कोरोना इफेक्ट / मुंबई में आज रात से एक अप्रैल तक नहीं प्रकाशित होगा कोई भी अखबार

Mumbai Coronavirus Newspapers Update; Mumbai have suspended publishing and distribution of Newspaper Today Latest News
X
Mumbai Coronavirus Newspapers Update; Mumbai have suspended publishing and distribution of Newspaper Today Latest News

  • मुंबई में पहली बार ऐसा हुआ है कि समाचार पत्रों का प्रकाशन बंद करना पड़ा है
  • रविवार को समाचार पत्रों की प्रिंटिंग पूर्व की तरह हुई लेकिन जनता कर्फ्यू के कारण समाचार पत्र विक्रेताओं ने समाचार पत्रों को नही खरीदा

दैनिक भास्कर

Mar 25, 2020, 05:25 PM IST

मुंबई. शहर में आज शाम से एक अप्रैल तक कोई भी अखबार प्रकाशित नहीं होगा। यह फैसला समाचार पत्र विक्रेताओं के संगठन बृहनमुंबई वृतपत्र विक्रेता संघ ने उद्योगमंत्री सुभाष देसाई से मुलाकात के बाद लिया है। इस चर्चा में दिनोदिन बढ़ रहे कोरोनावायरस के संक्रमण से सुरक्षा पर चर्चा हुई है। 

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में पहली बार ऐसा हुआ है कि समाचार पत्रों का प्रकाशन बंद करना पड़ा। इससे पहले रविवार को मुंबई में समाचार पत्रों की प्रिंटिंग पूर्व की तरह हुई लेकिन जनता कर्फ्यू के कारण समाचार पत्र विक्रेताओं ने समाचार पत्रों को नही खरीदा, जिसके बाद सभी प्रिंटिंग पेपर वापस मंगा लिए गए। इसके अगले दिन लोकल ट्रेनों के बंद हो जाने करने के कारण कुछ अखबारों का प्रकाशन नहीं हुआ। 

कर्मचारियों को ऑफिस पहुंचने में हो रही दिक्कत 

महाराष्ट्र सरकार ने पूरे महाराष्ट्र में कर्फ्यू लगा दिया है। लोकल ट्रेन बंद हैं, जिसके चलते ज्यादातर प्रिंट मीडिया के कर्मी घर पर ही हैं और प्रिंटिंग से जुड़े लोगों को भी काफी दिक्कत का सामना कर प्रिंटिंग प्लांट तक जाना पड़ रहा है। ऐसे में एसोसिएशन ने अखबार की छपाई को बंद करने का निर्णय लिया है। हालांकि, अखबारों के ऑनलाइन एडिशन चलते रहेंगे। 

डब्ल्यूएचओ ने भी कहा- पेपर रिसीव करना सेफ

देश के 30 राज्य और संघ शासित प्रदेशाें में लॉकडाउन है। ऐसे में लोग अपने घरों में कैद हैं। उनके पास टीवी और अखबार के जरिए ही जानकारियां पाने और समय बिताने का विकल्प है। ऐसे में लोगों के बीच एक अफवाह फैली कि अखबार के कारण भी कोरोना आसानी से फैलता है, लेकिन इस दावे में बिल्कुल भी सच्चाई नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी इसे अफवाह करार दिया है। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि पेपर या पैकेज को रिसीव करना सेफ है। अखबार के कारण कोरोना नहीं फैलता है। अखबार से संक्रमित होने की संभावना बिल्कुल कम है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह अलग-अलग तापमान और प्रोसेस से गुजरता है। इसीलिए इसके फैलने या रुकने की संभावना बिल्कुल ही कम है। वहीं अमेरिका की भी एक मेडिकल इंस्टिट्यूट ने कहा है कि अखबार से कोरोना फैलने की संख्या न के बराबर ही है। इंस्टिट्यूटने कहा है कि अखबार जैसी सतह पर कोरोना का सर्वाइव करना आसान नहीं है। इसलिए हमारी अपील है कि डरिए मत, सुरक्षित रहिए।

दैनिक भास्कर की प्रिंटिंग पूरी तरह सेफ

देश में कोरोना जरूर फैला है, लेकिन दैनिक भास्कर समूह ने अपने पाठकों तक पहले की तरह खबरें पहुंचाने की रफ्तार नहीं थामी। हम अपने पाठकों के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। अखबार को राज्य सरकारों ने जरूरी चीजों की सूची में रखा है। भास्कर आधुनिक प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है। इसमें अखबार छापने की प्रक्रिया पूरी तरह ऑटोमेटेड होती है। अखबार की छपाई में किसी व्यक्ति को कागज हाथ से छूने की जरूरत नहीं होती। अखबार बांटने वाली हॉकर सप्लाई चेन भी सैनिटाइज्ड होती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना