--Advertisement--

मराठवाडा, विदर्भ में बारिश के साथ गिरे ओले, किसानों की फसल चौपट, 4 की मौत

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 11:01 AM IST

अचानक हुई बारिश व ओलावृष्टि से गेहूं, चना व संतरे की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है।

hailstorm in marathwada and vidarbha

वासिम/ मुंबई । विदर्भ और मराठवाडा के अधिकतर हिस्सों में रविवार को हुई बेमौसम बारिश व ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान हुआ है। वहीं गाज गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि ओलावृष्टि से लगी चोटों के कारण एक महिला ने भी दम तोड़ दिया। अचानक हुई बारिश व ओलावृष्टि से गेहूं, चना व संतरे की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है।


-अमरावती जिले की दर्यापुर तहसील अंतर्गत ग्राम नायगांव निवासी किसान गंगाधरराव कोकाटे की गाज गिरने से मृत्यु हो गई। वह खेत में चने के ढेर को बारिश से बचाने के लिए गया तब यह हादसा हुआ। -वहीं गोंदिया जिले की देवरी तहसील के आदिवासी ग्राम जेठभावड़ा में दोपहर करीब 3 बजे बिजली गिरने से विनोद कुशन गावडकर (25) की मृत्यु हो गई, जबकि जसवंता रुखमलाल वाघाडे (49) गंभीर रूप से घायल हो गई।
-उधर वाशिम के महागांव में 80 वर्षीय महिला यमुनाबाई रामभाऊ हुंबाड की ओलों की चोटों से मौत हो गई।
-महिला सुबह गांव के बाहर स्थित मंदिर में दर्शन के लिए गई थी, वापस लौटते समय वह ओलावृष्टि की चपेट में आ गई।
-वहीं बुलढाणा जिले की मोताला तहसील के गिलोरी गांव में खेत में काम करने गई निक्कीता गणेश राठोर (16) की गाज गिरने से मौत हो गई।

यहां किसानों को हुआ भारी नुकसान

अमरावती : जिले में दोपहर को तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि शुरू हो गई। जिले की अधिकांश तहसीलों में ओलावृष्टि की वजह से कपास, गेहूं, चने की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। संतरे के फूल भी झड़ गए।


वर्धा : सैकड़ों हेक्टेयर में लगी गेहूं, चना व कपास की फसलें प्रभावित हुईं। गोंदिया जिले में दोपहर के समय बारिश के साथ चली आंधी से कई मकानों की छत उड़ गईं। कई पेड़ उखड़कर मार्गों पर गिर पड़े। यहां भी रबी की फसलों को क्षति पहुंची है।
भंडारा : जिले में मूसलाधार बारिश से लाखोड़ी और मटर के साथ सब्जी-भाजी को नुकसान हुआ है। अनार के पेड़ भी तेज हवाओं के कारण उखड़ गए।
यवतमाल : जिले की आर्णी, कलंब एवं पुसद तहसील में भी बारिश से फसलों को नुकसान की खबर है।


विधानसभा के विपक्ष नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा है कि प्रदेश के किसानों को ओलावृष्टि और बेमौसम बारिश के कारण हुए नुकसान की भरपाई महाराष्ट्र विधानमंडल के बजट सत्र की शुरुआत (26 फरवरी) से दी जानी चाहिए। घर, खेती और पशुधन काे हुए नुकसान का पता लगा करके सत्र संपन्न होने से पहले किसानों को मदद दी जानी चाहिए।

hailstorm in marathwada and vidarbha
hailstorm in marathwada and vidarbha
hailstorm in marathwada and vidarbha
X
hailstorm in marathwada and vidarbha
hailstorm in marathwada and vidarbha
hailstorm in marathwada and vidarbha
hailstorm in marathwada and vidarbha
Astrology

Recommended

Click to listen..