Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Now Bal Thakchrey Statue At Lonavala Wax Museum.

लोनावाला के वेक्स म्यूजियम में मोम के बाल ठाकरे, बनाने में लगे पूरे तीन महीने

मोम से बने बाला साहब को बनाने में कारीगर सुनील कंडलुर को पूरे तीन महीने का समय लगा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 26, 2017, 03:53 PM IST

  • लोनावाला के वेक्स म्यूजियम में मोम के बाल ठाकरे, बनाने में लगे पूरे तीन महीने
    +1और स्लाइड देखें
    लोनावाला के वैक्स म्यूजियम में बाला साहब की प्रतिमा लगाई गई है।

    पुणे. शिवसेना संस्थापक स्वर्गीय बाला साहब ठाकरे का मोम से बना पुतला लोनावाला के वैक्स म्यूजियम में लगाया गया है। सोमवार को इस पुतले का उद्घाटन शिवसेना की युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे के हाथों किया गया। मोम से बने बाला साहब को बनाने में कारीगर सुनील कंडलुर को पूरे तीन महीने का समय लगा है। इसमें वे चांदी के सिंहासन पर बैठे हुए नजर आ रहे हैं। क्या है इस पुतले में खास....

    - देश के जाने-माने सेलेब्रिटीज को सम्मान देने के लिए वैक्स स्टेचू आर्टिस्ट सुनील कंडलुर ने लोनावाला में कुछ साल पहले वैक्स म्यूजियम की स्थापना की थी।
    - इसमें पीएम नरेंद्र मोदी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, आशा भोसले, जैकी श्राफ, अमिताभ बच्चन, माइकल जैक्सन समेत 90 से ज्यादा सेलेब्रिटीज के मोम के पुतले लगे हुए हैं।
    - इसी कड़ी में सुनील ने बाला साहब का मोम का पुतला बनाया है। सुनील ने बताया कि इस पुतले को बनाने में पूरे तीन महीने का समय लगा। बाला साहब के चेहरे को बनाना सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य था।
    - मोम के इस पुतले को म्यूजियम के बीच में लगाया जाएगा।

  • लोनावाला के वेक्स म्यूजियम में मोम के बाल ठाकरे, बनाने में लगे पूरे तीन महीने
    +1और स्लाइड देखें
    इसमें बनाने में पूरे तीन महीने का टाइम लगा है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Now Bal Thakchrey Statue At Lonavala Wax Museum.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×