Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Air Force Officer Martyr Mayur Patil Funeral In Nandurbar

पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही

गुजरात के बड़ौदा में एयरफोर्स के जवान मयूर पाटिल की परेड करते समय बेहोश होने के बाद मौत हुई।

Nilesh patil | Last Modified - Jan 28, 2018, 06:08 PM IST

    • मयूर पाटिल की पत्नी पूजा अपने पति को बार-बार उठने कहती रही। वो बार-बार कह रही थीं कि आपने तो मुझसे वादा किया था।

      नंदूरबार. गुजरात के बड़ौदा में एयरफोर्स के जवान मयूर पाटिल की परेड करते समय बेहोश होने के बाद मौत हुई। मयूर पाटिल का अंतिम संस्कार शुक्रवार शाम सरकारी सम्मान के साथ किया गया। मयूर की पत्नी सात माह की प्रेग्नेंट है। वह अपने पति की बाॅडी के पास बैठकर उसे जगाने की कोशिश करती रही। वह बार-बार कह रह थी कि आप हमारा बच्चा देखे बिना ही हमसे दूर कैसे चले गए। 13 साल पहले ज्वाइन की थी एयरफोर्स...


      -प्राप्त जानकारी के मुताबिक भारतीय वायुसेना में कार्यरत और बड़ोदा में नियुक्त जवान मयूर अशोक पाटिल मूल रुप से महाराष्ट्र के नंदूरबार जिले के नवापुर के रहने वाले थे।
      -गुरुवार को बड़ौदा में गणतंत्र दिवस के लिए परेड की जा रही थी। परेड खत्म होने के बाद मयूर को चक्कर आया और वे नीचे गिर गए। उनके साथियों ने उन्हें तुरंत हाॅस्पिटल में भर्ती कराया।
      -लेकिन इलाज के दौरान भी उन्हें होश नहीं आया। चिकित्सा अधिकारियों ने उन्हें देर रात मृत घोषित किया।
      -शुक्रवार को उनका पार्थिव नवापुर लाया गया और सरकारी सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के लिए पूर्व मंत्री एवं विधायक स्वरुपसिंह नाईक समेत जिले के नेता और हजारों लोग मौजूद थे।

      नम हुई सबकी आंखें

      -मयूर का पार्थिव जब अंतिम संस्कार के लिए लाया गया था तो उनकी प्रेग्नेंट पत्नी पूजा ने माथे का सिंदूर मिटाने से और चुड़ियां तोड़ने से मना कर दिया। रोते हुए कहा कि पति ने वादा किया था कि वह उनके बच्चे को देखने जरुर आएंगे। मैं उन्हें एेसे नहीं जाने दूंगी उन्हें हमारा होने वाला बच्चा देखना है।

      13 साल पहले ज्वाइन की थी एयरफोर्स

      -मयूर के पिता एबी पाटिल नवापुर के आर्ट, काॅमर्स, साइंस काॅलेज में वरिष्ठ प्रोफेसर हैं। पाटिल परिवार मूल रुप से जलगांव जिले के अमलनेर के पिलोदा गांव से है। मयूर के पश्चात माता-पिता, पत्नी, दो भाई परिवार में हैं। मयूर ने 2005 में एयरफोर्स ज्वाइन की थी। अपने 13 साल के कार्यकाल में उन्होंने जयपुर, श्रीनगर, वडनगर, बडौदा आदि जगहों पर सर्विस की। उनके सहयोगी आॅफिसर दीपक झा ने बताया कि मयूर एक ईमानदार और नेक अफसर थें। उनके खिलाफ कभी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      पूजा ने माथे की सिंदूर पोछने और चूड़ियां तोड़ने मना कर दिया।
    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      मयूर पाटिल को प्रशासन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      अंतिम संस्कार में सभी पार्टियों के नेता समेत हजारों लोग पहुंचे थे।
    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      पुलिस ने मयूर पाटिल को सलामी दी।
    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      इस तरह निकाली अंतिमयात्रा।
    • पति की मौत के बाद भी प्रेग्नेंट पत्नी ने नहीं मिटाया मांग का सिंदूर, चीखती रही
      +6और स्लाइड देखें
      शहीद पाटिल के भाई ने उन्हें मुखाग्नि दी।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Air Force Officer Martyr Mayur Patil Funeral In Nandurbar
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×