--Advertisement--

हिंदू न्यू ईयर को ऐसे किया वेलकम, 70 कलाकारों ने 9 घंटे में 18000 वर्ग फीट में बनाई रंगोली

हिंदू नववर्ष का स्वागत करने के लिए महाराष्ट्र के 70 कलाकारों ने लगातार 9 घंटे काम कर 18 हजार वर्ग फीट में रंगोली बनाई।

Danik Bhaskar | Mar 18, 2018, 08:36 AM IST

मुंबई. हिंदू नववर्ष का स्वागत करने के लिए महाराष्ट्र के 70 कलाकारों ने लगातार 9 घंटे काम कर 18 हजार वर्ग फीट में रंगोली बनाई। इसमें 900 किलो रंग का इस्तेमाल किया गया है। इसमें कैलिग्राफी का इस्तेमाल कर रंगोली के बीच में शांति का संदेश लिखा गया है। यह आयोजन थाने जिले के गांवदेवी मैदान में हुआ। गुड़ी पड़वा हर साल चैत्र नवरात्रि के शुरू होने के पहले दिन मनाया जाता है। इस दिन शुभ मुहूर्त पर कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है।

- गुड़ी पड़वा का त्योहार महाराष्ट्र में हिन्दू नववर्ष या नव-सवंत्सर के आरंभ की ख़ुशी में मनाया जाता है। पंचांग के मुताबिक, चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नए साल की शुरुआत होती है। इसी दिन यह त्योहार मनाने का कल्चर है।

- इस बार गुड़ी पड़वा का त्यौहार 18 मार्च को चैत्र मास की शुक्‍ल प्रतिपदा को मनाया जा रहा है। 18 मार्च से ही चैत्र नवरात्रि और हिंदू नव वर्ष की भी शुरुआत हुई है।

- इस पर्व से जुड़ी कर्इ कथाएं हिन्दू धर्म में हैं। इनसे से एक कथा यह भी है कि इस दिन भगवान श्रीराम ने श्री लंका के शासक बाली पर विजय प्राप्त की थी।

- इसी खुशी में हर घर में गुड़ी यानि विजय पताका फहरार्इ जाती है। वहीं भगवान श्रीराम और महाराजा युधिष्‍ठिर का राज्याभिषेक भी इसी दिन हुआ था।

- चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के दिन ही पूर्व उज्जयनी नरेश महाराज विक्रमादित्य ने विदेशी आक्रमणकारी शकों से भारत भूमि की रक्षा की आैर इसी दिन से कालगणना प्रारंभ की।