मनसे का महाधिवेशन / नागरिकता कानून पर राज ठाकरे का भाजपा को समर्थन, पार्टी का नया झंडा लॉन्च, बेटे को भी राजनीति में उतारा

पार्टी में शामिल होने के बाद अमित ठाकरे ने तलवार लहराकर समर्थकों में जोश भरा। पार्टी में शामिल होने के बाद अमित ठाकरे ने तलवार लहराकर समर्थकों में जोश भरा।
मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने पार्टी के भगवा झंडे को लॉन्च किया। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने पार्टी के भगवा झंडे को लॉन्च किया।
X
पार्टी में शामिल होने के बाद अमित ठाकरे ने तलवार लहराकर समर्थकों में जोश भरा।पार्टी में शामिल होने के बाद अमित ठाकरे ने तलवार लहराकर समर्थकों में जोश भरा।
मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने पार्टी के भगवा झंडे को लॉन्च किया।मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने पार्टी के भगवा झंडे को लॉन्च किया।

  • बाला साहब ठाकरे की जयंती (23 जनवरी) पर राज ठाकरे की मनसे ने मुंबई में महाधिवेशन बुलाया
  • मुंबई के डीजी रुपारेल कॉलेज से अमित कॉमर्स से ग्रेजुएट हैं, फेसबुक पर काफी सक्रिय रहते हैं

दैनिक भास्कर

Jan 24, 2020, 10:34 AM IST

मुंबई. महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि वे पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए घुसपैठियों को देश से बाहर निकालने के लिए मुंबई में 9 फरवरी को रैली करेंगे। उन्होंने गुरुवार को महा अधिवेशन में कहा, “नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर बहस हो सकती है, लेकिन हम किसी ऐसे व्यक्ति को शरण क्यों दें, जो अवैध रूप से भारत आया है? मैं कुछ मुद्दों पर गृह राज्यमंत्री या मुख्यमंत्री से मिलूंगा। भारत के मुस्लिम मौलवी दूसरे देशों में जाते हैं। किसी को नहीं पता कि वे क्या करते हैं। जबकि पुलिस भी वहां नहीं जा सकती।”

उन्होंने कहा, ''भारत धर्मशाला नहीं है और उसने मानवता का ठेका नहीं लिया है। मैं मराठी हूं और हिंदू भी। मैंने अपना धर्म नहीं बदला है। अगर मेरे अंदर के मराठी को छेड़ने की कोशिश होगी तो मैं मराठी के रूप में उस आदमी के पीछे पड़ जाऊंगा और अगर कोई मेरे अंदर के हिंदू को छेड़ता है तो उसे पीछे हिंदू की तरह पड़ जाऊंगा। महाराष्ट्र की राजनीति में हमने नया सहयोगी ढूंढ लिया है, लेकिन अपना भगवा रंग नहीं बदला।”

मनसे का नया झंडा, राज के बेटे भी पार्टी में शामिल

राज ठाकरे ने महा अधिवेशन में मनसे का नया फ्लैग लॉन्च किया। इस झंडे में छत्रपति शिवाजी महाराज की राज मुद्रा भी छपी है। इस मौके पर राज के बेटे अमित ठाकरे भी पार्टी में शामिल हुए। राज ठाकरे ने शिवसेना से अलग होकर 2006 में मनसे बनाई थी। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने पिछले साल कांग्रेस और राकांपा के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई थी।


कई साल से हो रही थी बेटे को राजनीति में लाने की तैयारी 

मुंबई के डीजी रुपारेल कॉलेज से कॉमर्स ग्रेजुएट अमित ठाकरे की राजनीति के लिए ग्रूमिंग और पॉलिशिंग कई साल पहले शुरू हो गई थी। कई बार वह पदाधिकारी के तौर पर पार्टी से जुड़ी बैठकों में भी शामिल हुए। अमित ज्यादातर फेसबुक पर एक्टिव रहते हैं और उसी के जरिए वह लोगों के साथ इंटरेक्ट होते हैं। इसी साल अमित ने अपना फेसबुक पेज लॉन्च किया था।

अमित का युवा वोटर्स को जोड़ने का प्रयास

राजनीतिक जानकार बताते हैं कि शिवसेना ने आदित्य ठाकरे को पूरी तरह राजनीति में उतार दिया है। हाल ही में आदित्य वर्ली सीट से चुनाव जीतकर विधायक बने। बाद में उन्हें पिता उद्धव के कैबिनेट में भी जगह दी गई। ऐसे में राज भी अमित को सक्रिय राजनीति में उतारकर राज्य के युवा वोटर्स को लुभाना चाहते हैं।

पिता की तरह ही अच्छे कार्टूनिस्ट हैं अमित
राज ठाकरे एक अच्छे कार्टूनिस्ट हैं और स्केचिंग में उनका हाथ बहुत साफ है, लेकिन उनके बेटे अमित ठाकरे उनसे दो कदम आगे हैं। अमित काफी अच्छा स्केच करते हैं। कुछ वक्त पहले उन्होंने अपने पिता राज ठाकरे की एक स्केच बनाया था। इसे उन्होंने लोगों के साथ शेयर किया था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना