Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Elphinstone Bridge Stampede Railway Paid Compensation To 36 Victims.

एलफिंस्टन ब्रिज हादसा: सिर्फ पांच महीने में रेलवे ने 36 पीड़ितों को दिया मुआवजा

मृतकों के परिजनों को आठ-आठ लाख रुपए जबकि घायलों को 25 हजार से लेकर आठ लाख रुपए तक मुआवजा दिया गया।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 14, 2018, 10:59 AM IST

  • एलफिंस्टन ब्रिज हादसा: सिर्फ पांच महीने में रेलवे ने 36 पीड़ितों को दिया मुआवजा
    +1और स्लाइड देखें
    पहली बार है जब रेलवे ने इतनी जल्दी किसी को मुआवजा दिया है।

    मुंबई. सितंबर 2017 में मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन के फुट ओवरब्रिज पर हुए भगदड़ के शिकार 36 पीड़ितों को रेलवे ने मुआवजा दे दिया है। यह मुआवजा 17 मृत लोगों के परिजनों और 19 घायलों को दिया गया है। मृतकों के परिजनों को आठ-आठ लाख रुपए जबकि घायलों को 25 हजार से लेकर आठ लाख रुपए तक मुआवजा दिया गया। पहली बार इतना जल्दी मिला मुआवजा..


    - रेलवे अधिकारियों ने बताया कि यह सुनिश्चित किया गया है कि पीड़ितों को बिना किसी विलंब के राशि मिले।
    - रेलवे प्रवक्ता के मुताबिक, "आमतौर पर मुआवजा का दावा सुलझने में दो से चार साल का समय लगता है, लेकिन यह बहुत जल्द सुलझ गया। यह पहली बार है जब दावों के मामले में कोई भी वकील शामिल नहीं हुआ।"

    एलफिन्सटन हादसे की वजह भीड़-बारिश-अफवाह: रिपोर्ट

    - इन्वेस्टीगेशन पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि हादसे की वजह भीड़, बारिश और अफवाह थी। जांच रिपोर्ट में रेलवे अफसरों और कर्मचारियों को क्लीनचिट दे दी गई।
    - रेलवे के जांच पैनल ने हादसे में घायल हुए 30 लोगों से बात की। उनसे बातचीत के आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गई।
    - सेंट्रल रेलवे ने कहा कि पैनल के मुताबिक, "भगदड़ मचने की अहम वजह पुल गिरने की अफवाह थी। जिसके कारण स्थिति बिगड़ती चली गई। भारी बारिश के चलते लोग अचानक सीढ़ियों पर आ गए। जिससे भीड़ हो गई। ब्रिज पर लगातार यात्रियों की संख्या बढ़ती जा रही थी। जिनके पास सामान था, उनका बैलेंस बिगड़ गया और वे गिर गए। इससे भगदड़ मच गई।

    कब हुआ था हादसा?

    - 29 सितंबर हुआ था। 23 लोग मारे गए थे। मरने वालों में 8 महिलाएं शामिल थीं। वेस्टर्न रेलवे के मुताबिक, लोग बारिश से बचने के लिए एफओबी पर जमा हो गए और अफवाह की वजह से भगदड़ मच गई।

    104 साल पुराना है एलफिन्स्टन ब्रिज

    - इस फुटओवर ब्रिज से हर दिन 3 लाख से ज्यादा लोग गुजरते हैं। इस इलाके में कई कॉर्पाेरेट ऑफिस हैं। सुबह 10 से 11 बजे ऑफिस आने जाने वालों की वजह से अक्सर भीड़ रहती है। त्योहारी सीजन की वजह से भीड़ और ज्यादा थी।
    - रेलवे के मुताबिक, जिस ब्रिज पर हादसा हुआ वो 5 मीटर चौड़ा और 32 मीटर लंबा है। इस पर डुअल एक्जिट है।
    - यह ऐसा रेलवे स्टेशन है जो एलफिन्स्टन रोड और परेल रेलवे स्टेशन को जोड़ता है। यह स्टेशन वेस्टर्न लाइन पर पड़ता है।
    - एलफिन्स्टन ब्रिज 104 साल पुराना था। 1911 में लॉर्ड एलफिन्स्टन के नाम पर स्टेशन बनाया गया था। इसके दो साल बाद ब्रिज बनाया गया। लॉर्ड एलफिन्स्टन 1853 से 1860 तक बॉम्बे के गवर्नर रहे थे। इस फुटओवर ब्रिज से हर दिन 3 लाख से ज्यादा लोग गुजरते हैं।

  • एलफिंस्टन ब्रिज हादसा: सिर्फ पांच महीने में रेलवे ने 36 पीड़ितों को दिया मुआवजा
    +1और स्लाइड देखें
    इस हादसे में 23 लोगों की मौत हुई थी।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×