Hindi News »Maharashtra »Mumbai» Secret Talks Were Continued For 6 Months On Ram Mandir Issue

आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बोले- राम मंदिर पर 6 महीने से जारी थी गुप्त वार्ता

कहा- टेंट में 25 साल से भगवान राम की मूर्ति, अभी खत्म नहीं हुआ उनका वनवास।

Bhaksar News | Last Modified - Nov 18, 2017, 06:31 AM IST

  • आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बोले- राम मंदिर पर 6 महीने से जारी थी गुप्त वार्ता
    +1और स्लाइड देखें

    नागपुर. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर हिंदू और मुस्लिम मिलकर बनाएं। मंदिर का निर्माण आपसी बातचीत और सभा द्वारा ही किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 6 महीने से अयोध्या मामले को लेकर उनकी बातचीत चल रही थी, लेकिन इसे गुप्त रखा गया था। हम चुप रहे और सबसे बातचीत करते रहे। श्रीश्री ने यह भी कहा कि भगवान राम को 14 वर्ष का वनवास हुआ था, लेकिन टेंट में रामलला की मूर्ति रखे 25 साल हो गए। राम का वनवास अभी समाप्त नहीं हुआ है।

    श्रीश्री आर्ट ऑफ लिविंग नागपुर की ओर से शुक्रवार को मानकापुर स्थित विभागीय क्रीड़ा संकुल में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। आगे कहा कि कानून के तहत जो होता है, उसे सब मानते हैं। लेकिन हो सकता है कि 400 साल बाद फिर कोई विवाद खड़ा हो जाए और फिर कोई कहे कि उसके साथ न्याय नहीं हुआ। इसलिए बातचीत से ही समस्या का हल किया जाना चाहिए। दूसरी जगह मस्जिद बनाई जा सकती है।

    दोनों पक्ष मिलकर बनाएं मंदिर तो सदियों तक नहीं होगा विवाद
    आध्यात्मिक गुरु ने कहा कि मुस्लिम और हिंदू भाई मिल कर मंदिर बनाएं तो सदियों तक कोई विवाद नहीं उठेगा। इस पर काफी लोग राजी हैं और कई लोगों ने इस बात को सही माना है। उन्होंने बताया कि वे मुस्लिम समाज के कार्यक्रम में फैजाबाद गए थे। इस दौरान लोगों ने कहा कि आप मध्यस्थता करेंगे, तो शांति का पैगाम जाएगा। इस पर मैंने कहा, ‘मैं सौदा नहीं करता, सौहार्द्रपूर्ण बातचीत करें।'

  • आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बोले- राम मंदिर पर 6 महीने से जारी थी गुप्त वार्ता
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mumbai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×