--Advertisement--

10 पॉइंट्स में जानिए पुणे में कैसे भड़की हिंसा की आग, क्या है वर्तमान का हाल

कई जगहों पर सरकारी बसों में तोड़फोड़ की गई और प्राइवेट गाड़ियों को आग के हवाले किया गया।

Dainik Bhaskar

Jan 02, 2018, 07:08 PM IST
पुणे में कई गाड़ियों में ऐसे की पुणे में कई गाड़ियों में ऐसे की

पुणे. भीमा-कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं सालगिरह पर सोमवार को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान दो गुटों में हुई हुई हिंसा मंगलवार को पुणे के अलावा मुंबई, औरंगाबाद और राज्य के कई शहरों में भी देखने को मिली। कई जगहों पर सरकारी बसों में तोड़फोड़ की गई और प्राइवेट गाड़ियों को आग के हवाले किया गया। मुंबई में भी कुछ जगहों पर लोकल ट्रेन रोकने का मामला सामने आया। इस पैकेज में हम 10 पॉइंट्स में यह पूरा विवाद सिलसिलेवार ढंग से बताने जा रहे हैं।

#1. ऐसे शुरू हुआ यह पूरा विवाद

- 1 जनवरी 1818 में कोरेगांव भीमा की लड़ाई में पेशवा बाजीराव द्वितीय पर अंग्रेजों ने जीत दर्ज की थी। इसमें कुछ संख्या में दलित भी शामिल थे।
- अंग्रेजों ने कोरेगांव भीमा में अपनी जीत की याद में जयस्तंभ का निर्माण कराया था। बाद में यह दलितों का प्रतीक बन गया।
- हर साल हजारों की संख्या में दलित समुदाय के लोग जयस्तंभ पर श्रद्धांजलि देते हैं। सोमवार को रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया (अठावले) ने जंग की 200वीं बरसी पर खास कार्यक्रम कराया था। मराठा कम्युनिटी इस प्रोग्राम का विरोध कर रही थी।
- इसी के बाद दोनों गुट आपस में भिड गए और पेरने फाटा के पास झड़प में एक शख्स की मौत हो गई।

#2. कई बड़े नेता हुए थे शामिल
इसमें महाराष्ट्र के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री गिरीश बापट, बीजेपी सांसद अमर साबले, डेप्युटी मेयर सिद्धार्थ डेंडे और अन्य नेता शामिल हुए। इस मौके पर देशभर से करीब 2 लाख दलित यहां इकट्ठा हुए थे।

#3.इन शहरों में नजर आया सबसे ज्यादा असर
मंगलवार को पुणे की हिंसा की आग बढ़ते हुए औरंगाबाद, मुंबई समेत महाराष्ट्र के एक दर्जन शहरों तक पहुंची। ठाणे में महिलाओं ने हाईवे जाम किया वहीं अकोला में सरकारी बसों में तोड़फोड़ की गई। इनके अलवा बीड, परभणी, सोलापुर, जालना और बुलढाणा में भी प्रोटेस्ट हुआ है। चेंबूर में ऐम्बुलेंस में तोड़फोड़ की गई है। उधर, कुर्ली-गोवंडी के बीच रेल यातायात भी बाधित हुआ है। नवी मुंबई को जोड़ने वाली हार्बर लाइन चेंबूर में ठप है। घाटकोपर में ईस्टर्न एक्सप्रेसवे को जाम किया गया है।

#4. सरकार ने यह लिया एक्शन
हालात काबू में करने के लिए राज्य सरकार ने महाराष्ट्र के 13 शहरों में हिंसाग्रस्त इलाकों में धारा 144 लागू की है। पुणे के भीमा कोरेगांव इलाके में मोबाइल टॉवर बंद करने और नेटवर्क जैमर लगाने के निर्देश दिए गए हैं। भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में कई जगहों से करीब 100 लोगों को हिरासत में लिया गया है। इनसे पूछताछ की जा रही है।

#5. ऐसे हैं राज्य में सुरक्षा के इंतजाम
पुणे के हिंसा वाले शिकरापुर, भीमा कोरेगांव इलाके और शिकरापुर स्टेशन में सीआरपीएफ की कई टुकड़ियां तैनात की गई हैं। इनके अलावा कई थानों की पुलिस फोर्स तैनात की गई है। औरंगाबाद, पुणे और मुंबई में भी एंटी रॉइट स्क्वॉड को अलर्ट पर किया गया है।

#6. कई शहरों में बंद करवाई गई शॉप
- पुणे, औरंगाबाद, मुंबई और ठाणे के कई इलाकों प्रदर्शनकारियों ने दुकानों को बंद करवाया है। जबरन दुकान बंद करवाने को लेकर ठाणे में स्थानीय दुकानदारों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई है।

#7. हिंसा की न्यायिक जांच का आदेश
- महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस हिंसा की जांच हाईकोर्ट के एक रिटायर्ड जज से करवाने का आदेश दिया है। वहीं मृतक के परिजनों को 10 लाख का मुआवजा देने का ऐलान किया है।

#8. अफवाहों पर ध्यान न दें
मुंबई पुलिस के PRO ने अफवाहों पर ध्यान न देने को कहा है। उन्होंने कहा कि चेंबूर या दूसरे पूर्वी उपनगरीय इलाके में धारा 144 नहीं लगाई गई है। हार्बर लाइन पर CSMT-कुर्ला और मानखुर्द के बीच स्पेशल ट्रेनें चल रही हैं। सेंट्रल रेलवे पर बाकी सभी सेवाएं सामान्य रूप से संचालित हो रही हैं।

#9. बुधवार को महाराष्ट्र बंद का आवाहन
दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने पुणे में हुई हिंसा के विरोध में बुधवार को महाराष्ट्र बंद की अपील की है। वहीं उनके खिलाफ पुणे के एक सामाजिक कार्यकर्ता ने पुणे पुलिस को कंप्लेंट दी है।

#10. दो लोग हुए गिरफ्तार
न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक पुणे विवाद में डीजीपी ने बताया कि दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पिंपरी रेलवे स्टेशन इलाके से इन दोनों की गिरफ्तारियां हुई हैं।

आगे की स्लाइड्स में देखिए महाराष्ट्र में हुई हिंसा की कुछ और फोटोज ...

X
पुणे में कई गाड़ियों में ऐसे की पुणे में कई गाड़ियों में ऐसे की
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..