पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को मतदान, 24 को नतीजे आएंगे; 288 सीटों पर एक ही चरण में चुनाव

10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा-फाइल
  • महाराष्ट्र में 2 नवंबर को विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है
  • महाराष्ट्र में 8.9 करोड़ मतदाता हैं और 1.8 लाख बैलेट यूनिट हैं
  • विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ राज्य में आदर्श आचार संहिता लागू
Advertisement
Advertisement

मुंबई. महाराष्ट्र में विधानसभा की 288 सीटों के लिए शनिवार को चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने बताया कि पूरे राज्य में 21 अक्टूबर को मतदान होगा, जबकि 24 अक्टूबर मतगणना की जाएगी।   
 
अरोरा के मुताबिक, महाराष्ट्र में 2 नवंबर को विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। ऐसे में इससे पहले राज्य में चुनाव की प्रक्रिया पूरी होगी। चुनाव आयुक्त के मुताबिक, महाराष्ट्र में 8.9 करोड़ मतदाता हैं और 1.8 लाख बैलेट यूनिट, 1.28 लाख CU और 1.39 लाख वीवीपैट मशीनें हैं।
 

महाराष्ट्र और हरियाणा का चुनाव शेड्यूल

नोटिफिकेशन27 सितंबर
नामांकन की आखिरी तारीख4 अक्टूबर
नामांकन की स्क्रूटनी5 अक्टूबर
नाम वापसी की आखिरी तारीख7 अक्टूबर
मतदान21 अक्टूबर
नतीजे24 अक्टूबर

 

28 लाख रुपये ही खर्च कर पाएंगे प्रत्याशी
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने कहा कि प्रत्याशी के लिए चुनाव में खर्च की अधिकतम लिमिट 28 लाख रुपये रहेगी। चुनाव आयोग की ओर से खर्च पर भी नजर रखी जाएगी। चुनाव आयोग की ओर से राजनीतिक दलों से अपील की गई है कि वह अपने प्रचार में प्लास्टिक का कम से कम इस्तेमाल करें और पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए अपने प्रचार को आगे बढ़ाएं।
 
 

ऐसी होगी चुनाव की पूरी प्रक्रिया
केंद्रीय चुनाव आयोग जैसे ही विधानसभा चुनाव की घोषणा करता है, वैसे ही आदर्श चुनाव संहिता लागू हो जाती है। चुनाव घोषणा करने के सात दिन के अंदर आयोग को नोटिफिकेशन जारी करना होता है। नोटिफिकेशन जारी करने के बाद सातवें दिन नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाती है। नामांकन भरने के अंतिम दिन के बाद अगले दिन चुनाव अधिकारी उम्मीदवारों के फॉर्म की छंटनी करता है। छंटनी करने बाद दो दिन का समय नाम वापसी के लिए दिया जाता है। नाम वापस लेने के अगले दिन से उम्मीदवार को 14 दिन प्रचार के लिए मिलते हैं। चुनाव प्रचार खत्म होने के तीसरे दिन मतदान होता है।
 
इसकी अगली सुबह चुनाव आयोग री-पोल के लिए एक दिन रिजर्व रखता है। री-पोल के तीसरे दिन मतों की गणना के साथ ही नतीजे घोषित किए जाते हैं। चुनाव आयोग चाहे तो नतीजे घोषित होने के दूसरे दिन ही नतीजों से संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर सकता है। यानी चुनाव आयोग की भूमिका यहां खत्म हो जाती है। फिर सरकार बनाने के लिए राज्यपाल की भूमिका शुरू होती है।
 

महाराष्ट्र में सत्ता के दावेदार
मौजूदा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे, कांग्रेस के अशोक चव्हाण और राकांपा प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजीत पवार।
 

राज्य में चुनावी मुद्दा
विदर्भ में सूखा और किसान आत्महत्या, मध्य महाराष्ट्र में बाढ़, मराठा आरक्षण प्रमुख मुद्दे रहने वाले हैं।
 

महाराष्ट्र में पिछली बार भाजपा-शिवसेना ने 25 साल बाद अलग-अलग चुनाव लड़ा था
महाराष्ट्र में 2014 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा-शिवसेना में गठबंधन टूट गया था। दोनों दलों ने 25 साल बाद अलग-अलग चुनाव लड़ा। भाजपा को 122 और शिवसेना को 63 सीटें मिली थीं। वहीं, कांग्रेस-राकांपा के बीच भी सीटों के बंटवारे को लेकर समझौता नहीं हो पाया। इन दोनों दलों ने भी अलग-अलग चुनाव लड़ा। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement