पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरा पत्र भेजने वाला डॉक्टर नांदेड से गिरफ्तार, उर्दू लिखा धमकी भरा पत्र भेजा था

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल से सांसद प्रज्ञा ठाकुर का नाम मालेगांव ब्लास्ट में भी आया था, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था। - Dainik Bhaskar
भोपाल से सांसद प्रज्ञा ठाकुर का नाम मालेगांव ब्लास्ट में भी आया था, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था।
  • धानेगांव इलाके के डॉ. सैयद अब्दुल रहमान खान ने अक्टूबर में भेजा था, जिसे प्रज्ञा ने जनवरी में खोला
  • मध्यप्रदेश एटीएस ने खान को गुरुवार को हिरासत में ले लिया, वह 3 महीने से एटीएस की रडार पर था

नांदेड. मध्य प्रदेश की आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने महाराष्ट्र के नांदेड जिले से एक डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि इसी डॉक्टर ने भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर को अक्टूबर में संदिग्ध लिफाफे और धमकी भरा पत्र भेजा था। यह पत्र प्रज्ञा ने 13 जनवरी की रात में खोला था। प्रज्ञा ने पुलिस को बताया था कि लिफाफे और पत्र में जहरीला रसायनिक पदार्थ है।


नांदेड के इतवारा पुलिस थाने के निरीक्षक प्रदीप ककाडे ने बताया कि जांच के दौरान मध्यप्रदेश एटीएस ने यह पाया कि यहां के धानेगांव इलाके के डॉक्टर सैयद अब्दुल रहमान खान (35) ने यह संदिग्ध लिफाफे प्रज्ञा ठाकुर को भेजे हैं। खान यहां क्लीनिक चलाता है। यह डॉक्टर पहले भी अफसरों को संदिग्ध लिफाफे भेजने के आरोप में पकड़ा गया है।

अफसरों से कहा था- मां और भाई के आतंकियों से संपर्क
ककाडे ने बताया कि "खान पिछले तीन माह से पुलिस के राडार पर था। क्योंकि, उसने पहले भी कुछ अधिकारियों को पत्र लिखे थे- जिसमें उसने दावा किया था कि उसकी मां और भाई के आतंकवादियों से संपर्क हैं और उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए।" 

मोबाइल घर पर छोड़कर गया था पत्र डालने
ककाडे ने बताया कि "पुलिस उसके मोबाइल फोन की लोकेशन के जरिए नजर रख रही थी। लेकिन, वह मोबाइल फोन घर पर ही छोड़कर इन पत्रों को डालने औरंगाबाद, नागपुर और अन्य स्थानों पर जाता था।" उन्होंने बताया कि खान का अपने भाई के साथ भी विवाद था और उसे भाई से मारपीट के कारण पहले भी गिरफ्तार किया जा चुका है।