--Advertisement--

पूर्व प्रेमी से बदला लेने महिला ने की 5 साल की बच्ची की हत्या, बाथरूम से मिला था शव

बता दें कि बच्ची का शव मुंबई से 200 किलोमीटर दूर गुजरात के नवसारी रेलवे स्टेशन के बाथरूम से बरामद हुआ था।

Danik Bhaskar | Mar 29, 2018, 12:19 PM IST
बच्ची की हत्या के बाद महिला अप बच्ची की हत्या के बाद महिला अप

मुंबई. नालासोपारा के विजयनगर इलाके से शनिवार की रात हुए 5 साल की बच्ची के अपहरण और हत्या की गुत्थी को सुलझाने में मुंबई पुलिस ने कामयाबी हासिल की है। इस मामले में बच्ची के पिता की गर्लफ्रेंड को अरेस्ट किया गया है। बता दें कि बच्ची का शव मुंबई से 200 किलोमीटर दूर गुजरात के नवसारी रेलवे स्टेशन के बाथरूम से बरामद हुआ था। पुलिस ने महिला को सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल डेटा की सहायता से पकड़ा है।


पिता से बदला लेने के लिए की हत्या
- पालघर पुलिस के पीआरओ हेमंत काटकर ने बताया कि नालासोपारा की 5 साल की बच्ची अंजलि संतोष सरोज की हत्या के मामले में पुलिस ने अनीता बाघेला (24) नाम की महिला को अरेस्ट किया है। पुलिस के मुताबिक, अनीता ने अंजलि का अपहरण और कत्ल उसके पिता संतोष सरोज (28) से बदला लेने के लिए किया था, जिसने कई वर्षों तक रिश्ते रखने के बाद उसे नकार दिया था।


दो बार गर्भवती हुई अनीता
- अनीता और अंजलि के पिता संतोष की दोस्ती 6 साल पहले हुई थी। तब संतोष ने उसे बताया था कि वह कुंवारा है। दोनों में प्रेम संबंध हो गए। अनीता दो बार गर्भवती हुई, लेकिन संतोष ने उसका गर्भपात करा दिया। जब अनीता ने शादी की जिद की, तो संतोष मुकरने लगा।
- इस बीच संतोष के घर में विवाद शुरू हो गया और उसने अपनी पत्नी को उत्तर प्रदेश में अपने गांव भेज दिया। कुछ दिनों से संतोष ने अनीता से दूरी बना ली थी। इससे नाराज होकर अनीता ने संतोष की बेटी का अपहरण करके उसकी हत्या कर दी।


पिता महिला को पहचानने से करता रहा इनकार
- इस मामले में आश्चर्यजनक पहलू यह भी रहा कि अंजलि का पिता आरोपी महिला अनीता बाघेला को पहचानने से इनकार करता रहा। उसके घर के पास से पुलिस को सीसीटीवी फुटेज मिला था, जिसमें अंजलि को ले जाते हुए एक महिला नजर आ रही थी। वह महिला संतोष की प्रेमिका थी। संतोष को डर था कि अनीता की पहचान कर लेने पर उसके प्रेम प्रसंग की पोल खुल जाएगी।


घर के पास ही रहती थी आरोपी महिला
- मामले में चौकानें वाली बात यह है कि जिस कातिल को पकड़ने के लिए पालघर पुलिस की 6 टीमें नालासोपारा से नवसारी तक खाक छान रही थी। वह कातिल मृतका के घर से महज कुछ ही दूरी पर अपने घर में सुकून से बैठी हुई थी।

मोबाइल डेटा से खुला राज

- अंजली के अपहरण के बाद पालघर के एसपी मंजुनाथ सिंगे ने जांच के लिए छह टीमें बनाई थीं। इस दौरान अंजलि के पिता के मोबाइल कॉल डिटेल से पता चला कि उसके नंबर पर एक युवती अनीता के नाराजगी भरे कई मेसेज आए हैं। अनीता का मोबाइल डेटा और सीडीआर देखकर पुलिस का शक गहरा गया। मंगलवार की देर रात पुलिस ने उसका लोकेशन ट्रेस करके उसे मनवेलपाडा से गिरफ्तार किया। कड़ी पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया।