महाराष्ट्र / प्रधानमंत्री मोदी से मिले मुख्यमंत्री ठाकरे, कहा- सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर हमारी कांग्रेस से बातचीत जारी, इसीलिए महाराष्ट्र में शांति है

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा- सीएए पर किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा- सीएए पर किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है।
आदित्य और उद्धव ठाकरे ने पीएम को गुलदस्ता भेंट में दिया। आदित्य और उद्धव ठाकरे ने पीएम को गुलदस्ता भेंट में दिया।
मुख्यमंत्री ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की।
मुख्यमंत्री ठाकरे और आदित्य ने भाजपा के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ठाकरे और आदित्य ने भाजपा के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की।
X
मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा- सीएए पर किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है।मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा- सीएए पर किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है।
आदित्य और उद्धव ठाकरे ने पीएम को गुलदस्ता भेंट में दिया।आदित्य और उद्धव ठाकरे ने पीएम को गुलदस्ता भेंट में दिया।
मुख्यमंत्री ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की।मुख्यमंत्री ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की।
मुख्यमंत्री ठाकरे और आदित्य ने भाजपा के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की।मुख्यमंत्री ठाकरे और आदित्य ने भाजपा के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की।

  • महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा और शिवसेना के बीच समीकरण बदल गए थे, दोनों का 30 साल पुराना गठबंधन टूटा था
  • मुख्यमंत्री ठाकरे ने हाल ही में कहा था कि सीएए के लागू होने पर चिंता की बात नहीं, राज्य में एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा

दैनिक भास्कर

Feb 21, 2020, 08:35 PM IST

मुंबई/दिल्ली. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आधिकारिक निवास स्थान '7 लोक कल्याण मार्ग' पर मुलाकात की। इसके बाद प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा- सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर हमारी कांग्रेस से बातचीत चल रही है। इसीलिए महाराष्ट्र में शांति है। उन्होंने बताया- हमारी पीएम से सीएए, एनआरसी और एनपीआर को लेकर चर्चा हुई। सीएए को लेकर किसी को डरने की आवश्यकता नहीं है। सीएए का कानून, पड़ोसी देश में जो अल्पसंख्यक हैं, उन्हें नागरिकता देने का कानून है। ऐसे में हमारे यहां के लोगों को इससे डरने की जरूरत नहीं है।

शाहीन बाग के मुद्दे पर ठाकरे ने कहा- कुछ लोग भड़काने का काम कर रहे हैं। हालांकि बार-बार कांग्रेस का नाम पत्रकारों की ओर से लेने के बावजूद उन्होंने कांग्रेस को लेकर कुछ भी नहीं कहा। सिर्फ इतना कहा कि आप लोग दिल्ली में रहते हैं और इसको ज्यादा जानते होंगे कि कौन उन्हें भड़का रहा है। 

एनपीआर तो जनगणना की प्रक्रिया है- ठाकरे

एनपीआर को लेकर मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा- एनपीआर तो जनगणना की प्रक्रिया है। उसे सिर्फ आगे बढ़ाया है। इसके अलावा हमारी राज्य के विकास को लेकर प्रधानमंत्री से कई मुद्दों पर बातचीत हुई। एनपीआर में भी अगर हम देखेंगे कि कुछ चीजें गलत हैं तो आगे उस पर फैसला लिया जाएगा। मोदी जी से जीएसटी के मुद्दे पर भी बातचीत हुई। जीएसटी का पैसा आ तो रहा है लेकिन जिस तेजी से आना चाहिए वह नहीं आ रहा है।
 

मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ठाकरे के साथ उनके बेटे आदित्य ठाकरे भी मौजूद थे। यह मुलाकात उस वक्त हुई जब सीएम उद्धव, सरकार में अपने दो सहयोगियों राकांपा-कांग्रेस के विचारों से विपरीत एनपीआर और भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में अपना रुख सामने रख चुके हैं। ठाकरे ने भीमा कोरेगांव हिंसा से एक दिन पहले हुई यलगार परिषद की जांच एनआईए को सौंपी है, वहीं वे राज्य में एनपीआर को मंजूरी दे चुके हैं। इसका राकांपा नेताओं ने खुलकर विरोध किया है।

विधानसभा चुनाव में शिवसेना दूसरे नंबर की पार्टी रही

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की कुल 288 सीटों में से भाजपा ने 105 सीटों पर जीत दर्ज की थी। शिवसेना दूसरे नंबर पर रही। उसने 56 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं, शरद पवार की पार्टी राकांपा तीसरे नंबर पर रही। राकांपा ने 54 सीटों पर जीत दर्ज की थी और कांग्रेस के खाते में 44 सीटें गई थीं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना