दा बन जाता है। कई लोग तो पालतू जानवरों की आवाज से परेशान होकर सीधे पुलिस थाने गुहार के लिए पहंुच जाते हैं। फिर विवाद बढ़ता है। मारपीट की घटनाएं भी होती हैं। लेकिन पशुओं को पालने को लेकर किसी भी प्रकार की नियमावली न होने के कारण संबंधित व्यक्तियों पर कार्रवाई करने में अड़चनें आती हैं। इसलिए इस संदर्भ में नियमावली बनाने की मांग पार्षद पृथ्वीराज सुतार ने की थी। हाल ही में मनपा की महिला एवं बाल कल्याण समिति की बैठक में इस प्रस्ताव पर चर्चा हुई। चर्चा के अंत में मनपा के अंतर्गत आनेवाले आवासीय क्षेत्रों में स्थित नागरिक व्यक्तिगत रूप से कितने पशु पाल सकते हैं, इसकी स्वतंत्र नीति तथा नियमावली तैयार करने की कार्यवाही शुरू की जाए ऐसा निर्णय लिया गया।

पिंपरी चिंचवड़ मनपा का 5767 करोड़ रु. का बजट मंजूर

- पिंपरी चिंचवड़ महानगरपालिका का 5767 करोड़ रुपए का बजट मंगलवार को सर्वसाधारण सभा ने मंजूर किया। पिछले साल की तुलना में इस साल के बजट में 505 करोड़ रुपए का इजाफा हुआ है। वर्ष 2018-19 इस नए वित्त वर्ष हेतु 5235.26 करोड़ रुपए का बजट पेश किया गया था।

- स्थायी समिति ने उपसुझाव के साथ इसमें बढ़ोतरी कर कुल 5262.30 करोड़ रुपए का बजट अंतिम मान्यता हेतु सर्व साधारण सभा में पेश किया गया। 26 फरवरी को बजट पेश करने के बाद बजट विशेष सभा स्थगित की गई।

- 20 मार्च की सभा में बजट पर आठ घंटों तक चली लंबी चर्चा में 505 करोड़ रुपए के कामों के उपसुझाव स्वीकार किए गए। उसके बाद मंगलवार को हुई सर्वसाधारण सभा में बजट मंजूर किया गया। 505 करोड़ 31 लाख रुपए की बढ़ोतरी के साथ कुल 5767 करोड़ रुपए का अंतिम बजट मंजूर किया गया।