महाराष्ट्र / विधानमंडल का बजट सत्र आज से, विपक्ष ने किया सरकार की चाय पार्टी का बहिष्कार



विपक्ष ने इस चाय पार्टी का बहिष्कार किया। विपक्ष ने इस चाय पार्टी का बहिष्कार किया।
X
विपक्ष ने इस चाय पार्टी का बहिष्कार किया।विपक्ष ने इस चाय पार्टी का बहिष्कार किया।

  • सत्र में सूखे पर एक दिन चर्चा होगी
  • विपक्ष ने सत्र शुरू होने की पूर्व संध्या पर सरकार की चाय पार्टी का बहिष्कार करके दिया

Dainik Bhaskar

Feb 25, 2019, 10:13 AM IST

मुंबई. सोमवार से शुरू हो रहे राज्य विधानमंडल के बजट सत्र में विपक्ष ने सरकार को सूखा, किसानों की संपूर्ण कर्ज माफी समेत अन्य मुद्दों पर घेरने की तैयारी कर ली है। विपक्ष ने इसका संकेत सत्र शुरू होने की पूर्व संध्या पर सरकार की चाय पार्टी का बहिष्कार करके दिया। साथ ही सरकार पर कई आरोप भी लगाए। वहीं विपक्ष को जवाब देने के लिए सरकार ने भी रणनीति बना ली है। मुख्यमंत्री ने कह्म कि सत्र में सूखे पर एक दिन चर्चा होगी।

 

देश में पुलवामा और मुख्यमंत्री कर रहे चाय पार्टी: विपक्ष

पिछले कई वर्षों की तरह, सत्र की पूर्व संध्या पर सत्ता पक्ष की चाय पार्टी का विपक्ष ने बहिष्कार किया। विपक्ष ने आरोप लगाया कि देश जब पुलवामा की घटना के बाद से शोकमग्न है, तब सत्ता चाय पार्टी कर रहा है। विपक्ष के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि चाय पार्टी कोई जश्न नहीं है।

 

प्रदेश में भीषण सूखा, किसानों को मिले संपूर्ण कर्जमाफी: विपक्ष

सत्र को लेकर विपक्षी दलों की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में रविवार को विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटील ने कहा कि केंद्र सरकार की तर्ज पर प्रदेश की भाजपा-शिवसेना सरकार अंतरिम बजट में लोकलुभावन घोषणा करके जनता को भ्रमित करेगी। राज्य में भीषण सूखे की स्थिति को देखते हुए सरकार को किसानों का साल 2018 के खरीफ फसल तक का संपूर्ण कर्ज माफ करना चाहिए। सरकार किसान आत्महत्या रोकने में विफल रही है। 

 

विखे पाटील के आरोप

  • सरकार किसान आत्महत्या रोकने में विफल रही है इसकी कर्ज माफी योजना सफल नहीं हो पाई 1 करोड़ 36 लाख किसानों में से एक तिहाई किसानों को कर्ज माफी का अंशिता लाभ मिला है।
  • पुलिस विभाग में अपराध शाखा सबसे महत्वपूर्ण होती है, लेकिन मुख्यमंत्री के जिले नागपुर में फर्जी अपराध शाखा है। इससे खराब स्थिति क्या हो सकती है।


नहीं करनी चाहिए नई घोषणाएं: धनंजय मुंडे
वहीं विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष धनंजय मुंडे ने कहा कि सरकार को नैतिकता का ध्यान रखते हुए लोकसभा चुनाव से पूर्व पेश होने वाले अंतरिम बजट में नई योजनाओं की घोषणा नहीं करनी चाहिए।

 


6 दिन चलेगा अधिवेशन

सोमवार को राज्यपाल सी विद्यासागर राव के अभिभाषण के साथ सत्र की शुरुआत होगी अंतरिम बजट 27 फरवरी को पेश किया जाएगा। इस सत्र में कुल 11 विधेयक पेश किए जाएंगे। 26 फरवरी को पूरक मांगें सदन में पेश होंगी। 1 और 2 मार्च को सूखे पर चर्चा होगी।  27 फरवरी को वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार बजट पेश करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बार का बजट पूर्ण बजट नहीं होगा। 

 

 

 


 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना