• Hindi News
  • Maharashtra
  • Mumbai
  • Anil Ambani's interview Recall when he was in difficult times, He thanks elder brother Mukesh Ambani for paying Ericsson dues

जब अनिल अंबानी ने कहा था- एक बड़ा कारोबारी जब कर्ज में डूब जाता है, तो उसे आम आदमी की तरह बुरे दौर से गुजरना पड़ता है; अब बड़े भाई मुकेश अंबानी ने दिया तोहफा

मुंबई न्यूज: 'लोगों ने फोन तक उठाना बंद कर दिया था, कौन दोस्त-कौन दुश्मन; इसकी पहचान हो गई'

Dainikbhaskar.com

Mar 19, 2019, 12:20 PM IST
Anil Ambani's interview Recall when he was in difficult times, He thanks elder brother Mukesh Ambani for paying Ericsson dues

मुंबई. अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) ने सुप्रीम कोर्ट की डेडलाइन से पहले ही स्वीडिश कंपनी एरिक्सन को बकाया 459 करोड़ रुपए चुका दिए हैं। इसमें ब्याज की रकम भी शामिल है। अनिल अंबानी ने बड़े भाई मुकेश अंबानी का आभार जताते हुए कहा, मैं उनको और भाभी को दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं। मुश्किल वक्त में मेरे साथ खड़े रहे और वक्त पर मेरा साथ दिया। मैं और मेरा परिवार शुक्रगुजार हैं कि हम अतीत से आगे बढ़ चुके हैं। इस मौके पर dainikbhaskar.com आपको अनिल अंबानी के उस इंटरव्यू के बारे में बता रहा है, जब उन्होंने कहा था कि बुरे दौर से गुजरने के दौरान कैसे लोगों ने उनका साथ छोड़ दिया था। यह भी कहा था कि उन्हें दोस्त-दुश्मन की पहचान हो गई है।

एक इंग्लिश न्यूज वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में अनिल ने कहा था- जब एक बड़ा कारोबारी कर्ज में डूब जाता है, तो उसे आम इंसान की तरह बुरे दौर से गुजरना पड़ता है। 2017 मेरे लिए काफी मुश्किलों भरा रहा। इस दौरान कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। 2G केस में फंसने के बाद बुरे वक्त की शुरुआत हुई। बता दें कि आरकॉम पर मार्च, 2017 तक बैंकों का 7 अरब डॉलर (लगभग 45 हजार करोड़ रु) का कर्ज था। कर्ज के ये आंकड़े खुद अनिल अंबानी ने सार्वजनिक किए थे। उन्होंने कहा था, मुश्किल की इस घड़ी में कौन-कौन सच्चा दोस्त है, इसका पता चल गया। कुछ ही लोग थे, जिन्होंने मेरा साथ दिया था। कई ऐसे भी रहे, जो फोन कॉल्स का जवाब तक नहीं देते थे। हालांकि, ये लोग कौन थे अनिल ने इंटरव्यू में इसका जिक्र नहीं किया था।

'अंत में जीत सच्चाई की ही होती है'

इंटरव्यू में 2G केस में बरी होने के सवाल पर अंबानी ने कहा था- जीत आखिर में सच्चाई की ही होती है। ऐसे समय में पता चलता है कि आपके साथ कौन है और कौन नहीं। किसी कंपनी या शख्स को बिना बात शर्मसार नहीं करना चाहिए। न ही बेबुनियाद आरोप लगाए जाने चाहिए। अनिल ने तब कहा था, साख बनाने में इंसान को कई साल लग जाते हैं। लेकिन एक झूठा आरोप इसे पल भर में खत्म कर देता है। इंटरव्यू में उन्होंने यह भी कहा था कि वह रिलायंस ग्रुप को दोबारा मजबूती से खड़ा करने की तैयारी कर रहे हैं।

SC ने अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी ठहराया था

फरवरी में सुप्रीम कोर्ट ने अनिल अंबानी को एक महीने के अंदर एरिक्सन को 453 करोड़ रुपए चुकाने के लिए कहा था। इसमें चूक होने पर कोर्ट ने उन्हें तीन महीने जेल भेजने की बात कही थी। भुगतान की डेडलाइन 19 मार्च थी।

क्या था एरिक्सन-आरकॉम विवाद ?

एरिक्सन ने साल 2014 में आरकॉम का टेलीकॉम नेटवर्क संभालने के लिए 7 साल की डील की थी। उसका आरोप था कि आरकॉम ने 1,500 करोड़ रुपए की बकाया रकम नहीं चुकाई। पिछले साल दिवालिया अदालत में सेटलमेंट प्रक्रिया के तहत एरिक्सन इस बात के लिए राजी हुई कि आरकॉम सिर्फ 550 करोड़ रुपए का भुगतान कर दे।

X
Anil Ambani's interview Recall when he was in difficult times, He thanks elder brother Mukesh Ambani for paying Ericsson dues
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना