भीमा कोरेगांव हिंसा / एनआईए को केस सौंपने पर राकांपा-शिवसेना में विवाद: उद्धव के फैसले के खिलाफ मलिक बोले- हम भी एसआईटी जांच कराएंगे

कोल्हापुर में एक कार्यक्रम में शरद पवार ने उद्धव के फैसले पर नाराजगी जताई थी। -फाइल फोटो कोल्हापुर में एक कार्यक्रम में शरद पवार ने उद्धव के फैसले पर नाराजगी जताई थी। -फाइल फोटो
X
कोल्हापुर में एक कार्यक्रम में शरद पवार ने उद्धव के फैसले पर नाराजगी जताई थी। -फाइल फोटोकोल्हापुर में एक कार्यक्रम में शरद पवार ने उद्धव के फैसले पर नाराजगी जताई थी। -फाइल फोटो

  • शरद पवार चाहते थे कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच पुलिस करे, राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने स्टेट एजेंसी से जांच करवाने की बात कही
  • मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने देशमुख की बात को दरकिनार करते हुए मामले की जांच एनआईए को सौंपने का फैसला किया 

दैनिक भास्कर

Feb 17, 2020, 03:22 PM IST

मुंबई. भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंपने के सरकार के फैसले से राकांपा प्रमुख शरद पवार नाराज हैं। उन्होंने सोमवार को अपने घर पार्टी के सभी मंत्रियों की बैठक बुलाई। मीटिंग के बाद राकांपा प्रवक्ता और मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि एसआईटी की जांच के दौरान सेक्शन 10 में यह प्रावधान है कि राज्य सरकार भी समानांतर जांच करवा सकती है। जल्द ही राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख एसआईटी गठित करने का आदेश जारी करेंगे। वे पवार साहब के पत्र पर संज्ञान ले रहे हैं।

दरअसल, पवार चाहते थे कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस करे। एनआईए को जांच सौंपने पर राज्य के गृह मंत्री और राकांपा नेता अनिल देशमुख ने भी आपत्ति जताई थी। उन्होंने मामले की जांच राज्य की एजेंसी से करवाने की बात कही थी। उद्धव ने देशमुख की बात दरकिनार करते हुए जांच एनआईए को सौंपने का फैसला किया। इसके बाद से ही पवार और ठाकरे के बीच तनातनी जारी है।

एनआईए को जांच सौंपना संविधान के मुताबिक गलत: पवार
पवार ने शिवसेना के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए कहा था, ‘‘भीमा-कोरेगांव मामले में महाराष्‍ट्र पुलिस के कुछ अधिकारियों का व्‍यवहार आपत्तिजनक था। मैं चाहता था कि इन अधिकारियों के बर्ताव की भी जांच हो।  जिस दिन सुबह महाराष्‍ट्र सरकार के मंत्रियों ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की, उसी दिन शाम को 3 बजे केंद्र ने पूरे मामले को एनआईए को सौंप दिया। संविधान के मुताबिक यह गलत है, क्‍योंकि आ‍पराधिक जांच राज्‍य के क्षेत्राधिकार में आती है।’’

पवार को डर है कि सच्चाई सामने आ जाएगी: फडणवीस 
रविवार को पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘‘भीमा कोरेगांव मामला एनआईए को सौंपने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को धन्यवाद देता हूं। शरद पवार इसका विरोध कर रहे थे, क्योंकि उन्हें डर था कि एनआईए की जांच से सच्चाई सामने आ जाएगी।’’ फडणवीस ने यह भी कहा- ‘‘मैं आपको (शिवसेना) चुनौती देता हूं कि अगर आप इतने आश्वस्त हैं तो फिर से चुनाव लड़ें। भाजपा अकेले ही कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना को हराएगी।’’

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना