--Advertisement--

पति-पत्नी के बीच चल रहा था विवाद, कोर्ट ने व्हाट्स ऐप वीडियो कॉल से करवाया तलाक

जर्मनी में नौकरी करने वाले पति से संपर्क करके व्हाट्सऐप वीडियो कॉलिंग के जरिए तलाक देने का आदेश कोर्ट ने दिया है।

Danik Bhaskar | Jan 22, 2018, 09:32 AM IST
बारामती कोर्ट-फाइल फोटो। बारामती कोर्ट-फाइल फोटो।

पुणे. शहर से सटे बारामती में व्हाट्स ऐप वीडियो कालिंग के जरिए कोर्ट ने तलाक के एक मामले का निर्णय दिया। इतिहास में पहली बार है जब हसबैंड और वाइफ का तलाक वीडियो कालिंग के जरिए करवाया गया है। यहां जर्मनी में नौकरी करने वाले पति से संपर्क करके भारत में रह रही पत्नी को व्हाट्स ऐप कॉलिंग के जरिए तलाक देने का आदेश कोर्ट ने दिया है। बता दें कि दोनों पति-पत्नी दो साल से अलग अलग रह रहे थे। क्या है पूरा मामला...

- यह सफल प्रयोग बारामती के वरिष्ठ स्तर दीवानी न्यायाधीश महेंद्र बडे की कोर्ट में हुआ है। बारामती के रहने वाले सुरेश और राधिका(बदला हुआ नाम) के बीच काफी दिनों से खटास चल रही थी।
- नौकरी के सिलसिले में पति को अकसर जर्मनी जाना पड़ा था। यह बात पत्नी को पसंद नहीं थी और दोनों के बीच झगड़े बढ़ते गए। मामला इस कदर बढ़ा कि नौबत तलाक तक आ गई।
- इसके बाद दोनों ने आपसी सहमति से बारामती कोर्ट में 27 जून 2017 को तलाक के लिए अर्जी दाखिल की। इसके बाद पति नौकरी के सिलसिले में फिर से जर्मनी चला गया और वह कई महीनों से जर्मनी में ही है।
- पति के कोर्ट में हाजिर न होने से इस फैसले पर लगातार देरी हो रही थी। जिसके बाद वाइफ की ओर से केस की पैरवी कर रहे एडवोकेट प्रसाद खारतुडे ने वीडियो कॉलिंग द्वारा पति से तलाक को लेकर जवाब मांगने की अनुमित कोर्ट से मांगी थी। जिसे कोर्ट ने मंजूरी दे दी थी।
- इसके बाद कोर्ट ने वीडियो कॉल के जरिए हसबैंड से बात की और उसका पक्ष जाना।

सुलह के लिए दिया था 6 महीने का वक्त
- बता दें कि पति-पत्नी को तलाक लेने से पहले 6 महीने का समय दिया गया था, लेकिन 6 महीने का वक्त गुजर जाने के बाद भी इनके रिश्ते नहीं सुधरे।
- वीडियो कॉलिंग द्वारा हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट ने पति से पूछा कि आप कहां हो? कोर्ट में क्यों उपस्थित नहीं हुए? क्या फिर से साथ रहने की इच्छा है?
- पति ने कोर्ट को बताया कि वह जर्मनी में है और नौकरी की वजह से भारत में वापस नहीं आ सकता। इसके बाद कोर्ट ने वाइफ का पक्ष सुना और दोनों की अलग होने की मंशा को देखते हुए इनके तलाक को मंजूरी प्रदान कर दी।

पहली बार व्हाट्स ऐप वीडियो कॉलिंग से हुआ तलाक
- बारामती कोर्ट के इतिहास में पहली बार वॉटस ऐप वीडियो कॉलिंग का इस्तेमाल करके दोनों पति-पत्नी को तलाक मिला है।

सिंबॉलिक फोटो सिंबॉलिक फोटो