--Advertisement--

राजेश खन्ना का जबरा फैन बेचता है कंगियां, काका के लिए छोड़ी थी सरकारी नौकरी

घरवाले और दोस्त भी उसे राजेश खन्ना के नाम से बुलाते हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 28, 2017, 04:02 PM IST
सोलापुर- कुर्डुवाडी गांव में रहने वाले कासिम बचपन से ही राजेश खन्ना के फैन हैं। सोलापुर- कुर्डुवाडी गांव में रहने वाले कासिम बचपन से ही राजेश खन्ना के फैन हैं।

सोलापुर. बॉलीवुड के सुपरस्टार राजेश खन्ना यदि आज हमारे बीच होते तो 75 साल के हो गए होते। 29 दिसंबर 1942 को अमृतसर, पंजाब में जन्मे राजेश 18 जुलाई, 2012 को इस दुनिया को अलविदा कह गए थे। उनके निधन के बाद भी फैन्स की कमी नहीं है। एेसा ही एक फैन सोलापुर के कुर्डुवाडी गांव में रहता है। उसका रहन-सहन काका की तरह ही है। घरवाले और दोस्त भी उसे राजेश खन्ना के नाम से बुलाते हैं। काका के प्रति अपनी दीवानगी के लिए उसने सरकारी नौकरी भी छोड़ दी थी। स्टेशन पर गॉगल्स, कंघियां बेच करता है गुजारा...


- सोलापुर जिले के माढा तहसील के कुर्डुवाडी गांव में रहने वाले कासिम हबीब बचपन से राजेश खन्ना के फैन हैं।
- कासिम का हेयर स्टाइल भी राजेश खन्ना की तरह ही है। ​यहां तक कि उनका चलना-बोलना भी काका की तरह ही है। उनके दोस्त और घरवाले भी उन्हें राजेश खन्ना के नाम से ही बुलाते हैं। वहीं, जब कोई पहली बार कासिम को देखता है तो उसे भी अचरज होता है।

काका के लिए छोड़ी थी सरकारी नौकरी

कासिम को कुछ साल पहले एक सरकारी नौकरी लगी थी, लेकिन जब वे ज्वाइन करने गए तो पता चला कि उन्हें राजेश खन्ना के स्टाइल को हटाना पड़ेगा। वे काका जैसी हेयर स्टाइल और पोशाक में बदलाव नहीं करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने नौकरी ज्वाइन करने से इनकार कर दिया।


गॉगल्स, कंघियां बेच करते हैं गुजारा

- कासिम राजेश खन्ना की स्टाइल को फाॅलो करते हैं। उन्हें राजेश खन्ना की कई फिल्मों के सैकड़ों गाने याद हैं। नौकरी या जाॅब न करने की वजह से कासिम के पास गुजारा की समस्या थी तो उन्होंने कुर्डुवाडी में कंघियां और गॉगल्स बेचना शुरू किया। वे आज भी गांव में राजेश खन्ना के गाने गुनगुनाते हुए घूमते-फिरते हैं।

कासिम की स्टाइल राजेश खन्ना की तरह होने से लोग उन्हें देख चौंक जाते हैं। कासिम की स्टाइल राजेश खन्ना की तरह होने से लोग उन्हें देख चौंक जाते हैं।
घरवाले और दोस्त कासिम को राजेश के नाम से बुलाते हैं। घरवाले और दोस्त कासिम को राजेश के नाम से बुलाते हैं।
कासिम के होंठों पर राजेश खन्ना के ही गीत होते हैं। कासिम के होंठों पर राजेश खन्ना के ही गीत होते हैं।
कासिम को एक ऐड के लिए राजेश खन्ना के डुप्लिकेट का रोल भी मिला था, लेकिन कुछ कारण से वो ऐड कैंसल हो गया था। कासिम को एक ऐड के लिए राजेश खन्ना के डुप्लिकेट का रोल भी मिला था, लेकिन कुछ कारण से वो ऐड कैंसल हो गया था।
राजेश खन्ना के निधन पर कासिम बहुत रोए थे। राजेश खन्ना के निधन पर कासिम बहुत रोए थे।
कासिम गांव के रेलवे स्टेशन पर गाॅगल्स और कंघी बेचकर गुजारा करते हैं। कासिम गांव के रेलवे स्टेशन पर गाॅगल्स और कंघी बेचकर गुजारा करते हैं।
X
सोलापुर- कुर्डुवाडी गांव में रहने वाले कासिम बचपन से ही राजेश खन्ना के फैन हैं।सोलापुर- कुर्डुवाडी गांव में रहने वाले कासिम बचपन से ही राजेश खन्ना के फैन हैं।
कासिम की स्टाइल राजेश खन्ना की तरह होने से लोग उन्हें देख चौंक जाते हैं।कासिम की स्टाइल राजेश खन्ना की तरह होने से लोग उन्हें देख चौंक जाते हैं।
घरवाले और दोस्त कासिम को राजेश के नाम से बुलाते हैं।घरवाले और दोस्त कासिम को राजेश के नाम से बुलाते हैं।
कासिम के होंठों पर राजेश खन्ना के ही गीत होते हैं।कासिम के होंठों पर राजेश खन्ना के ही गीत होते हैं।
कासिम को एक ऐड के लिए राजेश खन्ना के डुप्लिकेट का रोल भी मिला था, लेकिन कुछ कारण से वो ऐड कैंसल हो गया था।कासिम को एक ऐड के लिए राजेश खन्ना के डुप्लिकेट का रोल भी मिला था, लेकिन कुछ कारण से वो ऐड कैंसल हो गया था।
राजेश खन्ना के निधन पर कासिम बहुत रोए थे।राजेश खन्ना के निधन पर कासिम बहुत रोए थे।
कासिम गांव के रेलवे स्टेशन पर गाॅगल्स और कंघी बेचकर गुजारा करते हैं।कासिम गांव के रेलवे स्टेशन पर गाॅगल्स और कंघी बेचकर गुजारा करते हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..