--Advertisement--

34 महिलाएं चलाती हैं देश का पहला 'लेडिज स्पेशल' रेलवे स्टेशन, अब दर्ज हुआ ये रिकाॅर्ड

सेंट्रल रेलवे स्टेशन को पूरी तरह से महिला स्टाफ के हाथों सौंप दिया है।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 09:53 AM IST
सेंट्रल रेलवे ने जुलाई 2017 में इस स्टेशन को लेडीज स्पेशल बनाया है। सेंट्रल रेलवे ने जुलाई 2017 में इस स्टेशन को लेडीज स्पेशल बनाया है।

मुंबई. देश का पहला 'लेडिज स्पेशल' रेलवे स्टेशन माटुंगा का नाम लिम्का बुक आॅफ रिकाॅर्ड में दर्ज हुआ है। सेंट्रल रेलवे ने माटुंगा रेलवे स्टेशन को पूरी तरह से महिला स्टाफ के हाथों सौंप दिया है। यह स्टेशन 34 महिलाएं चलाती हैं। इससे पहले जयपुर का 'श्यामनगर' मेट्रो स्टेशन महिलाओं द्वारा संचालित स्टेशन है। महिलाओं को सशक्त बनाने की रेलवे की पहल.....


-माटुंगा स्टेशन पर कुछ 34 महिला कर्मचारियों का स्टाफ है, जिसमें 11 बुकिंग क्लर्क्स, 7 टिकट कलेक्टर्स, 2 चीफ बुकिंग अडवाइजर्स, 5 रेलवे पुलिसकर्मी, 5 पॉइंट पर्सन, 2 अनाउंसर्स और एक स्टेशन मैनेजर शामिल हैं। सेंट्रल रेलवे ने जुलाई 2017 में इस स्टेशन को 'लेडिज स्पेशल' बनाया है।
-रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक "महिलाओं को सशक्त बनाने की यह एक छोटी सी पहल है। हमारे कुछ पैसेंजर्स रिजर्वेशन सेंटर और उपनगरीय ट्रेनों में टिकटिंग सिस्टम पूरी तरह महिलाओं द्वारा संभाले जाते हैं। इसके बाद फैसला लिया गया कि एक पूरा स्टेशन महिलाओं को सौंपा जाना चाहिए।"
-6 महीने पहले किया गया यह प्रयोग सफल हो रहा है अब अन्य कुछ और स्टेशनों को भी पूरी तरह महिलाओं को सौंपा जा सकता है।

इस वजह से बना लेडिज स्पेशल स्टेशन

-माटुंगा रेलवे स्टेशन के पास काफी काॅलेजेस हैं, स्टेशन पर स्टूडेंट्स की संख्या भी ज्यादा होती है। रेलवे सुरक्षा बल ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए इस महिला अधिकारी कर्मचारी नियु्क्त करने की डिमांड की थी। इसके लिए कई महिला कर्मचारियों को पहले ही माटुंगा स्टेशन ट्रांसफर किया गया।

इस स्टेशन पर टिकिट बुकिंग से लेकर हर काम महिलाओं के जिम्मे हैं। इस स्टेशन पर टिकिट बुकिंग से लेकर हर काम महिलाओं के जिम्मे हैं।
स्टेशन के कंट्रोल रूम तैनात महिला कर्मचारी। स्टेशन के कंट्रोल रूम तैनात महिला कर्मचारी।
रेलवे स्टेशन जाने का रास्ता। रेलवे स्टेशन जाने का रास्ता।
रेलवे स्टेशन। रेलवे स्टेशन।