--Advertisement--

असाधारण प्रतिभाओं को मिलेगा भारत प्रेरणा पुरस्कार

डॉ. अनिल मुरारका तथा ऐम्पल मिशन की अनोखी पहल, 14 अप्रैल को शाम 6.30 बजे आयोजित होगा समारोह।

Danik Bhaskar | Apr 10, 2018, 06:47 PM IST

मुंबई। इस देश में ऐसी अनेक प्रतिभाएं हैं जिन्होंने दिव्यांग होने के बावजूद शारीरिक बाधाओं एवं विपरीत परिस्थितियों की परवाह नहीं की और सफलता की बुलंदियों पर पहुंच कर ही दम लिया। असाधारण उपलब्धियां हासिल कर अन्य प्रतिभाओं तथा युवाओं के लिए प्रेरणा बनने वाली इन असाधारण हस्तियों को समाजसेवी डॉ. अनिल मुरारका द्वारा स्थापित ऐम्पल मिशन की ओर से 14 अप्रैल की शाम भारत प्रेरणा पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। सम्मान पाने वालों में क्रिकेटर, कलाकार, संगीतकार, गायक, शिक्षक, फैशन डिजाइनर और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े वे लोग हैं जिन्होंने अपनी लगन, तपस्या, कड़ी मेहनत और सतत संघर्ष के बल पर एक अलग मुकाम बनाया तथा दूसरों को भी अर्जुन की तरह अपने लक्ष्य को भेदने की प्रेरणा दी।

मानव कल्याण, परोपकार तथा समाजसेवा को जीवन का मिशन मानकर चलने वाले मीराकेम इंडस्ट्रीज के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. अनिल मुरारका को राष्ट्रसेवा की प्रेरणा अपने पिता काशी चिरंजीलाल मुरारका से मिली, जो सादा जीवन उच्च विचार में विश्वास रखते हैं। डॉ. अनिल मुरारका ने अपने छोटे भाई मनीष मुरारका के साथ मिलकर अनेक प्रतिभाशाली कलाकारों को खोज निकाला और उन्हें फुटपाथ से उठाकर गीत-संगीत के क्षेत्र में उभरने का अवसर प्रदान किया। अमिताभ बच्चन तथा कंगना रनौट का सहयोग लेकर स्वच्छ भारत अभियान पर शॉर्ट फिल्म बनाई, जिसकी हर तरफ सराहना हुई। समाज को जहां उन्होंने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया, वहीं स्मोकिंग के खिलाफ युवा पीढ़ी को जागरूक किया। एक दिन किसी अखबार में उन्होंने एक दिव्यांग युवती के हैरतअंगेज कारनामों की खबर पढ़ी। फिर कुछ और दिव्यांगों की उपलब्धियों और सफलता की कहानी से वे रूबरू हुए और उसी दिन भारत प्रेरणा पुरस्कार की रूपरेखा उनके मन में उभर कर सामने आ गई।

पिछले साल भारत प्रेरणा पुरस्कार समारोह का पहला आयोजन बेहद कामयाब रहा। समारोह में मजबूत इच्छाशक्ति वाली बारह दिव्यांग प्रतिभाओं को इस अवॉर्ड से नवाजा गया। रेल दुर्घटना में पैर गवांकर भी मेडिकल पढ़ाई पूरी करने वाली डॉ. रोशन शेख, सिर के सारे बाल गंवाने के बाद भी पूरे आत्मविश्वास से मिसेज इंडिया कॉन्टेस्ट में भाग लेने वाली केतकी नितेश जानी, सुनने की शक्ति से वंचित होने के बावजूद एमबीए की परीक्षा पास करने वाली अनंती जठार, आत्मविश्वास के बल पर बीमा कंपनी में उच्च प्रशासनिक अधिकारी बने विनायक भिसे इनमें शामिल थे। इस साल भी एक से एक विलक्षण दिव्यांग टैलेंट को भारत प्रेरणा अवॉर्ड से सम्मानित होने का गौरव हासिल होगा। डॉ. अनिल मुरारका ने बताया, 'सिनेमा और टीवी के सितारे भी समारोह में उपस्थित होकर पुरस्कार विजेताओं का हौसला बढ़ाएंगे।'