महाराष्ट्र / मुंबई में यात्री को सीएए के खिलाफ बात करते सुना, तो उबर कैब चालक ने पुलिस को सौंपा

सीएए के खिलाफ एक प्रदर्शन में शामिल हुए बप्पादित्य सरकार- फाइल सीएए के खिलाफ एक प्रदर्शन में शामिल हुए बप्पादित्य सरकार- फाइल
X
सीएए के खिलाफ एक प्रदर्शन में शामिल हुए बप्पादित्य सरकार- फाइलसीएए के खिलाफ एक प्रदर्शन में शामिल हुए बप्पादित्य सरकार- फाइल

  • नागरिकता कानून के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को लेकर जयपुर के एक्टिवस्ट कैब में मोबाइल पर कर रहे थे बात
  • यात्री के पुलिस बुलाने के सवाल पर कैब चालक ने कहा- तुम देश बर्बाद करोगे और हम देखते रहेंगे

दैनिक भास्कर

Feb 07, 2020, 12:19 PM IST

मुंबई. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में जयपुर के एक एक्टिविस्ट को मोबाइल पर बात करना भारी पड़ गया। मुंबई में हो रहे कार्यक्रम में शामिल होकर लौटते समय उबर कैब में एक्टिविस्ट मोबाइल पर अपने साथी से बातें कर रहे थे। इस दौरान देश में हो रहे अलग-अलग प्रदर्शन को लेकर चर्चा की जा रही थी। कैब के चालक ने उनकी बातें सुनी तो पुलिस को बुला लिया। इसके बाद एक्टिविस्ट को पुलिस स्टेशन लाया गया और उनसे पूछताछ की गई। साथ ही उनका मोबाइल भी चेक किया गया।   

दरअसल, जयपुर के एक कवि और एक्टिविस्ट बप्पादित्य सरकार 3 फरवरी को मुंबई में हुए एक महोत्सव में शामिल होने गए थे। वहां से बुधवार रात करीब 11 बजे जुहू सिल्वर बीच से कुर्ला के लिए एक उबर कैब बुक की। रास्ते में अपने दोस्त से सीएए के विरोध में शाहीन बाग सहित देश भर में हो रहे विरोध प्रदर्शन को लेकर बात करने लगे। साथ ही चर्चा कर रहे थे कि इसे जयपुर में और प्रभावी कैसे बना सकते हैं। आरोप है कि करीब 20 मिनट बाद चालक रोहित सिंह ने सांताक्रूज पुलिस स्टेशन के बाहर कैब रोक दी। 

एटीएम से रुपए निकालने की बात कहकर चालक पुलिस को लेकर आया
इसके बाद एटीएम से रुपए निकाल कर आने की बात कहता हुआ उतर गया। थोड़ी देर में दो सिपाहियों को अपने साथ लेकर आया। सरकार ने आरोप लगाया कि सिंह ने कहा कि उसने पूरी बातचीत को मोबाइल पर रिकॉर्ड कर लिया है। उसने पुलिस को बताया कि "ये देश जलाने की बात कर रहे हैं, बोल रहा है मैं कम्युनिस्ट हूं। हम देश को शाहीन बाग बना देंगे। मेरे पास पूरी रिकॉर्डिंग है।" इस पर सरकार ने पुलिस से कहा कि वे रिकॉर्डिंग सुनें, अगर उसमें कोई भी ऐसी बात है, जो मुझे देशद्रोही साबित करती है तो मुझे गिरफ्तार करें। 

एक्टिविस्ट सरकार ने आरोप लगाया कि जब उन्होेंने कैब चालक से इस बारे में पूछा कि वह पुलिस लेकर क्यों आया तो उसने जवाब दिया कि ‘तुम देश बर्बाद करोगे और हम देखते रहेंगे? मैं कहीं और ले जा सकता था तुझे, शुक्र मनाओ कि तुम्हे पुलिस स्टेशन लेकर लाया हूं।’ सरकार ने कहा कि पुलिस ने उनसे किताबों, कम्युनिज्म, कविताएं, मुंबई बाग, शाहीन बाग को लेकर दो से ढाई घंटे तक पूछताछ की। साथ ही यह भी पूछा कि वह प्रदर्शन के लिए पैसे कहां से लेकर आते हैं। इसके बाद रात करीब 1.30 बजे मुझे छोड़ा गया। 

मुंबई पुलिस का सरकार के आरोपों से इनकार
हालांकि मुंबई पुलिस ने इस तरह के सवालों को पूछने से इनकार किया है। कैब चालक उनको लेकर आया था। उनसे सिर्फ बुनियादी सवाल पूछे गए कि वह इतनी रात में कहां जा रहे हैं। चालक के दावों की पुष्टि की गई, लेकिन मामला गंभीर नहीं देख उन्हें जाने दिया गया। वहीं शिकायत पर उबर इंडिया सपोर्ट ने लिखा, 'ये चिंता का विषय है। हम प्राथमिकता पर इस मामले को देखेंगे। हमें डायरेक्ट मैसेज के जरिए वो रजिस्टर्ड डिटेल्स भेज दीजिए, जिससे ट्रिप हुई थी। हमारी सेफ्टी टीम का एक सदस्य जल्द से जल्द आपसे बात करेगा। 

एक्टिविस्ट कविता कृष्णन ने ट्वीटर पर किया पोस्ट
एक्टिविस्ट कविता कृष्णन ने बप्पादित्य सरकार के साथ हुई इस घटना के बारे में ट्वीटर पर जानकारी दी है। उन्होंने सरकार के साथ हुई बातचीत के स्क्रीनशॉट पोस्ट किए थे। इसमें सरकार ने लिखा है, जैसे ही मैं कैब में बैठा, मैंने अपने एक दोस्त को फोन किया और हम अलग-अलग शहरों में प्रदर्शन पर बात कर रहे थे। हम कैसे जयपुर के प्रदर्शन को और असरदार बना सकते हैं। बात करने के थोड़ी देर बाद उबर ड्राइवर रुका और पूछा कि क्या वो एटीएम जा सकता है, मैंने कहा हां। कुछ मिनटों बाद, वो दो पुलिसवालों के साथ आया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना