महाराष्ट्र / भाजपा-शिवसेना के बीच गठबंधन का फैसला अंतिम चरण में, इस बार जीतेंगे 220 सीटें: चंद्रकांत पाटिल

भाजपा नेता चंद्रकांत पाटिल-फाइल भाजपा नेता चंद्रकांत पाटिल-फाइल
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फाइल महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फाइल
X
भाजपा नेता चंद्रकांत पाटिल-फाइलभाजपा नेता चंद्रकांत पाटिल-फाइल
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फाइलमहाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फाइल

  • दोनों दल अभी तक सीट बंटवारे पर अंतिम फैसला नहीं ले पाए हैं, आम सहमति के फाॅर्मूले पर बातचीत जारी है
  • 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में फिलहाल भाजपा के पास 122, शिवसेना के 63 विधायक

दैनिक भास्कर

Sep 24, 2019, 02:15 PM IST

मुंबई. महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान हो चुका है। लेकिन, अभी तक सत्तारुढ़ भाजपा-शिवसेना के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बन पाई है। भाजपा के वरिष्ठ नेता चंद्रकांत पाटिल ने मंगलवार को बताया कि दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन का फैसला लगभग अंतिम चरण में है। जो लोग यह कह रहे हैं कि गठबंधन नहीं होने जा रहा, उन्हें निराशा होगी।

 

भाजपा नेता ने आगे कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में वे इस बार 220 सीटें जीतने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि महाजनादेश यात्रा ने तकरीब 149 विधानसभाओं को कवर किया। इसका अच्छा रिजल्ट मिलता दिख रहा है। बता दें कि चुनाव को लेकर शिवसेना के बड़े नेता भी उद्धव ठाकरे संग मातोश्री में बैठक करने वाले हैं।

 

 

 

जितनी चिंता मीडिया को उतनी मुझे भी: मुख्यमंत्री

सोमवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि गठबंधन की घोषणा जल्द होगी। उन्होंने कहा कि गठबंधन की जितनी चिंता आपको (मीडिया) है, उतनी ही चिंता मुझे भी है। गठबंधन ऐलान के समय ही सीटों के बंटवारे का फाॅर्मूला घोषित किया जाएगा।

 

भारत-पाक बंटवारे से भी भयंकर सीटों का बंटवारा: शिवसेना 

शिवसेना नेता संजय राउत ने मंगलवार को राज्य में सीटों के बंटवारे को भारत-पाक बंटवारे से भी भयंकर है। उन्होंने कहा, 'इतना बड़ा महाराष्ट्र है, ये जो 288 सीट का बंटवारा है ये भारत-पाकिस्तान के बंटवारे से भी भयंकर है। हम सरकार में रहेंगे या फिर विपक्ष में रहेंगे यह तस्वीर बदल सकती है। हम जो भी निर्णय लेंगे सूचित करेंगे।'

 

अगर गठबंधन की जरुरत नहीं तो स्पष्ट करे भाजपा

राऊत ने यह भी कहा कि कई विधानसभा क्षेत्रों में दोनों दलों के कार्यकर्ताओं में गठबंधन को लेकर असमंजस है। राऊत ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को मुंबई में कहा था कि प्रदेश में सरकार भाजपा की बनेगी। इस पर हमारा कहना है कि भाजपा को अगर गठबंधन की जरूरत नहीं है तो पार्टी को स्पष्ट कर देना चाहिए। शिवसेना अकेले चुनाव लड़ने के लिए तैयार है। 

 

यहां फंसा है पेंच?

शिवसेना, भाजपा के साथ बराबर सीट बांटना चाहती है। बची हुई सीटें गठबंधन की छोटी साझेदार पार्टियों में बांटना है। वहीं भाजपा ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। दोनों दल अभी तक सीट बंटवारे पर अंतिम फैसला नहीं ले पाए हैं, लेकिन मोटे तौर पर आम सहमति के फाॅर्मूले पर पहुंच गए हैं। 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा के पास 122 सीटें हैं। वहीं शिवसेना के पास 63 सीटें हैं।

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना