--Advertisement--

मनसे / बंद में शामिल न होने पर राज ठाकरे का शिवसेना पर आपत्तिजनक बयान



मनसे प्रमुख ने मीडिया से बात करते हुए शिवसेना पर जमकर निशाना साधा। मनसे प्रमुख ने मीडिया से बात करते हुए शिवसेना पर जमकर निशाना साधा।
  • विपक्ष के बंद को शिवसेना ने असफल करार दिया
  • कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों ने किया था भारत बंद का आह्वान
Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 04:34 PM IST

मुंबई. विपक्षी दलों के भारत बंद में शिवसेना के शामिल नहीं होने पर महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने उस पर आपत्तिजनक बयान दिया है। उन्होंने कहा- कुत्ते की एक नस्‍ल होती है जिसे पता नहीं रहता किधर देखें। यही हाल शिवसेना का है। 

काम हो जाए तो चुप हो जाती है शिवसेना

  1. काम हो जाए तो चुप हो जाती है शिवसेना

    राज ठाकरे ने कहा, ‘‘जब उनका (शिवसेना के नेताओं) पैसा अटक जाता है तो वे गठबंधन से बाहर निकलने की बात करते हैं। जब उनका काम हो जाता है तो चुप्‍पी साध लेते हैं।’’
        

  2. बीजेपी ने किए झूठे दावे

    कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों ने बुधवार को भारत बंद का आह्वान किया था। इसमें मनसे शामिल हुई थी, शिवसेना शामिल नहीं हुई। शिवसेना ने इस बंद को असफल करार दिया था।

  3. बंद को लेकर यह था शिवसेना का रुख

    राज ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘देश चार साल से सब देख रहा है। उन्‍होंने (शिवसेना) सिर्फ पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर संपादकीय लिखा। उनके पास निभाने को अब कोई किरदार नहीं बचा।’’

  4. काम हो जाए तो चुप हो जाती है शिवसेना

    राज ठाकरे ने कहा, ‘‘जब उनका (शिवसेना के नेताओं) पैसा अटक जाता है तो वे गठबंधन से बाहर निकलने की बात करते हैं। जब उनका काम हो जाता है तो चुप्‍पी साध लेते हैं।’’
        

  5. बीजेपी ने किए झूठे दावे

    कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों ने सोमवार को भारत बंद का आवाहन किया था। इसमें मनसे शामिल हुई थी, शिवसेना शामिल नहीं हुई। शिवसेना ने इस बंद को असफल करार दिया था।

  6. बंद को लेकर यह था शिवसेना का रुख

    राज ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘देश चार साल से सब देख रहा है। उन्‍होंने (शिवसेना) सिर्फ पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर संपादकीय लिखा। उनके पास निभाने को अब कोई किरदार नहीं बचा।’’

  7. बीजेपी ने किए झूठे दावे

    कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों ने सोमवार को भारत बंद का आवाहन किया था। इसमें मनसे शामिल हुई थी, शिवसेना शामिल नहीं हुई। शिवसेना ने इस बंद को असफल करार दिया था।

  8. बंद को लेकर यह था शिवसेना का रुख

    राज ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘देश चार साल से सब देख रहा है। उन्‍होंने (शिवसेना) सिर्फ पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर संपादकीय लिखा। उनके पास निभाने को अब कोई किरदार नहीं बचा।’’