Hindi News »Maharashtra Latest News »Pune News »News» Budget Special: Interesting Facts About India Only Private Rail Route.

भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 02, 2018, 01:09 PM IST

इस ट्रैक का इस्तेमाल करने वाली इंडियन रेलवे हर साल एक करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी ब्रिटेन की एक प्राइवेट कंपनी को देती है।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    इस रेल रूट पर सिर्फ एक ट्रेन शकुंतला एक्सप्रेस चलती है।

    अमरावती.गुरुवार को आम बजट के साथ रेल बजट भी पेश किया गया। दरअसल मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद रेल बजट को भी आम बजट का ही हिस्सा बना दिया गया है। इस मौके पर हम आपको एक ऐसी रेल लाइन के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका मालिकाना हक भारतीय रेलवे के पास नहीं है। ब्रिटेन की एक निजी कंपनी इसका संचालन करती है। नैरो गेज (छोटी लाइन) के इस ट्रैक का इस्तेमाल करने वाली इंडियन रेलवे हर साल एक करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी ब्रिटेन की एक प्राइवेट कंपनी को देती है। इस ट्रैक पर सिर्फ एक ट्रेन ...


    - इस रेल ट्रैक पर शकुंतला एक्सप्रेस के नाम से सिर्फ एक पैसेंजर ट्रेन चलती है। अमरावती से मुर्तजापुर के 189 किलोमीटर के इस सफर को यह 6-7 घंटे में पूरा करती है।
    - अपने इस सफर में शकुंतला एक्सप्रेस अचलपुर, यवतमाल समेत 17 छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकती है।
    - 100 साल पुरानी 5 डिब्बों की इस ट्रेन को 70 साल तक स्टीम का इंजन खींचता था। इसे 1921 में ब्रिटेन के मैनचेस्टर में बनाया गया था।
    - 15 अप्रैल 1994 को शकुंतला एक्प्रेस के स्टीम इंजन को डीजल इंजन से रिप्लेस कर दिया गया।

    - इस रेल रूट पर लगे सिग्नल आज भी ब्रिटिशकालीन हैं। इनका निर्माण इंग्लैंड के लिवरपूल में 1895 में हुआ था।
    - 7 कोच वाली इस पैसेंजर ट्रेन में प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा लोग ट्रेवल करते हैं।


    देनी पड़ती है 1 करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी
    - इस रूट पर चलने वाली शकुंतला एक्सप्रेस के कारण इसे 'शकुंतला रेल रूट' के नाम से भी जाना जाता है।
    - अमरावती का इलाका अपने कपास के लिए पूरे देश में फेमस था। कपास को मुंबई पोर्ट तक पहुंचाने के लिए अंग्रेजों ने इसका निर्माण करवाया था।
    - 1903 में ब्रिटिश कंपनी क्लिक निक्सन की ओर से शुरू किया गया रेल ट्रैक को बिछाने का काम 1916 में जाकर पूरा हुआ।
    - 1857 में स्थापित इस कंपनी को आज सेंट्रल प्रोविन्स रेलवे कंपनी के नाम से जाना जाता है।
    - ब्रिटिशकाल में प्राइवेट फर्म ही रेल नेटवर्क को फैलाने का काम करती थी।
    - 1951 में भारतीय रेल का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया। सिर्फ यही रूट भारत सरकार के अधीन नहीं था।
    - इस रेल रूट के बदले भारत सरकार हर साल इस कंपनी को 1 करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी देती है।

    खस्ताहाल है ट्रैक
    - आज भी इस ट्रैक पर ब्रिटेन की इस कंपनी का कब्जा है। इसके देख-रेख की पूरी जिम्मेदारी भी इसपर ही है।
    - हर साल पैसा देने के बावजूद यह ट्रैक बेहद जर्जर है। रेलवे सूत्रों का कहना है कि, पिछले 60 साल से इसकी मरम्मत भी नहीं हुई है।
    - इसपर चलने वाले जेडीएम सीरीज के डीजल लोको इंजन की अधिकतम गति 20 किलोमीटर प्रति घंटे रखी जाती है।
    - इस सेंट्रल रेलवे के 150 कर्मचारी इस घाटे के मार्ग को संचालित करने में आज भी लगे हैं।

    दो बार बंद भी हुई
    - इस ट्रैक पर चलने वाली शकुंतला एक्सप्रेस पहली बार 2014 में और दूसरी बार अप्रैल 2016 में बंद किया गया था।
    - स्थानीय लोगों की मांग और सांसद आनंद राव के दबाव में सरकार को फिर से इसे शुरू करना पड़ा।
    - सांसद आनंद राव का कहना है कि, यह ट्रेन अमरावती के लोगों की लाइफ लाइन है। अगर यह बंद हुई तो गरीब लोगों को बहुत दिक्कत होगी।
    - आनंद राव ने इस नैरो गेज को ब्रॉड गेज में कन्वर्ट करने का प्रस्ताव भी रेलवे बोर्ड को भेजा है।
    - भारत सरकार ने इस ट्रैक को कई बार खरीदने का प्रयास भी किया लेकिन तकनीकी कारणों से वह संभव नहीं हो सका।

  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    कभी इस इंजन से शकुंतला एक्सप्रेस को खींचा जाता था।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    बहुत धीमी गति से चलती है शकुंतला एक्सप्रेस।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    इस रूट पर आज भी ब्रिटिशकालीन सिग्नल सिस्टम लगे हैं।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    यवतमाल तक चलती है यह ट्रेन।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    इस ट्रेन में लगे हैं सिर्फ तीन डिब्बे।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    इंडियन रेलवे हर साल एक करोड़ 20 लाख की रॉयल्टी ब्रिटेन की एक प्राइवेट कंपनी को देती है।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    ज्यादातर लोग बिना टिकट के इस रूट पर चलते हैं।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    शकुंतला एक्सप्रेस के इंजन को देखता हुआ ड्राइवर।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    कभी इस ट्रेन को स्टीम इंजन से चलाया जाता था।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    बेहद खस्ताहाल है यह रेल रूट।
  • भारत के इस हिस्से में आज भी है ब्रिटेन का कब्जा, देना पड़ता है करोड़ों का लगान
    +11और स्लाइड देखें
    दो बार बंद हो चुकी है यह ट्रेन।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Budget Special: Interesting Facts About India Only Private Rail Route.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×