--Advertisement--

महाराष्ट्र : मंत्रालय के सामने जहर पीने वाले 84 वर्षीय किसान की मौत, बेटे ने दिया धरना

सही मुआवजा मिलने के लिए उन्होंने कई बार मंत्रालय के चक्कर काटे थे।

Dainik Bhaskar

Jan 29, 2018, 01:31 PM IST
धुले जिले का किसान धर्मा पाटिल (उम्र 84) ने 22 जनवरी को मंत्रालय के सामने चूहे मारने वाला जहर पी लिया था।  (फाइल) धुले जिले का किसान धर्मा पाटिल (उम्र 84) ने 22 जनवरी को मंत्रालय के सामने चूहे मारने वाला जहर पी लिया था। (फाइल)

मुंबई. आठ दिन पहले मंत्रालय के सामने जहर पीकर आत्महत्या की कोशिश करने वाले 84 वर्षीय किसान धर्मा पाटिल की रविवार शाम जेजे हाॅस्पिटल में इलाज के चलते मौत हुई। बता दें कि धर्मा पाटिल जमीन के अधिग्रहण के एवज में पर्याप्त मुआवजा न मिल पाने के कारण कई महीनों से परेशान था। सही मुआवजा मिलने के लिए उन्होंने कई बार मंत्रालय के चक्कर काटे थे। वे धुले जिले के रहने वाले थे। सोलर पावर प्लांट के लिए अधिग्रहित हुई थी जमीन.......


-धर्मा पाटिल ने 22 जनवरी को सचिवालय के सामने चूहे मारने वाला जहर पी लिया था।
उनके परिजनों का आरोप है कि सरकार ने उनकी पांच एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था। जिसमें 600 आम के पेड़ थे।
-जिसके एवज में मात्र चार लाख रुपए ही दिए थे। सरकार ने यह जमीन सोलर पावर प्लांट के लिए अधिग्रहित की थी।


शहीद का दर्जा देने की मांग

-धर्मा पाटिल के बेटे नरेंद्रने बताया कि 'पिताजी जमीन के मुआवजे के बारे में शिकायत दर्ज कराने के लिए पिछले तीन महीने से लगातार राज्य प्रशासनिक मुख्यालय के चक्कर लगा रहे थे।
- किसी भी अधिकारी ने उनकी शिकायत नहीं सुनी। पाटिल उर्जा मंत्री चंद्रशेखर बवांकुले से मुलाकात के लिए आए थे , लेकिन उनकी मुलाकात अचनाक कैसिंल कर दी गई।
-जिसके बाद हताश धर्मा पाटिल ने राज्य सचिवालय के सामने जहर खा लिया। महाराष्ट्र सरकार ने किसान को 15 लाख रुपये की सहायता राशि देने की पहल की लेकिन बेटे न लेने से इंकार कर दिया।

-नरेन्द्र पाटिल ने कहा कि परिवार वाले तब तक शव को नहीं लेंगे जब तक राज्य सरकार मेरे पिता को 'शहीद' का दर्जा और 5 एकड़ जमीन के लिए उचित मुआवजा राशि देने का लिखित आश्वासन न दे।
-किसान पाटिल की मौत के बाद विपक्ष ने सरकार पर आरोप लगाए हैं कि सरकार की लापरवाही और एंटी किसान नीतियों के कारण किसान की मौत हुई है।

सरकार के खिलाफ धारा 302 लगाए

-महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने ट्विट करके एक किसान धर्मा पाटिल की माैत पर दुख जताया और इसे सरकार द्वारा की गयी हत्या बताया है।
-चव्हाण ने लिखा कि सरकार के खिलाफ 302 की धारा लगनी चाहिए।

धर्मा के बेटे नरेंद्र पाटिल ने जेजे हाॅस्पिटल के सामने धरना दिया है। उसने अपने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है। धर्मा के बेटे नरेंद्र पाटिल ने जेजे हाॅस्पिटल के सामने धरना दिया है। उसने अपने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है।
X
धुले जिले का किसान धर्मा पाटिल (उम्र 84) ने 22 जनवरी को मंत्रालय के सामने चूहे मारने वाला जहर पी लिया था।  (फाइल)धुले जिले का किसान धर्मा पाटिल (उम्र 84) ने 22 जनवरी को मंत्रालय के सामने चूहे मारने वाला जहर पी लिया था। (फाइल)
धर्मा के बेटे नरेंद्र पाटिल ने जेजे हाॅस्पिटल के सामने धरना दिया है। उसने अपने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है।धर्मा के बेटे नरेंद्र पाटिल ने जेजे हाॅस्पिटल के सामने धरना दिया है। उसने अपने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..