--Advertisement--

10 साल लिव-इन में रहने के बाद होटल मालिक केशव सूरी ने की GAY मैरिज, खुशी जाहिर करते हुए लिखा- 'यूं ही मेरे साथ 10 साल और चलो, मैं हर सजा के लिए तैयार हूं'

33 साल के केशव भारत में LGBT अधिकारों के एक्टिव कैंपेनर भी हैं।

Danik Bhaskar | Jun 27, 2018, 12:34 PM IST
शादी के बाद केशव सूरी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की ये तस्वीर शादी के बाद केशव सूरी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की ये तस्वीर

मुंबई. 'द ललित होटल्स' के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर केशव सूरी अपने समलैंगिक पार्टनर सिरिल फुइलेबोइस के साथ शादी के बंधन में बंध गए। मंगलवार को पेरिस में दोनों की शादी हुई। रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों 10 साल से लिव इन में रह रहे थे। सूरी ने खुद सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी। शादी की घोषणा करते हुए सूरी ने लिखा...

- सोशल मीडिया पर अपनी शादी की घोषणा करते हुए केशव सूरी ने लिखा- '10 साल हमने काफी तकलीफें झेलीं। इन बीते सालों के हर एक पल से मुझे प्यार है।'

- उन्होंने आगे लिखा- 'मेरे साथ यूं ही 10 साल और चलो...मुझे पता है यह उत्पीड़न जैसा होगा, लेकिन मैं हर एक सजा के लिए तैयार हूं।'
- सिरिल, दिल्ली के बसंत विहार में केशव के साथ पिछले 10 साल से लिव इन में रह रहे थे। सिरिल, दिल्ली से बाहर एक ऑर्गेनिक कॉस्मेटिक फर्म चलाते हैं।

ऐसे चर्चा में आए थे केशव सूरी

- 33 साल के केशव सूरी इसी साल अप्रैल महीने में पिटीशन के जरिए समलैंगिकता को IPC 377 के तहत अपराध बताने वाले कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देकर चर्चा में आए थे।
- तब उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, 'मैं शुरू से गे था। गे ही पैदा हुआ था। कभी अपनी सेक्शुअलिटी को लेकर दुविधा में नहीं रहा। मैं कोई एक्टिविस्ट नहीं हूं। मेरे पास कोई राजनीतिक एजेंडा नहीं है।'

- 'मैं सिर्फ एक नागरिक हूं, जो अपने मौलिक अधिकारों का इस्तेमाल करता है। मैं टैक्स पेयर हूं। मेरे पास एक खास बैकग्राउंड है। मुझे लगता है- क्यों न इसका इस्तेमाल सही जगह पर करें?'

कौन हैं केशव सूरी?
- केशव, दिवंगत होटल मालिक ललित सूरी के बेटे हैं। ललित, भारत होटल्स के ओनर और फाउंडिंग चेयरमैन थे। अब केशव की मां डॉ ज्योत्सना सूरी ग्रुप की चेयरपर्सन और एमडी हैं। इसके अलावा उनकी तीनों बहनें भी ग्रुप में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर्स हैं। इसके साथ ही वे ललित सूरी हॉस्पिटैलिटी ग्रुप भी चलाते हैं।
- तीन बहनों के बाद केशव चौथे बच्चे हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था- 'ये माना जा रहा था कि बेटा पंजाबी बिजनेस की विरासत संभालेगा। खैर, एक बेटा बिजनेस चला सकता है और एक गे बेटा इसे और भी बेहतर बना सकता है।'
- 'जब मैं बड़ा हुआ तो मुझे भेदभाव का सामना करना पड़ा। मैं ब्वॉय स्कूल में था। कल्पना कीजिए लड़के दूसरे लड़कों के साथ क्या कर सकते हैं, अगर वो लड़का थोड़ा हटकर हो। शुरू में ये एक संघर्ष जैसा था, लेकिन ये उनके (परिवार) लिए भी शिक्षा थी।'

- केशव वारविक यूनिवर्सिटी से लॉ एंड बिजनेस में ग्रेजुएट हैं। उन्होंने लंदन के किंग्स कॉलेज से इंटरनेशनल मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री ली। इसके अलावा लंदन में ही स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज से लॉ की भी डिग्री है।

समलैंगिक कर्मियों के लिए मेडिक्लेम

- इसी महीने एक रिपोर्ट आई थी कि ललित सूरी हॉस्पिटैलिटी ग्रुप ने आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के साथ समलैंगिंक कर्मचारियों, सेरोगेसी से जन्मे बच्चे और सिंगल पैंरट्स के लिए एक मेडिक्लेम पॉलिसी घोषित की थी। इससे 3 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को फायदा हुआ।

क्या है ललित सूरी हॉस्पिटैलिटी ग्रुप ?
- यह भारत होटल लिमिटेड का ही एक एंटरप्रइज है, जो इंडिया की सबसे बड़ी और तेजी से बढ़ती निजी स्वामित्व वाली होटल कंपनी है। कंपनी के कुल 17 लग्जरी होटल्स (11 ऑपरेशनल और छह अंडर डेवलपमेंट) हैं। इनमें से तीन विदेशों में हैं।
- ऑपरेशनल होटल्स में द ललित न्यू दिल्ली, द ललित मुंबई, द ललित ग्रांड पैलेस श्रीनगर, द ललित गोल्फ एंड स्पा रिसॉर्ट गोवा, द ललित अशोक बेंगलुरु, द ललित लक्ष्मी विलास पैलेस उदयपुर, द ललित टेम्पल व्यू खजुराहो, द ललित रिसॉर्ट एंड स्पा बेकल (केरल), द ललित जयपुर, द ललित चंडीगढ़ एंड द ललित ग्रेट इस्टर्न कोलकाता शामिल है। ये सभी पांच सितारा डिलक्स सेगमेंट के हैं।
- अगले पांच साल में ग्रुप 25 और होटल्स खोलने की प्लानिंग कर रहा है।

धारा 377 को हटाने की मांग
- 1860 के दशक में अंग्रेजों द्वारा एलजीबीटी पर कानून बनाने की सहमति हुई थी, जो धारा 377 के रूप में प्रचलित है।
- लेकिन हाल के वर्षों में इसे हटाने की मांग बढ़ी है। इसके लिए संविधान द्वारा दिए गए निजता के अधिकार का प्रत्यक्ष रूप से हनन का हवाला दिया गया है।

केशव सूरी केशव सूरी