--Advertisement--

सचिन की बेटी के नाम पर बनाया फेक ट्विटर अकाउंट, NCP चीफ के खिलाफ किए ट्वीट

इस ट्विटर अकाउंट से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(एनसीपी) चीफ शरद पवार के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट किये गए थे।

Danik Bhaskar | Feb 08, 2018, 09:57 AM IST
ट्विटर ने उस फेक अकाउंट को सस् ट्विटर ने उस फेक अकाउंट को सस्

मुंबई. क्राइम ब्रांच की साइबर सेल ने 39 वर्षीय एक युवक को क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की बेटी सारा तेंदुलकर के नाम से फेक ट्विटर अकाउंट बनाने के आरोप में अरेस्ट किया गया है। इस ट्विटर अकाउंट से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(एनसीपी) चीफ शरद पवार के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट किये गए थे। बता दें कि सारा पढ़ाई के सिलसिले में पिछले कई महीने से लंदन में है। ऐसे बनाया सारा का फेक अकाउंट...

- मुंबई पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में 39 साल के नितिन आत्माराम सिसोदे को अंधेरी के लोकसरिता अर्पाटमेंट स्थित उसके फ्लैट से गिरफ्तार किया है।
- नितिन की तलाश अक्टूबर महीने से की जा रही थी। वे करीब पांच महीने पहले नितिन ने गुगल से सारा का फोटो डाउनलोड किया और फिर उसके नाम से ट्विटर अकाउंट बनाया।
- 9 अक्टूबर, 2017 को उसने इस अकाउंट से एक ट्वीट किया, जिसमें शरद पवार के लिए काफी कुछ आपत्तिजनक लिखा गया था।

- चूंकि सचिन की बेटी उन दिनों लंदन में थी, इसलिए सचिन के पीए ने सायबर पुलिस स्टेशन में शिकायत की थी।

ऐसे अरेस्ट हुआ आरोपी

- कई महीने के टेक्निकल इनवेस्टिगेशन के बाद सायबर पुलिस स्टेशन ने उस मोबाइल नंबर का आईएमईआई नंबर मंगलवार को ट्रेस कर लिया, जिस पर नेट के जरिए ट्विटर अकाउंट बनाया गया था।
- पुलिस ने इसके बाद इंटरनेट प्रोटोकॉल नंबर यानी आईपी अड्रेस भी लोकेट कर लिया। इसके बाद पुलिस नितिन के घर पहुंची।
- पुलिस ने आईपीसी की धारा 420, 419, 500 और आईटी ऐक्ट के 66 ए और 66 डी सेक्शन के तहत नितिन को अरेस्ट किया है।
- बुधवार को नितिन को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 9 फरवरी तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है।

मिल चुकी है सारा के अपहरण की धमकी
- इससे पहले पिछले महीने पुलिस ने देवकुमार मैती नामके शख्स को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर से गिरफ्तार किया था।
- उसने सारा को अगवा करने की धमकी भरे फोन किए थे। उसने सारा से कहा था कि यदि उसने उससे शादी नहीं की, तो वह उसे किडनैप कर लेगा।
- इस धमकी के बाद सचिन के परिवार की तरफ से बांद्रा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई थी।