महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव / अजित पवार बोले- साल 2000 में बाला साहब की गिरफ्तारी एक राजनीतिक चूक थी

अजित पवार-फाइल। अजित पवार-फाइल।
X
अजित पवार-फाइल।अजित पवार-फाइल।

  • अजित पवार ने कहा कि कांग्रेस के विरोध के चलते मनसे को महाआघाडी में शामिल नहीं कर पाने का उन्हें मलाल है
  • अजित पवार ने अप्रत्यक्ष रूप से कहा है कि छगन भुजबल की जिद के चलते बालासाहेब को गिरफ्तार किया गया

दैनिक भास्कर

Oct 12, 2019, 03:31 PM IST

मुंबई. पूर्व उपमुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता अजित पवार ने साल 2000 में हुई शिवसेना प्रमुख बाला साहब ठाकरे की गिरफ्तारी को एक राजनीतिक चूक करार दिया है। एक मराठी चैनल को दिए इंटरव्यू में अजित पवार ने अप्रत्यक्ष रूप से कहा है कि छगन भुजबल की जिद के चलते बालासाहेब को गिरफ्तार किया गया।

 

इंटरव्यू में अजित पवार ने कहा, 'उस दौरान मेरी और मेरे कई अन्य सहयोगियों की राय बालासाहेब को गिरफ्तार करने के खिलाफ थी, लेकिन हमारी राय पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। उस वक्त मुझसे कहा गया कि हम विभाग के प्रमुख हैं, हमें जो ठीक लगेगा, वह हम करेंगे।'

 

कांग्रेस के विरोध के चलते मनसे को नहीं किया महागठबंधन में शामिल

उस वक्त अजित पवार उप मुख्यमंत्री थे, जबकि छगन भुजबल गृहमंत्री थे। हालांकि, अजित पवार पूरे साक्षात्कार में खुलकर छगन भुजबल का नाम लेने से बचते रहे। अजित पवार ने कहा कि कांग्रेस के विरोध के चलते मनसे को महाआघाडी में शामिल नहीं कर पाने का उन्हें मलाल है।

 

 

संजय राउत ने कहा-अजित पवार मांगे माफी

अजित पवार के इस बयान पर शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, 'आपको यह महसूस करने में इतने साल लग गए कि बाला साहेब ठाकरे को गिरफ्तार करना एक गलती थी। अगर आपके आंसू असली हैं, तो आपको माफी मांगनी चाहिए।'   

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना